अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

बेहतर

   एक छोटे बच्चे के घर के बाहर साइरन बजने की आवाज़ आने लगी। क्योंकि वह उस आवाज़ से अपरिचित था, इसलिए उसने अपनी माँ से उसके बारे में पूछा। उसकी माँ ने उसे समझाया कि वह लोगों को आने वाले खतरनाक तूफ़...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
6

(राधातिवारी "राधेगोपाल")

दिल के फासलों को दूर करना ही पड़ेगा lकुछ हमें कुछ तुम्हें चलना ही पड़ेगा ll काम कोई भी मुश्किल नहीं इस जहान में lकोशिशें करके संभलना ही पड़ेगा सूरज चंदा गगन में आते जाते रहेंगे lरौशनी के दिय...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे गोपाल
राधे का संसार
4

"सांझा - चूल्हा"

सब को लेकर साथ चलना सब के मन की बात पढ़ना आसान नहीं कठिन सा है ।बेसब्री और केवल मेरी 'मैं’औरों के सिर पर पांव रख करकेवल अपना भला सोचती है ।कभी - कभी सोचती हूंजगह -जगह सांझा - चूल्हारेस्टोरेंट्स तो...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Meena Bhardwaj
मंथन
1

लाखों मुस्लमानों ने अदा की अलविदा जुम्मे की नमाज

Fri, Jun 8, 2018 at 3:20 PMरमजान का महीना अल्लाह से इश्क का महीना: शाही इमाम पंजाबलुधियाना: 8 जून 2018: (आराधना टाईम्ज़ ब्यूरो)::आज पवित्र रमजान शरीफ के अलविदा जुम्मा के मौके पर फील्डगंज चौंक स्थित ऐतिहासिक जामा ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Rector Kathuria
Aradhana Times
0

फूफा जी का डांस

डांसहर कोई नहीं कर सकता। न डांस हर किसी को कराया जा सकता है। जो डांस नहीं कर सकते, उन्हें आंगन हर वक्त टेढ़ा ही नजर आता है। लेकिन विदिशा (मध्य प्रदेश) वाले फूफा जी ऐसे नहीं हैं। वे शादी में आए अन्य ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Anshu Mali Rastogi
चिकोटी
5

FACE OF COMMON MAN - 1

#corner-to-corner { height:100%; border:5px SOLID Green ; padding:30px; background: BurlyWood ; -© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राकेश श्रीवास्तव
0

बस बच्चों वाली औरतें - कांधला से कैराना

   कांधला से कैराना और पानीपत ,एक ऐसी बस यात्रा जिसे भुला पाना शायद भारत के सबसे बड़े घुमक्कड़ व् यात्रा वृतांत लिखने वाले राहुल सांकृत्यायन जी के लिए भी संभव नहीं होता यदि वे इधर की कभी एक बार ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
भारतीय नारी
7

औरतें जी का जंजाल - कांधला से कैराना

   कांधला से कैराना और पानीपत ,एक ऐसी बस यात्रा जिसे भुला पाना शायद भारत के सबसे बड़े घुमक्कड़ व् यात्रा वृतांत लिखने वाले राहुल सांकृत्यायन जी के लिए भी संभव नहीं होता यदि वे इधर की कभी एक बार ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
SHALINI KAUSHIK
! कौशल !
7

अविवाहित बेटी का भरण-पोषण अधिकार

दंड प्रक्रिया सहिंता १९७३ की धारा १२५ [१] के अनुसार ''यदि पर्याप्त साधनों वाला कोई व्यक्ति -...............................................................................................................................................[ग] -अपने धर्मज या अधर्मज संतान का [जो विवाहित पु...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
SHALINI KAUSHIK
कानूनी ज्ञान
8

दोहावली "छन्द हो गये क्ल्ष्टि" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जब बालक की पीठ पर, लदा दुआ हो भारपढ़ने के सपने कहाँ, फिर होंगे साकार।।चमत्कार से के फेर में, छन्द हो गये क्ल्ष्टि।होते नहीं विशिष्ट वो, जो होते हैं श्लिष्ट।।पूरब से होता शुरू, प्रतिदिन जीवन सत्...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
2

1057....कब्ज पेट का जैसा, दिमाग में हो जाता है, बात समझ से बाहर हो जाती है

धरती पर भगवान का दूसरा रुप कहलाते हैंं डॉक्टर।सदैव ही उन्हें समाज में विशेष स्थान प्राप्त रहा है। अमीर हो या गरीब बीमारी में अपने इस भगवान को याद करते हैं।बदलते परिदृश्य में डॉक्टरों और हॉ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Yashoda Agrawal
पाँच लिंकों का आनन्द
0

कभी न कभी....कुसुम कोठारी

मन की दहलीज परस्मृति का चंदा उतर आतायादों के गगन पर,सागर के सूने तट परफिर लहरों की हलचलसपनो का भूला संसारफिर आंखों में ,दूर नही सबपास दिखाई देते हैंन जाने उन अपनो केदरीचों मे भी कोईयादों का चं...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Yashoda Agrawal
मेरी धरोहर
1

बच्चों की मुस्कान (राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

बच्चों की मुस्कानईश्वर को मैंने देखा है बच्चों की मुस्कान में l देखा है सुख सागर में और देखा उसे उड़ान में ll आसमान की दूरी देखी सूरज चंदा तारों में l हवा के झोंके खुशिया देते आकर मुझे बहारो...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे गोपाल
राधे का संसार
3
4
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
1

नया और पूर्ण

   दूसरे विश्व-युद्ध के दिनों में मेरे पिताजी ने अमेरिका की सेना में रहते हुए दक्षिणी प्रशांत सागरीय क्षेत्र में कार्य किया। उन दिनों में पिताजी धर्म के प्रत्येक विचार को यह कहकर कि, “मुझे ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
3

फलाहारी खीर की रेसिपी Flahari Kheer Ki Recipe

 इस विधि से बनाये साबूदाने की खीर जिसका लाजवाव स्वाद आप कभी नहीं भुलेगे।साबूदाना की खीर एक अच्छा फलाहार माना जाता हैं इसका स्वाद भी काफी अच्छा होता हैं इसको हम कम समय में बना सकते हैं हमारे द...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Seema Kaushik
सीमा की रसोई (Seema Ki Rasoi)
5

Facebook: सरकार ने 20 जून तक मांगा स्पष्टीकरण

इलेक्ट्रानिक्स एवं आईटी मंत्रालय: प्रविष्टि तिथि: 07 JUN 2018 6:27PM by PIB Delhiमामला स्पष्ट सहमति के बिना डाटा साझा करने की रिपोर्टों का  नई दिल्ली: 7 जून 2018: (पीआईबी)::  हाल की मीडिया रिपोर्टों में यह ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Rector Kathuria
पंजाब स्क्रीन
0

दहलीज़ पर कालिदास

कहो कालिदास,आज दिन भर क्या किया,धूप में खड़े खड़े पीले तो नहीं पड़े,गंगा यमुना बहती रही स्वेद कीऔर तुम.... उफ़ भी  नहीं करते ,कहो कालिदास,कैसा लगा मालविका की नज़रों से विलग होकर,तुम लौट-लौट कर आते रहे उ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Aparna Bajpai
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
4

Quote on endeavor

Pic Credit: Paul Nil Dada...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Abhilasha
@Abhi
3

Vipeenchandra Pal

Vipeenchandrapal
Vipeenchandrapal
2 सप्ताह पूर्व
Vipeenchandra Pal
0

Vipeenchandra Pal

Vipeenchandrapal
Vipeenchandrapal
2 सप्ताह पूर्व
Vipeenchandra Pal
0

Vipeenchandra Pal

Vipeenchandrapal
Vipeenchandrapal
2 सप्ताह पूर्व
Vipeenchandra Pal
0

2 सप्ताह पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
3

गंगा (राधातिवारी "राधेगोपाल")

 गंगा जी के नीर को, रखो हमेशा साफ l गंगा जी हरदम करें, पाप सभी के माफ ll सूख रहे हैं आज सब, नदी सरोवर ताल l गर्मी से आया हुआ, तन में तेज उबाल ll गमले अब तो बन रहे, हैं महलों की शान l बिन पेड़ कैसे र...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे गोपाल
राधे का संसार
3

एक और नई राजस्थानी फिल्म यूट्यूब पर

जयपुर।राजस्थानी फिल्म लवर्स के लिए एक अच्छी खबर है। अब वे एक और राजस्थानी फिल्म यूट्यूब पर देख सकते हैं-जरायम दादरसी। प्रभु दयाल झारवाल के निर्देशन में बनी यह फिल्म पिछले साल 17 नवंबर को रिलीज...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
rajasthani cinema
राजस्थानी सिनेमा
0

मोल दोहे (राधातिवारी "राधेगोपाल")

 लूट रहे हैं आज तो, बड़े शहर के मॉल l बिकते महंगे दाम में, घटिया घटिया शॉल ll बड़े शहर के मॉल तो, काट रहे हैं जेब  lमिलती महंगे दाम , नकली सब पाजेब ll कवि लिखता है गीत को, शायर लिखता शेर l परिव...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे गोपाल
राधे का संसार
3

अंतिम विदा

सोचा न था कभी मैनेहोगा कष्टकारी इतना सबसे अंतिम विदा लेनासबसे दूर चले जानाअब जब जाने की वेला मेंबस दो क्षण ही शेष रहेजीवन के अनगिनत पलआंखों में मेरी तैर रहेकितनी आसानी से कह देता थाअब और नही ज...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
aprna tripathi
palash "पलाश"
3

ग़ज़ल "वो बादल कहलाते हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जो प्यासी धरती की, अपने जल से प्यास बुझाते हैं।आसमान में जो उगते हैं, वो बादल कहलाते हैं।।जो मुद्दत से तरस से थे, जल के बिना अधूरे थे,उन सूखे नदिया-नालों को, निर्मल नीर पिलाते हैं।चरैवेति का पाठ ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
3

तख्त श्री दमदमा साहिब ... गुरु की काशी

तलवंडी साबो बस स्टैंड से निकलकर मैं श्री दमदमा साहिब का रास्ता पूछता हूं। बस स्टैंड से बाहर निकलते ही दाहिनी तरफ थोड़ी चलने के बाद गुरघर का विशाल प्रवेश द्वार नजर आता है।सिख पंथ में पांच तख्त ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Vidyut Prakash Maurya
दाना-पानी
1


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन