अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

यू पी राजस्थान, आज फिर किसकी बारी-

खामखाँ लिख चिट्ठियाँ, करते इंक खराब |लहरायें जब मुट्ठियाँ, देना तभी जवाब |देना तभी जवाब, नहीं दुर्गा बेचारी |यू पी राजस्थान, आज फिर किसकी बारी |कल खेमका अशोक, स्वाद ऐसा ही चक्खा |रहे आप चुपचाप, लिख...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रविकर
रविकर की कुण्डलियाँ
46

दोस्ती के जलवे

यह कविता समर्पित है मेरे अज़ीज़ दोस्तों के लिए :) जो हर एक तरह से दोस्त कहलाने के लायक है | उनमें एक अच्छे दोस्त के सभी कीटाणु मौजूद हैं | माता की तरह दुलार, पिताजी की फटकार, बहना की छेड़छाड़, भाई सा ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
तुषार राज रस्तोगी
तमाशा-ए-जिंदगी
126

अरुण निगम जी को जन्म दिवस की शुभकामनायें-

   भैया जी शुभकामना, काम मना पर आज |जन्म दिवस लेते मना, रविकर दे आवाज |रविकर दे आवाज, कहीं कविता हो जाती |मित्र मंडली साज, साँझ होती मदमाती |दुर्मिल मदिरा गीत, सभी में दिखें सवैया | रहो स्वस्थ सान...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रविकर
"कुछ कहना है"
130

मैं आया हूँ

कुछ मायूसों की बस्ती में मैं ख्वाब बेचने आया हूँ,उन मुर्दों का जो जिंदा है मैं दिल बहलाने आया हूँ।बेनूर निगाहों की ख़ातिर लेकर प्रकाश मैं आया हूँ,मैं वस्त्रहीन कंकालों की ख़ातिर कुछ कपड़े ला...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
darshan jangra
प्रेम के फूल
89

शक्ति और संभावना के साझे का नाम दुर्गा

-प्रेम प्रकाशएकदम सामान्य सा पहनावा। आंखों पर चश्मा। कंधे तक कटे बाल। देखने में किसी आम पढ़ी-लिखी भारतीय युवती की तरह। न कोई बड़बोलापन। न दंभ। न ही अपनी शख्सियत को लेकर कोई मुगालता। दरअसल, हम ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
भारतीय नारी
50

I ANNOUNCE MODI PM CANDIDATE !

Today I want to make this easy for BJP, I think that BJP due to inside politics is unable to take any decisions. So now the general public will have to decide the direction of politics. Therefore, whether BJP declares it or not, I declare Narendra Modi chief minister of Gujarat a suitable candidate for the position of Prime Minister. The drama just can not last long, "Modi is the most popular politician" I believe the most popular leader in the prime ministerial candidate what's the problem? If ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
अरुणिमा श्रीवास्तव
32
THE MUSIC OF MY LIFE : मेरे जीवन का संगीत
76

कुछ सवाल जनता के

मोदी जी क्या जादू की कोई छड़ी तुम्हारे पास है ?क्योकि पूरा देश लगाये  बैठा  तुमसे आस है |राम कृष्ण की तरह क्या तुम विष्णु का अवतार हो ?जो भारत भूमि का तुम करने आये उद्दार हो ?साठ वर्ष जो नहीं ह...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
41

No Title

मित्रता दिवस पर सभी मित्रों को हार्दिक शुभकामनाओं के साथ यह हाइकु समर्पित....बनो यूँ बड़ेभूले नहीं सुदामामित्र तुमको.HAPPY FRIENDSHIP DAY:-))Dr. Sarika Mukeshhttp://sarikamukesh.blogspot.comhttp://hindihaiku.blogspot.in/...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Sarika Mukesh
अंतर्मन की लहरें Antarman Ki Lehren
50

No Title

मित्रता दिवस पर सभी मित्रों को हार्दिक शुभकामनाओं के साथ यह हाइकु समर्पित....बनो यूँ बड़ेभूले नहीं सुदामा मित्र तुमको.HAPPY FRIENDSHIP DAY:-))Dr. Sarika Mukeshhttp://sarikamukesh.blogspot.comhttp://hindihaiku.blogspot.in/...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
भारतीय नारी
48

No Title

मित्रता दिवस पर सभी मित्रों को हार्दिक शुभकामनाओं के साथ यह हाइकु समर्पित....बनो यूँ बड़ेभूले नहीं सुदामा मित्र तुमको.HAPPY FRIENDSHIP DAY:-))Dr. Sarika Mukeshhttp://sarikamukesh.blogspot.comhttp://hindihaiku.blogspot.in/...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
37

No Title

मित्रता दिवस पर सभी मित्रों को हार्दिक शुभकामनाओं के साथ यह हाइकु समर्पित....बनो यूँ बड़ेभूले नहीं सुदामा मित्र तुमको.HAPPY FRIENDSHIP DAY:-))Dr. Sarika Mukeshhttp://sarikamukesh.blogspot.comhttp://hindihaiku.blogspot.in/...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
WORLD's WOMAN BLOGGERS ASSOCIATION
57

"Come slowly(धीरे से आओ):Emily Dickinson" (अनुवादक-डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

"Come slowly(धीरे से आओ):Emily Dickinson"मेरे हैं अनछुए ओंठ तुम छू लो धीरे से आकर! जैसे मधु की मक्खी हो जाती है मदहोश चमेली की सुगन्ध को पाकर!! घूमती उसके चारों ओर! खिंची आती है वो बिनडोर!! कुछ विलम्ब ही ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
45

ऐसे लड़के घर में रहे -लघु कथा

ऐसे लड़के घर में रहे -लघु कथाऐसे लड़के घर में रहे -लघु कथाdo not copy सुरभि ज्योंही हाथ में किताबें लेकर ट्यूशन के लिए घर से चली उसका बड़ा भाई सोनू उसे धमकाते हुए बोला -'' चल घर के अन्दर ...कोई जरूरत नहीं ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
WORLD's WOMAN BLOGGERS ASSOCIATION
63

ऐसे लड़के घर में रहे -लघु कथा

ऐसे लड़के घर में रहे -लघु कथाऐसे लड़के घर में रहे -लघु कथाdo not copy सुरभि ज्योंही हाथ में किताबें लेकर ट्यूशन के लिए घर से चली उसका बड़ा भाई सोनू उसे धमकाते हुए बोला -'' चल घर के अन्दर ...कोई जरूरत नहीं ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
मेरी कहानियां
61

मायावी गिनतियाँ : भाग 27

उसने अपने हाथ में मौजूद ज़ीरो को राक्षस की ओर बढ़ा दिया। जैसे ही ज़ीरो राक्षस के हाथ में पहुंचा उसके शरीर से तेज़ रोशनी कुछ इस तरह फूटी कि रामू को अपनी आँखें बन्द कर लेनी पड़ीं। उसने आँखें मिचम...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Dr. Zeashan Zaidi
Hindi Science Fiction हिंदी साइंस फिक्शन
73

सपना माँ का ...

मैं देखता था सपने कुछ बनने के भाई भी देखता था कुछ ऐसे ही सपने बहन देखती थी कुछ सपने जो मैं नहीं जान सका पर माँ जरूर जानती थी उन्हें, बिना जाने ही   सपने तो पिताजी भी देखते थे हमारे भविष्य ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
दिगंबर नासवा
21

मेक एप्स मेक मनी

मार्केट में डिजिटल डिवाइसेज बडती ही जा रही हैं और उनसे होने वाली इनकम भी. कुछ महीने पहले सोशल नेटवर्किंग साईट फेसबुक ने इनस्टाग्राम को 50 अरब रुपयें में खरीदा। इनस्टाग्राम के इतनी कीमत में खर...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Farruq
Hindi Internet Technology
102
बचपन के रंग
277

हरि ॐ ... मन तरपत हरि दर्शन को आज ए मोरे तुम बिन बिग्रे सब काज - शकील बदायूनी

जन्मदिन विशेष जीवन के  दर्शन को अपने कागज के कैनवास पर लिपिबद्द करने वाले मशहूर शायर और गीतकार शकील बदायूनी का अपनी जिन्दगी के प्रति नजरिया उनके शायरी में झलकता है | शकील साहब अपने जीवन दर्...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
loksangharsha
लो क सं घ र्ष !
44

इण्डोनेशिया की प्राचीन हिन्दू संस्कृति | Hindu-Vedic Culture of Ancient Indonesia

७वीं - ८वीं सदी तक इण्डोनेशिया में पूर्णतया हिन्दू-वैदिक संस्कृति ही विद्यमान थी इसके आज भी अनेकों प्रमाण मिल रहे है तथा कई तो निर्भय होकर मूरत रूप में खड़े है निम्न जानकारी लाल कृष्ण आडवा...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
प्राचीन सम्रद्ध भारत
15

चलो कोई बात नहीं...

हम दोनों थे सुंदर चमन था, खिले हुए थे प्यारे फूल,जलाया उसे खुद तुमने, चलो कोई बात नहीं।...तुम न रोए,  रोए बाकि सब, देख झुलसाए फूलों को,रोया मैं भी, क्या करता, चलो कोई बात नहीं।...सूरज ने भी,   चांद न...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
kuldeep thakur
man ka manthan. मन का मंथन।
50

People's art - Arte popolare - जन कला

Bangalore, India: In the traditional statues from the Lal Bagh Botanical Gardens, I see the joy of colours and an expression of women's emotions and sexuality. At the same time, the society that accepts similar expressions of popular art, in the daily life asks for binding and hiding women's bodies and behaviours behind veils and social norms.बँगलौर, भारतः लाल बाग बोटेनिकल गार्डन की इन पाराम्परिक मूर...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
Chayachitrakar - छायाचित्रकार
71

जानिए, बॉल प्वाइंट पेन के बारे में

जिस बॉल प्वाइंट पेन से आज आप लिख रहे हैं, उसका निर्माण आज से 75 साल पहले हुआ था। हंगरी के लैस्ज़लों बिरो ने इसे बनाया था। एक दिन बुडापेस्ट की प्रिंटिंग शॉप में उन्होंने देखा कि एक इंक पेपर में लगत...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
ललित चाहार
Tech Education HUB
91

रचनाशीलता की पहुंच कहाँ तक???

वन्देऽमातरम्... सुहृद मित्रों! आज का समय अनेक विसंगतियों से जूझ रहा है। पूंजीवीदी विकास की अवधारण और वैश्वीकरण नें समाज में गहरी खांइयां डाल दी हैं। सदियों से हमारे देश की पहचान रहे गाँव, ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
बृजेश नीरज
61

ज़मीन पे जन्नत

कहाँ चला गया बचपन का वो समाँ यारो! कि जब ज़मीन पे जन्नत का था गुमाँ यारो! बहार-ए-रफ़्ता  को  अब ढूँढें  कहाँ  यारो! कि अब निगाहों में यादों की है ख़िज़ाँ यारो! समंदरों की तहों से निक...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Rajendra kumar
भूली-बिसरी यादें
63

karsog to sainj,करसोग से सैंज

karsog to sainj,करसोग से सैंज towards rampur करसोग से रामपुर के लिये सीधे हाथ को रास्ता जाता है । मै जिस रास्ते से कल आया था अगर उसी रास्ते से जाता तो तत्तापानी होकर जा सकता था पर मेरा अगला टारगेट था नारकंडा इसलिय...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Manu
yatra (यात्रा ) मुसाफिर हूं यारो .............
160

दादू सब ही गुरु किए, पसु पंखी बनराइ : चर्चा मंच 1327

"जय माता दी" अरुन की ओर से आप सबको सादर प्रणाम. चलते हैं आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स पर.दादू सब ही गुरु किए, पसु पंखी बनराइप्रस्तुतकर्ता : डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ सम...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
43

मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

''तुम्हारे दर पर आने तक बहुत कमजोर होता हूँ.मगर दहलीज छू लेते ही मैं कुछ और होता हूँ.''        ''अशोक 'साहिल'जी की  ये पंक्तियाँ कितनी अक्षरशः खरी उतरती हैं दोस्ती जैसे पवित्र शब्द और भावना पर ....  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHALINI KAUSHIK
! कौशल !
79

No Title

                              वह सुरा - पात्र  दो दयानिधे,जब मूड बने तब भर जाए |है आठ लार्ज, कोटा अपना,बिन - मांगे  पूरा कर जाए |प्रातः   उठते ही हैम - चिकन,फ्राइड फिश से हो ब्रेकफास्ट |...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
40


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन