अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

उदय प्रकाश की रचनात्मकता पर केन्द्रित ’शीतल वाणी’ का अगला अंक... रचनाएं आमंत्रित।

बहुचर्चित कवि, कहानीकार और साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित श्री उदय प्रकाश की षष्ठीपूर्ति  के अवसर पर ‘शीतल वाणी’ का अगला अंक केन्द्रित होगा। इस अंक हेतु उनके व्यक्तित्व एवं कृतित्व ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
- अरविन्द श्रीवास्तव
101

कवि पर कविता , कविता में कवि !

कोई एक कारण कोई एक विषय नहीं होता सबब ना ही छिपी कुंठाए या व्यग्र भावनाएं  बन सकती है आधार सृजन का जब बात कविता की हो तो संवेदना चाहिए  वृहद्द मानस और उस पर निर्मल ह्रदय चा...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
तरुण
Tarun's Diary-"तरुण की डायरी से .कुछ पन्ने.."
14

" बिजली कड़की पानी आया" ( डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

 उमड़-घुमड़ कर बादल आये।घटाटोप अँधियारा लाये।।काँव-काँव कौआ चिल्लाया।लू-गरमी का हुआ सफाया।। मोटी जल की बूँदें आईं।आँधी-ओले संग में लाईं।।धरती का सन्ताप मिटाया।बिजली कड़की पानी आया।।ल...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
65

शोएब अख्‍तर ने जीवनी में किया दावा, मेरी गेंदों से डरते थे सचिन !!!!!

मनोज जैसवाल । याद कीजिये ..2003 के विश्‍वकप का वो सेमीफाइनल जिसमें सचिन तेंदुलकर ने शोएब अख्‍तर की शॉर्ट पिच गेंद को अपर कट मार गेंद को सीमा रेखा के बाहर 6 रनों के लिए पहुंचा दिया था। उस मैच में सचि...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
manojjaiswalpbt
मजेदार दुनियाँ
166

कैसा ये इस्क है ? ये तो रिस्क है ......

अक्सर इश्क और मुश्क का नाम इक साथ लिया  जाता है | ज्ञानी कहते हैं की दोनों ही छिपाए नहीं छिपते हैं | लेकिन आज इश्क और मुश्क की बात नहीं जनाब| आज बात है करते है इस्क और रिस्क की | जी हाँ रिस्क यानी खत...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
mamta vyas
मनवा
85
मेरी बात तेरी बात...
73

"नये नेता का चुनाव" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

व"नये नेता का चुनाव"“नये नेता का चुनाब” यह वाक्य सुनने में कितना अच्छा लगता है। भारत के किसी राज्य में जब भी कोई बहुमत वाला राजनीतिक दल अपने नए नेता का चुनाव करवाता है तो बड़े बेमन से विधायकों क...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
118

तपिश

    (पृष्ठभूमि :- नायक अपनी नायिका को ग्रीष्म ऋतु में याद कर रहा  है और विरह  कि  आग  में  जल  रहा   है |  )तपिशतपिश दे रहा है , सूरज अभी भी ,तू आ जाए तो , चैन आ जाए |तेरी राह ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
राकेश श्रीवास्तव
84

साढ़े छह टन का एक सैटलाइट इसी हफ्ते धरती से टकरा सकता है !!!!

 मनोज जैसवाल : अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा ने चेतावनी दी है कि साढ़े छह टन का एक सैटलाइट इसी हफ्ते धरती से टकरा सकता है। पिछले 20 सालों से धरती का चक्कर लगा रहा यह सैटलाइट अब बेकार हो चुका है और धरती...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
manojjaiswalpbt
मजेदार दुनियाँ
76

मेरी टिप्पणियां और लिंक ||

पत्नी पीड़ित की व्यथादर्द से जब छटपटा कर,  आह  भरती है जुबाँ |लगता है रविकर वाह सुनती हैं हमारी मेहरबाँ ||चर्चित बाबा के चक्कर में..चर्चित बाबा, चंचल बाला |शैतानों कीलगती खाला ||प्रेम नजरजोउसन...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
रविकर
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
100

सेक्स स्कैंडल में कौन?

दुनिया भर में सारे सेक्स स्कैंड्ल के आरोप केवल पुरुषो पर ही क्यूँ लगाये जाते हैं? क्या महिलाओँ और लड्कियोँ की इसमेँ कोई भूमिका नहीँ होती? और क्या वो चारित्रिक रूप से हमेशा इतनी अच्छी होती हैं ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
vivek mishra
33

वो लम्हें....

वो बीते दिन.....उन दिनों काहर एक लम्हा.....आज भीनहीं होता जुदास्मृति पटल सेएक क्षण के लिये भी.....देखो ना !इन पथरीली आँखों सेटपकने लगा हैउन लम्हों का सीलापन.....वो लम्हें.....जोमहकते थे कभीप्यार की खुशबू ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
सु-मन (Suman Kapoor)
अर्पित ‘सुमन’
45

"विद्यालय लगता है प्यारा" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

विद्या का भण्डार भरा है जिसमें सारा।मुझको अपना विद्यालय लगता है प्यारा।।नित्य नियम से विद्यालय में, मैं पढ़ने को जाता हूँ।इण्टरवल जब हो जाता मैं टिफन खोल कर खाता हूँ।खेल-खेल में दीदी जी विज्...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
282

बचपन

बहुत याद आती है आज ,बचपन का हर एक अंदाज ,नहीँ किसी से कोइ परदा ,नहीँ किसी से कोइ राज ।खो जाना बस खेल मगन हो ,अद्भुत था बचपन का साज ,कभी झगड.ता था आपस मेँ ,फिर भी है उस दिन पे नाज ।दोपहर की भरी धूप मेँ ,अर...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
sidharth sarthi
सारथी...
67

मिलन : हमारा-तुम्हारा

कुछ दिनों पहले ही मुझे अपनी एक पुरानी सहेली नेट पर मिली....और उससे एक दूसरी सहेली का नंबर मिला और उससे दूसरी का...बस इस तरह मुझे अपनी सभी सहेलियों के नम्बर मिले और उनके बारे में भी पता चला...मेरी उनस...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
neha sharma
मेरी कहानी
87

कमला प्रसाद ने कहा था - साहित्य कला का मूल प्रायोजन उदात्त और सुसंस्कृत समाज की रचना है।

कमला प्रसाद के साथ अरविन्द श्रीवास्तवबाजार में क्या नहीं है? बाजार में सब है, धन है, कीर्ति, धर्म-कर्म, अर्थ- काम, मोक्ष सब है। ऐसे में साहित्य क्या कर सकता है। निश्चय ही संवेदना की रक्षा विखण्डन ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
- अरविन्द श्रीवास्तव
73

मेरी टिप्पणियां -- इस सप्ताह -4

"मुक़द्दस टोपी"(१)मोदी  टोपी  पहनते, क्या खो  जाता तोर ??सेक्युलर का काला हृदय, खिट-पिट करता और |खिट-पिट करता और, उतरती  उनकी टोपी |वोट  बैंक  की  नीत,   बघेला   बेहद   कोपी |कटते हिन्...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
रविकर
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
96

" चिड़िया रानी फुदक-फुदक कर" ( डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

मेरी एक बाल कविता कोमेरे आग्रह पर मेरी मुँहबोली भतीजी अर्चना चावजी ने बहुत मन से गाया है!आप भी इस बाल कविता का रस लीजिए!चिड़िया रानी फुदक-फुदक कर,मीठा राग सुनाती हो।आनन-फानन में उड़ करके,आसमान ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
83

हिन्दी ब्लॉगिंग गाइड : मेरी नज़र से (भाग 7) (Hindi Blogging Guide - part 7)

नमस्कार दोस्तों !कैसे हो आप सभी ? आशा है कि आप सभी सकुशल होंगे।आज बहुत दिनों बाद फुर्सत है मिली, क्या करूँ, नयी नयी नौकरी मे फुर्सत ही कहाँ ? फिर भी ब्लॉगिंग की ललक और आप सभी का प्यार खींच लाया है ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
Mahesh Barmate
Kuchh Dil Se...
96

"यह है अपना सच्चा भारत" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

♥ यह है अपना सच्चा भारत ♥सुन्दर-सुन्दर खेत हमारे।बाग-बगीचे प्यारे-प्यारे।।पर्वत की है छटा निराली।चारों ओर बिछी हरियाली।।सूरज किरणें फैलाता है।छटा अनोखी बिखराता है।।तम हट जाता, जग जगजाता।...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
108

तेरी याद आ गई ............

फिर छा गई है बदरी , तेरी याद आ गईफुलोँ पे देख भँवरे तेरी याद आ गईजब भी की कोशिशेँ मैँ भुलने की वो शमांअनजाने रहगुजर से तेरी याद आ गईतुमको नहीँ पता मैँ करता हूँ इंतजारतुम आओ या न आओ तेरी याद आ गईआम...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
sidharth sarthi
सारथी...
53

इक नई सरगम...

सुबह की पहली किरण का आगाज,देखो ले के आया है एक नया दिन, एक नया आज।वो देखो चली आ रही है ठंडी पुरवाई,के लगता है जैसे इसने रात के संग होली हो मनाई।पंछियों का ये सुरम्य संगीत,पल भर में हर किसी को बना ले...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
Mahesh Barmate
माही....
85

"मेरी गुड़िया" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

मम्मी देखो मेरी डॉल।खेल रही है यह तो बॉल।।पढ़ना-लिखना इसे न आता।खेल-खेलना बहुत सुहाता।।कॉपी-पुस्तक इसे दिलाना।विद्यालय में नाम लिखाना।।रोज सवेरे मैं गुड़िया को,ए.बी.सी.डी. सिखलाऊँगी।अपने स...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
96

मेरी टिप्पणियां -- इस सप्ताह ||

काश यूँ होता....बाला बड़ी बहादुर है, बस बही भावना में थोड़ी |बालक बरताव बनाए रख, बाला है सोणी-सोणी |दुनिया बेशक अच्छी है, बस बदल नजरिया उसका तू-कुछ सामंजस स्थापित कर, बदले वो थोड़ी -मोड़ी ||जीवन भी संघर...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
रविकर
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
106

"आओ ज्ञान बढ़ाएँ-पहेली:100" (श्रीमती अमर भारती)

अमर भारती साप्ताहिक पहेली-100में आप सबका स्वागत है!निम्न प्रश्नों के उत्तर दीजिए!1- काव्य की आत्मा किसे कहा जाता है?2- काव्य का भूषण किसे कहा जाता है?3- छन्द के प्रमुख अंग कौन-कौन से होते हैं?4- जयशंकर ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
6

राजभाषा’हिंदी’ को भी चाहिए-एक’अन्ना हजारे?

सविंधान के अनुच्छेद 343 (1)के अनुसार संघ की राजभाषा’हिंदी’ ऒर लिपी देवनागरी हॆ.सविंधान में यह व्यवस्था 26,जनवरी 1950 को की गयी.-क्या यह सच हॆ? आप भी कहेंगें-कॆसा बेतुका सवाल हॆ? सविधान में यदि लिखा हॆ त...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
विनोद पाराशर Vinod Parashar
राजभाषा विकास मंच RAJBHASHA VIKAS MANCH
98

दो पाटो के बीच पिसता 'बुंदेलखंड'

बुंदेलखंड  अलग राज्य हो, ये सुनते ही किल्टने बुद्धिजीवियों को डंक लग जाते है.....उनके लिए बटवारा विनाश शब्द है.....बड़े को छोटे में बदलने वाला व्यवहार है !   बुंदेलखंड का जितना दायरा है, वेह वहा ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
Dolly Bansiwar
चर्चित विषय
84

नीला हाथी

कहानी नीला हाथी अनवर सुहैल ऽ कम्पनी के काम से मुझे बिलासपुर जाना था। मेरे फोरमेन खेलावन ने बताया कि यदि आप बाई-रोड जा रहे हैं तो कटघोरा के पास एक स्थान है वहां ज़रूर जाएं। मेन रोड से एक किलोमीट...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
anwar suhail
गुमशुदा चेहरे / gumshuda-chehre
92

मेरी टिप्पणियां -- इस सप्ताह ||

ख़ुशी का मन्त्र है यारो, नहीं रोना न शर्मिंदा |बुरी बातों को भूलो जी, रहो बिंदास फिर जिन्दा |बढे पेट्रोल सब्जी दुग्ध, राशन बम इलेक्ट्रिक बिल-पुरानी दुश्मनी भूलो, रखो न याद आइन्दा 8888888888888888...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
रविकर
श्री राम की सहोदरी : भगवती शांता
96

दिल तेरे साथ था पर रूठ गया

visit.. http://www.mahaktepal.कॉमजोनसोचाथावोपलआयाहैप्यारमेंसबहीतोगंवायाहैतेरेहोनेकाभरमटूटगयादिलतेरेसाथथापररूठगयातुमसाथनथेमगरफिरभीमैंनेसमझाकीतुमसाथमेंहोएकतेराआसराथाछूटगयादिलतेरेसाथथापररूठ...  और पढ़ें
7 वर्ष पूर्व
sakhi
sakhi with feelings
82


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन