अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

ऐ मेरे नाहिद

बाद-ए-अरसे तो तू मुझको मिला है ऐ मेरे नाहिद   फिर यूँ ना कर तू मुझसे अब ये बेरुखी की बातें कि मेरे हालात तुझे खोने की गुंजाईश नहीं रखते !!‘मन’* नाहिद – प्रियवर,महबूब,प्रेयसी ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Manav Mehta 'मन'
मानव 'मन'
72

creative corner for kids बच्‍चों के लिये इन्‍टरनेट पर क्रियेटिव कोना

Creativecorner        क्रियेटिवकोनागर्मी की छु‍‍टटी शुरू होने वाली हैं, और बच्‍चों की धमाचौकडी का सीजन आने वाला है, आने वाले कम से कम दो महीने तक ज्‍यादातर घरों में नई नई फरमाइशों का दौर शुरू ह...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
abhimanyu
31

ब्रह्माण्ड की आयु | Universe Age - Vedas - Srimad Bhagavatam

श्री मदभागवतम् में ब्रह्माण्ड उत्पति का जो वर्णन मिलता है वो इस प्रकार है :ब्रह्माण्ड उत्पति से पूर्व भगवान विष्णु ही केवल विधमान थे और शयनाधीन थे. विष्णु जी की नाभि से एक कमल अंकुरित हुआ&nb...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
प्राचीन सम्रद्ध भारत
25

PRAYER...........!!!

5 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
HRUDAYAM :: ह्रदयम
63

PEACE.......!!!!

5 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
HRUDAYAM :: ह्रदयम
54

लाचार और लुंज पुंज केन्द्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड या भारतीय सेंसर बोर्ड !!

हमारे देश में फिल्मों में आपतिजनक दृश्यों और संवादों कि निगरानी के लिए जो संस्था बनी हुयी है वो केन्द्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (भारतीय सेसर बोर्ड) है लेकिन अगर आप गौर करेंगे तो पायेंगे कि ऐसे आ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
पूरण खण्डेलवाल
61
THE INNER JOURNEY ::: अंतर्यात्रा
116
THE INNER JOURNEY ::: अंतर्यात्रा
119

अनुशासन

हर घर में अगर अनुशासन का पालन किया जाए तो युवाओं द्वारा किए जाने वाले अपराधों में 95 प्रतिशत तक कमी जाऐगी । --- जे एडगर हूवर...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
THE INNER JOURNEY ::: अंतर्यात्रा
110

ASSUMPTIONS ...!!!

5 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
HRUDAYAM :: ह्रदयम
63

"मच्छरदानी को अपनाओ" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

जिसमें नींद चैन की आती।वो मच्छर-दानी कहलाती।।लाल-गुलाबी और हैं धानी।नीली-पीली बड़ी सुहानी।।छोटी, बड़ी और दरम्यानी।कई तरह की मच्छर-दानी।।इसको खोलो और लगाओ।बिस्तर पर सुख से सो जाओ।।जब ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
47
HRUDAYAM :: ह्रदयम
63

चमकैत चन्ना

बाल कविता-32चमकैत चन्नाफूलल सोहारी सन चमकैत चन्नाकखनो कऽ मेघखण्ड झाँपै छैखन पश्चिम खन पूरब चन्नादौड़-दौड़ कऽ अम्बर नापै छैघटि-घटि कारी बनि जाइ चन्नाबढ़ि-बढ़ि मोन हर्षाबै छैनित राति आबि धरती...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
AMIT MISHRA
38

Dam - Diga - बाँध

Serra (Feltre), Italy: The mountain part of Cismon river has many small dams. Upstream on the dam, with the blocked water, the river looks like a deep lake. Downstream to the dam, the river becomes the stream jumping and foaming on the stones.सेर्रा, इटलीः चिज़मोन नदी के पहाड़ी हिस्से में जगह जगह छोटे बाँध बने हैं. बाँध के ऊपर वाले हिस्से म...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
Chayachitrakar - छायाचित्रकार
47

अभिप्राय

अभिप्राय में उदारता कार्य सम्‍पादन में मानवता सफलता में संयम। इन्‍ही तीन चीजों से महान व्‍यक्ति जाना जाता है। --- बिस्‍मार्क...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रौशन जसवाल विक्षिप्‍त
37

jaggnath ji chale sasural ,जगन्नाथ जी चले ससुराल

पुरी में जगन्नाथ भगवान जी की ससुराल , बेडी हनुमान और सोनार गोरांगी नाम की जगहे भी देखने लायक हैं ये सब गुंडिचा मंदिर से थोडी दूरी पर ही हैं । जगन्नाथ जी की ससुराल को देखने के लिये भी तीन रूपिया ल...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Manu
yatra (यात्रा ) मुसाफिर हूं यारो .............
101

जय जय श्री हनुमान : चर्चा मंच १२२६

"जय माता दी" अरुन की ओर से आप सबको सादर प्रणाम. आदरणीय गुरुदेव श्री रविकर सर अवकाश पर हैं उनकी जगह आज मैं उपस्थित हूँ. जय जय श्री हनुमानKumar Gaurav Ajeetendu संतन के प्यारे बड़े, भक्तन के अभिमान । करुँ न...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
135

डर लगता है

दरिंदगी इस कदर बढ़ गई है ज़माने मेंडर लगता है यारो तार पर अस्मत सुखाने मेंलूटेरे हर जगह फिरते मुंडेरों पे, शाख़ो पेबना कर भेस अपनों सा लपकते हैं लाखों पेन लो रिस्क तुम बच के ही रहना दरिंदो सेदि...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
तुषार राज रस्तोगी
तमाशा-ए-जिंदगी
49

कौआ आ सुग्गा

बाल कविता-31कौआ आ सुग्गालाल लोल छै बड अनमोलखा मिरचाइ बाजै मीठ बोलप्रियगर सुग्गा चमकैत आँखिहरियर-हरियर शोभैत पाँखिभोरे-भोर लै रामक नामतें बनि गेल घरक समाँगकारी कौआ कारिये छै लोलबिना सुरकें क...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
AMIT MISHRA
64

गुरुकुल सम्मान समारोह में रजनीश पर पढ़ा गया संक्षिप्त पर्चा

गुरुकुल सम्मान ग्रहण करते पत्रकार रजनीश                                 रजनीश कब पैदा हुए, क्या खा कर बड़े हुए, स्कूल जाते वक्त उनके पाँव में जूते कौ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
प्रकाश बादल
प्रकाश बादल
123

दोहे/ नारी

5 वर्ष पूर्व
बृजेश नीरज
Voice of Silent Majority
53

तेजाब

       आज के अखबार में मनेर (बिहार) की "चंचल" (19 वर्षीया युवती) तथा उसकी बहन "सोनम" की कहानी पढ़कर जिस दुःख, जिस गुस्से का अनुभव किया, उसे मैं बयान नहीं कर सकता। दोनों को बीते वर्ष 21 अक्तूबर को ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
जयदीप शेखर
देश-दुनिया
72

क्या लिखूं क्यों लिखूं

स्याह ज़िन्दगी मेरी, कलम-ए-दर्द से कहूँजो लिखूं तो लिखूं, क्या लिखूं क्यों लिखूंसोच कर तो कभी, कुछ लिखता नहींवो लिखूं सो लिखूं, क्या लिखूं क्यों लिखूंएक फ़क़त सोच पर, जोर चलता नहींहाँ लिखूं ना ल...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
तुषार राज रस्तोगी
तमाशा-ए-जिंदगी
84

खुफिया एजेंसियों के भड़काने पर आन्दोलन

उत्तर प्रदेश सरकार ने आतंकवाद के नाम पर फर्जी फंसाए गए निर्दोष लोगों के ऊपर से मुकदमा हटाने की पहल शुरू की है जिसके तहत गोरखपुर में आतंकवाद के मामले में आरोपित तारिक कासमी का वाद वापसी का आदेश...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
loksangharsha
लो क सं घ र्ष !
46

" बेटी से भी प्यार करो" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

माता का सम्मान करो,जय माता की कहने वालो।भूतकाल को याद करो, नवयुग में रहने वालो।।झाड़ और झंखाड़ हटाकर, राह बनाना सीखो,ऊबड़-खाबड़ धरती में भी, फसल उगाना सीखो,गंगा में स्नान करो,कीचड़ में रह...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
47

"हैवानियत का आलम'

चारों तरफ अजीब आलम हादसों में पल रही है जिंदगी,फूलों  के  शक्ल में अंगारों  पर चल  रही है  जिंदगी.आदमी  खूंखार  वहसी  हो  गए हैं इस जमाने में,दूध साँपों को पिलाकर खुद तड़प रही है जिं...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Rajendra kumar
भूली-बिसरी यादें
121

परिस्थितियां

यदि परिस्थितियां अनुकूल है तो सीधे लक्ष्‍य की ओर चलो लेकिन यदि परिस्थितियां अनुकूल न हो तो उस मार्ग का अनुसरण करो जिसमें कम से कम बाधा आने की सम्‍भावना हो। --- संत तिरूवल्‍लुवर ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रौशन जसवाल विक्षिप्‍त
39

वो चले गये....

दादाजी इस दुनिया मे नही हैं। रहते तो पता नही खुश होते या नही, जब उन्हे पता चलता कि मै लेखक हो गया हूं। लेखक, बचपन से सुनता आ रहा हूं और अक्सर मै कुछ भी अपने मन की बकवास लेकर दादाजी के पास जाता और उन...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Ritesh
Satya: The Voice of Truth
66

कर सच्चा व्यापार, भ्रूण में कर हत्या-रे -

गुडिया कहे पुकार के  हत्यारे रे भ्रूण के, हे प्रियजन आभार । तेरे कारण मुमुक्षता, मिले बिना व्यभिचार । मिले बिना व्यभिचार, कैंडिल बोतल तोड़े । छोड़े नहिं सुकुमारि, गैंग तन-बदन मरोड़े ।&...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रविकर
"कुछ कहना है"
48

शोभना सम्मान - 2012 समारोह हुआ संपन्न

इस सम्मान समारोह से संबंधित और तस्वीरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें शोभना वेलफेयर सोसाइटी रजि. ने दिनांक 17.04.13 को गाँधी शांति प्रतिष्ठान, निकट तिलक ब्रिज, आई.टी.ओ., नई दिल्ली में शोभना सम्म...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Akbar Khan
TheNetPress.Com
124


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन