अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

मौत से क्या मतलब अगर जिंदगी गढ़ रहे हो

नीचे क्यों देखनाअगर ऊपर चढ़ रहे होपीछे क्यों देखनाअगर आगे बढ़ रहे होमौत से क्या मतलबअगर जिंदगी गढ़ रहे हो- कंचन ज्वाला कुंदन ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
2

Google Ka Product Google+ ab Band

गूगल ने हाल ही में अपना एक प्रोडक्ट बंद किया है जिसका नाम है गूगल प्लस जो कुछ सिक्योरिटी प्रॉब्लम्स के कारण गूगल ने अभी उस प्रोडक्ट को बंद करने का ऐलान किया हैगूगल प्लस से बहुत से लोगों के अकाउ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
IndrasiNh Solanki
Indrasinh Solanki - Everything Is Here
0

अब तुम कहो तुम्हारी कि आगाज क्या है

हुए जो सफल उनसे पूछोराज क्या हैवो केवल इतना जानते थेआज क्या हैवो अपने दिल की सुनते थेआवाज क्या हैअब तुम कहो तुम्हारी किआगाज क्या है- कंचन ज्वाला कुंदन ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
1

भाग्य भी आएगा अपने पैर चलकर

अवसर भी आएगारूप बदलकरभाग्य भी आएगाअपने पैर चलकरतुम हमेशा तैयार रहनाकमर कसकरवरना वो निकल जायेगानजदीक से ही बचकर- कंचन ज्वाला कुंदन ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
1

अगर तेरी मानसिकता ही बेंड है

जीवन भर का अपना साथीटेन फिंगर्स टू हेंड हैसफलता की सच्चाई दोस्तसोच पर डिपेंड हैतेरा कुछ भी नहीं होगा कालिया यहाँअगर तेरी मानसिकता ही बेंड है ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
1

अंजाम दो

अपने नाम को नया फिरनाम दोदुनिया भूल ना पाये किकाम दोबढ़ते हुए कदम को कभी नाविराम दोअपनी शक्ति को सार्थकआयाम दोक्या करना है ठान लोअंजाम दो ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
1

आओ पड़ोसी का अर्थ खोजें

शब्दकोष मेंपड़ोसी का अर्थ बदलना पड़ेगासार्थक कोई अर्थखोजना पड़ेगाक्योंकिपूरा का पूराअब ढांचा बदल चुका हैपड़ोसी रहने काऔरपड़ोसी होने काआओ पड़ोसी का अर्थ खोजेंआओ पड़ोसी का अर्थ तलाशें-कंचन ज्वाल...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
1

हसरत तो और भी हरी हो रही है

हसरत तो और भी हरी हो रही हैख्वाब तो और भी खरी हो रही हैआहिस्ता-आहिस्ता अरमान बढ़ रहा हैरातों की सपने रसभरी हो रही हैचौखट में उपेक्षा सा पड़ा हुआ पायदानजाने किस मकसद से दरी हो रही हैख्वाहिश उड़ ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
2

जिंदगी किताब है- पढ़ते चलो

जिंदगी किताब है- पढ़ते चलोफूल भी आयेंगेकांटे भी आयेंगेजिंदगी की हार मेंजड़ते चलोजिंदगी किताब हैपढ़ते चलोदुश्मनों से ज्यादादोस्तों से तुमजिंदगी जंग हैलड़ते चलोजिंदगी किताब हैपढ़ते चलोटू...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
3

उनके चरणों में अर्पित मेरी माँ को समर्पित

पुस्तक का प्रथम पृष्ठमेरे खून का हर कतरा मेरी स्याही की हर बूंदउनके चरणों में अर्पित मेरी माँ को समर्पितसर्वस्व मेरा जीवन कविता के हर पन्नेउनके चरणों में अर्पित मेरी माँ को समर्पितमेरी हरे...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
2

1,11,111 Views

1,11,111 Viewsसमस्त सम्माननीय पाठकों का हार्दिक धन्यवाददिनांक: 13.10.2018...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
पुरूषोत्तम कुमार सिन्हा
1

जिंदगी एक चिड़ी जैसा ही है

जिंदगी तो कब से ऐसा ही हैपर्यायवाची नाम पैसा ही हैतुम भी देख रहे हो हम भी देख रहे हैंजैसा का तैसा वैसा ही हैतुम्हें भी गम है हमें भी गम हैजिंदगी की बात ऐसा ही हैजाने कब फंस जाये बहेलिये की जाल मे...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
2

बन जाने दो जरा हमें कल का दबंग

पारित प्रस्ताव है कैसे करें भंगजिंदगी की मौत से समझौते का ढंगतुम कैसे अलग करोगे हम अलग कैसे करेंगेजिंदगी में शामिल है मौत का ही रंगतुम बीच में ना पड़ो उसे चलने ही दोजिंदगी जांबाज का मौत से है ज...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
1

आदमी के भेष में घुमते रहे भेड़िये जो उनके सर इंसानियत का ताज आया

ऐसा कहाँ हुआ कोई फितरत से बाज आयाआदमी के हर काम में कोई ना कोई राज आयाआदमी में बदलाव बनता गया नासूर होता गया काफूरमगर उसमें बदलाव ना कल आया ना आज आयाआदमी के भेष में घुमते रहे भेड़िये जोउनके सर इं...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
1

कुंदन का सफ़र आसमान से है

ना खौफ खुदा से ना भय भगवान से हैदिल डर गया बहुत इंसान से हैधरम का धंधा फल-फूल रहा हैमंदिर-मस्जिद भी दुकान से हैउठाकर फेंक दो कभी यहाँ-कभी वहांपत्थर दिल आदमी सामान से हैहर मुआमले में कर लो मुआयना...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
2

जाने किस क्रम में कुंदन का नाम आये

असल में जिंदगानी वही जो औरों के काम आयेकुछ ऐसा करो दोस्तों सितारों के बीच नाम आयेजिंदगी का बस अर्थ इतना चलते चलो बढ़ते चलोआंधी आये तूफान आये बाधाएं तमाम आयेमंजिल का धून लिए दिल में जुनून लिएतु...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
2

नाम मगर नेस्तनाबूद नहीं होता

आदमी खोखला बम है जिसमें बारूद नहीं होताआदमी हरदम आम है क्यों अमरुद नहीं होताकरना पड़ता है काम लिखना पढ़ता है नामइतिहास के पन्ने यूँ खुद नहीं होतामिली जिंदगी मूलधन है यहाँ ब्याज भी चुकाओगेकौन क...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
2

तुम मर जाओ तुम्हारा अंजाम यही है

तुम मर जाओ तुम्हारा अंजाम यही हैअगर दिल में कोई इंतकाम नहीं हैहरेक की जिंदगी किसी मौत का बदला हैये जन्म जो मिला है इनाम नहीं हैएहसास रखो सर पे नफरत रखो दिल मेंये दुनिया दुलराने का नाम नहीं हैत...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
2

जुबां जो खोलो वो सवाल कर दो

कमर जो टेढ़ी है सीधी नाल कर दोहाथ उठाओ ऊपर मशाल धर दोफिर निकल जाओ जिधर निकलना है तुम्हेंलोग वाह-वाह कहें ऐसा कमाल कर दोहर एक कदम एक चिराग बनके उभरेऐसा ही दोस्तों कुछ धमाल कर दोलोगों का सरेराह सि...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
1
0

गुल गुलशन में गुलजार होगी जिस तरह

गुल गुलशन में गुलजार होगी जिस तरहदर्दे-गम में गजल बहार होगी उस तरहमुये का सनम से प्यार होगी जिस तरहउये अंदाज में इनकार होगी उस तरहजीत में जश्ने बहार होगी जिस तरहहार में हस्रे सरोकार होगी उस तर...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
1

SAHU TELI VAISHYA HISTORY - साहू तेली वैश्य समाज का इतिहास

विद्धान अभी तक यह मानते हैं कि सिंधु सभ्यता काल जिसे पूर्व वैदिक काल भी कहा जाता है. सप्त सैंघव प्रदेश ( पुराना पंजाब, जम्मू कश्मीर एवं अफगानिस्थात का क्षेत्र) में, जो मनुष्य थे वे त्वचा रंग के आ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Praveen Gupta
हमारा वैश्य समाज - HAMARA VAISHYA SAMAJ
0

बच्चों को लुभाने वाली जिंदगी झुनझुना नहीं

अभी आपने क्या कहा मैंने कुछ सुना नहींक्योंकर कि आखिर तुमने मंजिल अब तक चुना नहींजीने का कोई जल्दी से मकसद तलाशोबच्चों को लुभाने वाली जिंदगी झुनझुना नहींतुम तय करो तुरंत ही लक्ष्य जिंदगी काय...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
1

माता के इस मंदिर में लाल मिर्च से होता है हवन, होती है हर मुराद पूरी

माता के इस मंदिर में लाल मिर्च से होता है हवन, होती है हर मुराद पूरीहिंदू धर्म में मां दुर्गा के 51 शक्तिपीठ हैं लेकिन इनके अलावा कुछ ऐसे मंदिर भी हैं जो अपने दिव्य चमत्कारों के लिए प्रसिद्ध हैं...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Praveen Gupta
हमारे तीर्थ स्थान और मंदिर - HAMARE TEERTH STHAN OUR MANDIR
0

दोहे "होना नहीं उदास" (राधा तिवारी "राधेगोपाल")

 ताकतदेताहैसदा, बच्चोंकोग्लूकोस।ताकतहीभरतीसदा, हैबच्चोंमेंजोश।।आना होगा समयसे, छात्रोंको इस्कूल। मन में लाओ न भावना, कोई ऊल-जलूल।। खेल खेलने से बढ़े, सदा परस्पर ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
राधे गोपाल
राधे का संसार
3

काम की बातें

आप प्रशंसा तो करें, जिससे हो तकरार,बस प्रभाव तब देखिये, माने वह उपकार |           क्षमा करें इक बार ही, किन्तु नहीं दो बार,           दया व्यर्थ हो जायगी, क्षमा किया हर बा...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Dr. Harimohan Gupt
Dr. Hari Mohan Gupt
0

मत कर इतने सवाल

कुछ तो रखा कर, अपने चेहरे का ख्याल......मत कर, इतने सवाल!ये उम्र है, ढ़लती जाएगी!हर शै, चेहरों पर रेखाएँ अंकित कर जाएंगी,छा जाएगा वक्त का मकरजाल!मत कर इतने सवाल.....!समय की, है ये मनमानी!बेरहम समय ये, किस श...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
पुरूषोत्तम कुमार सिन्हा
3

दोहे "कृपा करो अब मात" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जन्म हिमालय पर लिया, नमन आपको मात।शैलसुता के नाम से, आप हुईं विख्यात।। कठिन तपस्या से मिला, ब्रह्मचारिणी नाम।तप के बल से पा लिया, शिवशंकर का धाम।। चन्द्र और घंटा रहे, जिनके हरदम पास।घंटाध्...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
5

‘मीटू’ की ज़रूरत थी

देश में हाल के वर्षों में स्त्री-चेतना की सबसे बड़ी परिघटना थी, दिसम्बर 2012 में दिल्ली-रेपकांड के खिलाफ खड़ा हुआ आंदोलन। इस आंदोलन के कारण भले ही कोई क्रांतिकारी बदलाव न हुआ हो, पर सामाजिक-व्यवस...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
Pramod Joshi
जिज्ञासा
0
5


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन