अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

रूप संवारा नहीं,,,

रूप संवारा नहीं,कुहासों  ने घूंघट उतारा नही है, अभी मेरे प्रियतम का इशारा नहीं है! किरणों  का  रथ लगता थम गया, सूरज ने अभी पूरब निहारा नही है! चारो दिशाओं में धुंधलके है फैले, पूनम के चाँद को ग...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
dheerendra singh bhadauriya
काव्यान्जलि
69

सनातन धर्म... धर्म

सनातन धर्म) विश्व के सभी धर्मों में सबसे पुराना धर्म है। ये वेदों पर आधारित धर्म है, जो अपने अन्दर कई अलग अलग उपासना पद्धतियाँ, मत, सम्प्रदाय, और दर्शन समेटे हुए है। अनुयायियों की संख्या के आधार...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
kuldeep thakur
हिंदू और हिंदूस्तान
158

POTATO CAPSICUM CURRY

Here is a tasty and healthy side dish loaded with the goodness of capsicums and the richness of potatoes...INGREDIENTSCAPSICUMS -3POTATOES -2TOMATOES -3ONIONS -2GREEN CHILLIES-  4-5CUMINSEEDS -1/2 TEASPOONTURMERIC POWDER-1/4 TEASPOONGARAM MASALA POWDER -1/2 TEASPOONOIL -2 TABLESPOONSSALT TO TASTEMETHODCut the capsicums ,peeled potatoes and tomatoes into finger sized strips/pieces.Chop the onions and green chillies.Heat the oil in a heavy pan.Fry the cumin seeds.Then fry the chillies .N...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
usha srikumar
USHASRIKUMAR'S COOKSPACE AND MORE...
79

बचपन को बचपन रहने दो

मत छीनो बच्चों का बचपन,बचपन को बचपन रहने दो.मत बोझ बढ़ाओ बस्तों का,बच्चों का बचपन रहने दो.बढ़ गया है बोझ किताबों का,भागे पीछे न तितली के.पेड़ों पर कभी न झूला झूले,न चखे स्वाद हैं इमली के.हो गए प्र...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Kailash Sharma
बच्चों का कोना
106

संत गुरु ज्ञान गंगा प्रतियोगिता 12/12/12 से फेसबूक पर.नियम / शर्तें इस प्रकार हैं

प्रिय मित्रो,मुझे बताते हुए बहुत हर्ष हो रहा है कि संत गुरु ज्ञान गंगा प्रतियोगिता का आयोजन 12/12/2012 को फेसबुक पर किया जा रहा है इस प्रतियोगिता में सभी फेसबूक यूज़र हिस्सा ले सकते है! इस प्रतियोगि...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
RAJPUROHIT SAMAJ
150

"देश जाए भाड़ में" (कार्टूननिस्ट-मयंक)

कार्टूननिस्ट-मयंक ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
कार्टूनिस्ट-मयंक खटीमा (CARTOONIST-MAYANK)
134

संत गुरु ज्ञान गंगा प्रतियोगिता 12/12/12 से फेसबूक पर..शेयर जरुर करे.

प्रिय मित्रो,मुझे बताते हुए बहुत हर्ष हो रहा है कि संत गुरु ज्ञान गंगा प्रतियोगिता का आयोजन 12/12/2012 को फेसबुक पर किया जा रहा है इस प्रतियोगिता में सभी फेसबूक यूज़र हिस्सा ले सकते है! इस प्रतियोगि...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
123

संत गुरु ज्ञान गंगा प्रतियोगिता 12/12/12 से फेसबूक पर..शेयर जरुर करे.

प्रिय मित्रो,मुझे बताते हुए बहुत हर्ष हो रहा है कि संत गुरु ज्ञान गंगा प्रतियोगिता का आयोजन 12/12/2012 को फेसबुक पर किया जा रहा है इस प्रतियोगिता में सभी फेसबूक यूज़र हिस्सा ले सकते है! इस प्रतियोगि...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
एक ब्लॉग सबका
96

फिर हो मिलन मधुमास में

फिर हो मिलन मधुमास मेंचहुँ ओर कुसुमित यह धरा कण-कण है सुरभित रस भरा क्यों जलो तुम भी विरह की आग मेंक्यों न कलियाँ और खिलें इस बाग़ मेंमैं  ठहरा कब से आकुल, है गगन यह साक्षी किस मधु में है मद इतना...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
निहार रंजन
बातें अपने दिल की
115

सोनिया जी को जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनायें !

सोनिया जी को जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनायें !२१ मई १९९१ की रात्रि  को जब तमिलनाडु  में श्री पेराम्बुदूर   में हमारे प्रिय नेता राजीव  गाँधी जी की एक बम  विस्फोट में हत्या  कर दी ग...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
(विचारों का चबूतरा )
102

हृदय की ओर

[चित्र-साभार गूगल ]आओ, दोज़ख़ की आग में दहकताअपनी ऊब और आत्महीनता का चेहरासमय के किसी अंधे कोने में गाड़ देंऔर वक्त की खुली खिड़की सेएक लंबी छलाँग लगाएँ -यह समय मुर्दा इतिहास की ढेर मेंसुख त...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
सुशील कुमार
स्पर्श | Expressions
104

अधूरी हसरत

जिनके याद में ताजमहल बना उनकी रूह तो तड़पती होगी संगमरमर की चट्टानों के नीचेजहा हवा भी आने से डरती है वहां दो रूहें कैसे एक साथ रहती होंगी ?मुमताज को जीते जी तो कैद होना पड़ा कंक्...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
abhishek shukla
54

झूठे आसरे

झूठे आसरे जितनी जल्दी टूटें बेहतर है आदमी के लिये फासले रखता है आदमी जैसे कमतर है आदमी आदमी के लिये वक्त मारेगा दो चार तमाचे और कितना रोयेगा ढीठ होने  के लिये कौन आता है तेरी बज़्म ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Sharda Arora
गीत-ग़ज़ल
87

''प्रेम ...जाल !!''-लघु कथा

 ''पापा ...वैभव  बहुत अच्छा है ...मैं उससे ही शादी करूंगी ....वरना !! ' अग्रवाल साहब नेहा के ये शब्द सुनकर एक घडी को तो सन्न रह गए .फिर  सामान्य  होते  हुए  बोले  -' ठीक है पर पहले मैं तुम्हारे साथ ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
मेरी कहानियां
136

वियतनाम में बुद्ध धर्म

गौतम बुद्ध के उपरांत, कुछ सदियों में ही बुद्ध धर्म भारत और नेपाल से निकल कर पूर्वी और पश्चिमी एशिया में फ़ैल गया. वियतनाम में बुद्ध धर्म चीन से तथा सीधा दक्षिण भारत से, प्रथम या द्वितीय ईस्वी मे...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
जो न कह सके
180

स्वतन्त्रता पर बन्धन

अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है. अभिव्यक्ति प्रेषित करने का माध्यम कला है, स्वरूप साहित्य, फिल्म, पेंटिंग, कर्टून कुछ भी हो सकता...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vandana
Wings of Fancy
88

कुछ अलग कर देखे

तमन्ना मन में है यह उठी,खुद से रूबरू हो कर आज,एक खूबसूरत ख्वाब देखे,निगाहों से धोखे खाए कई,मगर आज निगाहों से ही,एक धोखा कर कर देखे ,हवा के संग रेत से चलते रहे,सोचा आज तूफान बन,बहने की मस्ती समझ देखे...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
अखिलेश रावल
"मेरे भाव मेरी कविता"
106

आत्महत्या-प्रयास सफल तो आज़ाद असफल तो अपराध .

आत्महत्या-प्रयास सफल तो आज़ाद असफल तो अपराध .    भारतीय दंड सहिंता की धारा ३०९ कहती है -''जो कोई आत्महत्या करने का प्रयत्न करेगा ओर उस अपराध को करने के लिए कोई कार्य करेगा वह सादा कारावास से...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHALINI KAUSHIK
कानूनी ज्ञान
81

गांधीकथा ..एक सच्चाई जो सिर्फ़ गांधीकथा में ही मिलेगी।

लगातार 3 दिन  वडोदरा कि मध्यस्थ जेल में गांधीजी के खास दोस्त श्री महादेवजी देसाई के पुत्र श्री नारायण देसाई की ,'गांधी कथा" चल रही थी । गांधीजी जिन्हें बचपन में 'बाबला' कहकर बुलाते थे। आज जिनकी ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Akbar Khan
TheNetPress.Com
154

"जय हो FDI..." (कार्टूननिस्ट-मयंक)

परदेशी-परदेशी जाना नहीं!...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
कार्टूनिस्ट-मयंक खटीमा (CARTOONIST-MAYANK)
129
अल्लम्...गल्लम्....बैठ निठ्ठ्लम्...
90

अन्ना मौन व्रत ले लो !

 अन्ना द्वारा निरंतर अरविन्द केजरीवाल पर दिए जा रहे बयान अत्यंत निंदनीय हैं .अन्ना का यह बयान भी नितांत आपत्तिजनक है कि-''केजरीवाल के सत्ता मोह के कारण उनका आन्दोलन बिखरा .''जबकि वास्तविकता स...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
(विचारों का चबूतरा )
81

स्वतंत्रता और अवमान कानून का सार्वभौमिक स्वरुप

---------- Forwarded message ----------From: Mani Ram Sharma<maniramsharma@gmail.com>Date: 2012/12/5Subject: for kind perusal and publication -To: kaushik_shalini@hotmail.comनाम: मनीराम शर्मा पता: नकुल निवास, रोडवेज डिपो के पीछे      सरदारशहर -331403                    &nbs...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
SHALINI KAUSHIK
कानूनी ज्ञान
70

हाँ ,मैं अयोध्या हूँ ..

 न मैं हिन्दू हूँ ,न मैं मुस्लिम हूँ ,रंजिशों की चौखट  पर ,रोती, पुत्र रक्त से नहलायी गयी माँ हूँ ,हाँ ,मैं अयोध्या हूँ ।न मैं मंदिर हूँ ,न मैं मस्जिद हूँ ,वोट बैंक  की लूट पर ,प्रेम धर्म बत...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
yogesh dixit
हम सब उम्मीद से हैं
119

इस्लाम के विरुद्ध जितना दुष्प्रचार हुआ, वह उतना ही फैला - राजेन्द्र नारायण लाल

‘‘...संसार के सब धर्मों में इस्लाम की एक विशेषता यह भी है कि इसके विरुद्ध जितना दुष्प्रचार  हुआ किसी अन्य धर्म के विरुद्ध नहीं हुआ । सबसे पहले तो महाईशदूत मुहम्मद साहब की जाति कु़रैश ही ने इस...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Saleem Khan
हमारी अन्‍जुमन
139

मोहब्बत

मोहब्बत कुछ तुझमे ,कुछ मुझमे अब तलक है बाकी ....दिल में तेरे और मेरे भी , आग अब तलक है बाकी ...तुम कहते हो कि राख का ढेर है ;मैं कहता हूँ कि थोडा सा कुरेदो ;तुम पाओंगे कि इश्क की चिंगारियां अब तलक है बाकी...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
बस यूँ ही..........WRITINGS OF SILENCE......
78

जिन्हें नाज़ है हिंद पर वो यहां हैं...खुशदीप

दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है भारत...लोकतंत्र का सबसे बड़ा मंदिर है संसद...लेकिन देश की शान इसी संसद में एफडीआई जैसे गंभीर मुद्दे पर बहस के दौरान ये हैं हमारे कुछ माननीयों के मुखारबिंदुओं से न...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
ATUL WAGHMARE
0

मिर्ज़ा ग़ालिब परिचय

ग़ालिब का जन्म 27 दिसम्बर, 1796 ई. को अकबराबाद में हुआ जो कि अब आगरा के नाम से जाना जाता है | उनके दादा कौकान बेग खां, शाह आलम के अहद ( शासन काल) में समरकंद से आगरा ( अकबराबाद) आए थे ग़ालिब के परदादा तर्संमखा...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
Devendra Gehlod
Jakhira, Shayari Collection | जखीरा, उर्दू शायरी संग्रह
163

आँचल..

           जब जब तेरी छाया,             इस धरती पर पड़ी,           तब तब मेरे सर पर,             आँचल की छाँव पड़ी.           तुम गीत पुराना मत गाओ,           मेरे अ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
रंगराज अयंगर
68

सरहद

मेरी सोच मेरे अहसास कीसरहद नहीं कोई लफ़्ज़ों को उड़ान भरने दोउस छोर तक शायद कोई हद मिल जाये इनको और वापिस लौट आएँतो.....बता सकूँ तुम्हें-किदेखो हद ढूंढ ली है मैंने भीतुम्हारी तरह पर....जब तक वो लौट ...  और पढ़ें
6 वर्ष पूर्व
सु-मन (Suman Kapoor)
अर्पित ‘सुमन’
68


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन