अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

प्रणब मुखर्जी: विकट दौर के सहज राष्ट्रपति

भारतीय संविधान के अनुसार देश का राष्ट्रपति भारत सरकार का प्रशासनिक प्रमुख है, पर व्यवहार में वह अपने ज्यादातर काम सत्तारूढ़ सरकार की सलाह पर करता है। बहुत कम काम ऐसे होते हैं, जिन्हें उनका व्...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Pramod Joshi
जिज्ञासा
1

डर के आगे जीत ही नही स्वास्थ भी है

आपके साथ आज मै अपने एक और केस की चर्चा करती हूँ रोगी का नाम है अंजली बेन पटेल उम्र 58 वर्ष दरअसल अंजली बेन को डर की बीमारी(Phobia's Disease)हो गई थी उन्होंने डॉक्टर्स ओर सैकेटिस्ट को भी दिखाया और उन्होंने इ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Satyan Srivastava
उपचार और प्रयोग
3

हमारा लिखना सार्थक हुआ...

कई साल पहले की बात है. गर्मियों का मौसम था. सूरज आग बरसा रहा था. दोपहर के वक़्त कुछ पत्रकार साथी बैठे बातें कर रहे थे. बात झुलसती गरमी से शुरू हुई और सियासत पर पहुंच गई. टेलीविज़न चल रहा था. उस वक़्त ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Firdaus Khan
Firdaus Diary
0

हे ईश्वर !

कर्मों के फल काउपासनाओं के तेज़ का दुख के भोगों का सुख की चाहों का मन के विश्वास का ईश्वर की आराधना का अपनों के साथ का रिश्तों के जुड़ाव का निश्छल प्रार्थनाओं का होता ही होगा कोई मोल ..**शरीर की नश्...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
सु-मन (Suman Kapoor)
बावरा मन
0

जब आत्मा कान में कह जाती है भविष्य - Tantra Vidya

क्या आपने कभी किसी ऐसे व्यक्ति के बारे में सुना है या आप किसी ऐसे व्यक्ति से मिले हैं जिसने आपको देखकर ही यह बता दिया हो कि आपके परिवार में कितने सदस्य हैं। आपके कितने दोस्त या दुश्मन हैं या आप ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Satish Kumar
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
4

उन दिनों लड़कियों को किचन में काम क्यों नहीं करना चाहिए? No entry

वैदिक धर्म के अनुसार मासिकधर्म के दिनों में महिलाओं के लिए सभी धार्मिक कार्य वर्जित किए गए हैं। साथ ही इस दौरान महिलाओं को अन्य लोगों से अलग रहने का नियम भी बनाया गया है।ऐसे में स्त्रियों को ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Satish Kumar
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
3

घर पर मंदिर की छाया क्यों नहीं पडनी चाहिए? Mandir ki chhaya ghar par nahi pade

मंदिर में होने वाले नाद यानी शंख और घंटियों की आवाजें, ये आवाजें वातावरण को शुद्ध करती हैं। कहते हैं मंदिर जाने से आत्मिक शांति मिलती है। वहां लगाए जाने वाले धूप-बत्ती जिनकी सुगंध वातावरण को ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Satish Kumar
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
3

नए मटके की पूजा क्यों करना चाहिए? Nayaa matka kyo puja jata hai?

गर्मी का मौसम आ गया है। गर्मीयों की चिलचिलाती धूप में ठंडा पानी गर्मी से सबसे ज्यादा निजात दिलाता है। आजकल अधिकतर लोग गर्मी में ठंडे पानी के लिए फ्रिज पर निर्भर है लेकिन कुछ लोग गर्मीयों में ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Satish Kumar
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
4

मंदिर में दर्शन करने के बाद परिक्रमा करना जरूरी क्यों? Mandir me darshan

हम भगवान की परिक्रमा करते हैं? इससे लाभ क्या होता है और भगवान की कितनी परिक्रमा करनी चाहिए?दरअसल भगवान की परिक्रमा का धार्मिक महत्व तो है ही, विद्वानों का मत है भगवान की परिक्रमा से अक्षय पुण्...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Satish Kumar
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
5

रात में घर से बाहर कचरा क्यों नहीं फेंकना चाहिए? Raat me kachra na fenke

हमारी भारतीय संस्कृति में हर दैनिक कार्य से जुड़ी कोई न कोई मान्यता जरूर है। ऐसी ही एक परंपरा है रात के समय घर में झाड़ू और पौछा न लगाने की। साथ ही एक मान्यता और भी है वह यह कि रात के समय घर से बा...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Satish Kumar
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
3

गर्भवती स्त्री को यह काम भूलकर भी नहीं करना चाहिए? Garbhavati stri

हमारे यहां बच्चे के जन्म के पूर्व की भी अनेक परंपराएं हैं जिनका गर्भवती महिला को पालन करना होता है। ऐसी ही एक परंपरा है कि गर्भवती स्त्री को मृतव्यक्ति या लाश को नहीं देखना चाहिए यहां तक कि उस...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Satish Kumar
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
3

क्या और क्यों दान करें शनि के बुरे प्रभाव से बचने के लिए?

शनिवार के दिन इस ग्रह से संबंधित दान, पूजा व मंत्र जप से शनि की दशा, या साढ़ेसाती के समय शनि का अशुभ प्रभाव कम हो जाता है। अशुभ शनि को शुभ बनाने के लिए लोहे व काले उड़द के दान का ज्योतिष के अनुसार ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Satish Kumar
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
3

टूटी -फूटी क्रॉकरी घर में क्यों नहीं रखना चाहिए? Tuti futi krokri ghar me naa rakhen

आपके घर में क्रॉकरी बता देती है कि आप किस स्तर का जीवन व्यापन कर रहे हैं। इसी वजह से आजकल डिजाइनर क्राकरी का क्रेज बढ़ रहा है। इसी क्रेज के चलते कई घरों में पुराने या टूटी -फूटी क्रॉकरी में संभा...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Satish Kumar
Mera Hindi Blog - Intertainment ways to earn at home sex education all type sms jokes love story
3

पर खुद भूखे मर रहे हैं।

किसान आज से नहीं,सदियों से आत्महत्या कर रहे हैं,उगाते तो हम  अनाज हैं,पर खुद भूखे मर रहे हैं।मैंने एक और किसान कि आत्महत्या के बादआंदोलन कर रही भीड़ केएक बूढ़े किसान से पूछावो किसान क्यों म...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
kuldeep thakur
man ka manthan. मन का मंथन।
1

अल्‍सर का उपचार क्या है

आम भाषा में अल्‍सर जिसे अक्सर लोग आमाशय का अल्‍सर(Gastric Ulcer)या पेप्टिक अल्‍सर कहते हैं आपके आमाशय या छोटी आँत के ऊपरी हिस्से में फोड़े या घाव जैसे होते हैं अल्‍सर उस समय बनते हैं जब भोजन को पचाने वा...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Satyan Srivastava
उपचार और प्रयोग
4

दुःसाहसी हेमंती फूल----अज्ञेय 

लोहेऔर कंकरीट के जाल के बीचपत्तियाँ रंग बदल रही हैं।एक दुःसाहसीहेमन्ती फूल खिला हुआ है।मेरा युद्ध प्रकृति की सृष्टियों से नहींमानव की अपसृष्टियों से है।शैतानकेवल शैतान से लड़ सकता है।हम ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
kuldeep thakur
कविता मंच।
1

चन्द माहिया : क़िस्त 42

चन्द माहिया  :क़िस्त 42:1:दो चार क़दम चल करछोड़ तो ना दोगे ?सपना बन कर ,छल कर:2:जब तुम ही नहीं हमदमसांसे  भी कब तकअब देगी साथ ,सनम !:3:जज्बात की सच्चाईनापोगे कैसे ?इस दिल की गहराई:4;सबसे है रज़ामन्दीसबसे मि...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
आनन्द पाठक
उर्दू से हिंदी
1

चन्द माहिया :क़िस्त 42

चन्द माहिया  :क़िस्त 42:1:दो चार क़दम चल करछोड़ तो ना दोगे ?सपना बन कर ,छल कर:2:जब तुम ही नहीं हमदमसांसे  भी कब तकअब देगी साथ ,सनम !:3:जज्बात की सच्चाईनापोगे कैसे ?इस दिल की गहराई:4;सबसे है रज़ामन्दीसबसे मि...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
आनन्द पाठक
गीत ग़ज़ल औ गीतिका
1

चन्द माहिया : क़िस्त 42

चन्द माहिया  :क़िस्त 42:1:दो चार क़दम चल करछोड़ तो ना दोगे ?सपना बन कर ,छल कर:2:जब तुम ही नहीं हमदमसांसे  भी कब तकअब देगी साथ ,सनम !:3:जज्बात की सच्चाईनापोगे कैसे ?इस दिल की गहराई:4;सबसे है रज़ामन्दीसबसे मि...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
1

कर्ज मुक्ति - सामयिक दोहे

यह सच है कि कर्ज माफी किसानों की समस्याओं का कारगर हल नहीं है। हां, इससे फौरी राहत मिल सकती है जो कभी कभी जरूरी भी होती है। लेकिन कर्ज माफी का ढ़िढ़ोरा अब तक सरकारें इस तरह से पीटती रही हैं मानो व...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
bhavna pathak
bhonpooo.blogspot.com
4

क्या आप घुटनों के असहनीय ददॅ से परेशान हैं। Get rid of knee pain

जोड़ों व् घुटने का दर्द, डायबिटीज, मोटापा, गैस बनना और ह्रदय सम्बंधित बीमारियो से मुक्त होने का एक सफल उपाय।सामग्री : मैथी 250 ग्राम, अजवायन 100 ग्राम, काली जीरी 50 ग्राम।चूर्ण बनाने की विधि : ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Sagar das
Ayurveda Sagar
4

प्राकृतिक चिकित्सा के क्या फायदे हैं

आज हर मनुष्य निरापद चिकित्सा चाहता है आज वो इस बात को समझने लगा है कि अगर शरीर को स्वस्थ और सम्रद्ध जीवन जीना है तो प्राकृतिक चिकित्सा(Natural Treatment)ही लाभदायक है प्राकृतिक चिकित्सा का सबसे बड़ा लाभ य...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Satyan Srivastava
उपचार और प्रयोग
2

बालकविता "बारिश आई अपने द्वारे" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

रिमझिम-रिमझिम पड़ीं फुहारे।बारिश आई अपने द्वारे।।तन-मन में थी भरी हताशा,धरती का था आँचल प्यासा,झुलस रहे थे पौधे प्यारे।बारिश आई अपने द्वारे।।आँधी आई, बिजली कड़की,जोर-जोर से छाती धड़की,अँधिय...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
4

708 ... मानसून

सभी को यथायोग्यप्रणामाशीषतेज़ रफ्तार सेयादें संग होते हैं जीवन मृत्यु के मध्यमैं देखता हूँ कि रेडियो, टेलीविज़न और फेसबुक पे लाशों ने टहलना शुरू कर दिया है | लोगों ने बेचना शुरू कर दिया है&nbs...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Yashoda Agrawal
पाँच लिंकों का आनन्द
2

''शेष क्या रहना है''....सविता चड्ढा

भान हो जाता है जब यह ''शेष क्या रहना है''जीवन और यथार्थ,यथार्थ और  कल्पना,कल्पना और सच के अंतर दृष्टव्य हो जाते है जब,तब शून्य रह जाती हैमन की लहरों की चंचलता,नेति नेति का ज्ञान हो जाता है ,टूट...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
Yashoda Agrawal
मेरी धरोहर
1

"मुट्ठियाँ बना ज़रा-ज़रा"

अंगुलियाँ समेट के तू , मुट्ठियाँ बना ज़रा -ज़राहवाओं को लपेट  के  तू ,  आंधियाँ बना -बनालहू की  गर्मियों से तूं , मशाल तो जला -जलाजला दे ग़म के शामियां ,नई सुबह तो ला ज़रा                   ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
DHRUV SINGH
"एकलव्य"
4


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन