अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

'भारतीय नारी ' ब्लॉग प्रतियोगिता -1 का परिणाम

'भारतीय नारी ' ब्लॉग प्रतियोगिता -1 का परिणाम इस प्रतियोगिता का एक भी जवाब प्राप्त नहीं हुआ .प्रश्न व् उत्तर इस प्रकार हैं -प्रश्न १-आंठ्वी शताब्दी के अंत और नवी शताब्दी के शुरू  में अलवारों म...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
भारतीय नारी
48

धर्मांध राष्ट्रवाद के बसंत उत्सव

मुक्त बाजार की विकासगाथा जमीनी हकीकत न होकर कारपोरेट अर्थशास्त्रियों की आंकड़ा कलाबाजी है। इस बार विकीलिक्स ने वाशिंगटन ​​के जो केबिल लीक किये, उससे साफ जाहिर है कि कैसे सत्तर के दशक से खुल्...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
loksangharsha
लो क सं घ र्ष !
32

क्या जीवन है/हाइकू

१बालू का स्थलजलाभास रश्मि सेतपती प्यास२प्रीति सुमननागफनी का बागव्यर्थ खोजना३तृप्ति कामनाघी दहकाए ज्वालापूर्ति आहुति४जीन यात्राहर क्षण रहस्यरोना या गाना५गन्तव्य कहां!लमकन जारी हैक्या ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vandana
Wings of Fancy
15

"सबको सुख पहुँचाते हैं" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जब-जब आती मस्त बयारें,तब-तब हम लहराते हैं।काँटों की पहरेदारी में,गीत खुशी के गाते हैं।।हमसे ही अनुराग-प्यार है,हमसे मधुमास जुड़ा,हम संवाहक सम्बन्धों के,सबके मन को भाते हैं।काँटों की पहरेदार...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
44
गुज़ारिश
74

कुछ यादगार

याद नहीं क्या क्या देखा था, सारे मंज़र भूल गयेउसकी गलियों से जब लौटे, अपना भी घर भूल गयेखूब गये परदेस कि अपने दीवारो-दर भूल गयेशीशमहल ने ऐसा घेरा, मिट्टी के घर भूल गये************रात यूं दिल में तेरी खो...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Rajendra kumar
भूली-बिसरी यादें
84

पिण्ड छोड़ भी कविता

चलो आज कुछ बता ही दिया जाएकविता की पैदाइश के बारे मेंउम्र, तजुर्बे और प्रतिष्ठा की ऊँची मीनार पर चढ़ेपिता केभारी-भरकम आदेश, उपदेश और झिड़कियांगिरते हैं मुझपररह-रहकरमेरे ज़ख्मों से रिसती है क...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Sanjay Grover संजय ग्रोवर
saMVAdGhar संवादघर
38

"बच्चों के मन को भाती हो" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

तितली आई! तितली आई!!रंग-बिरंगी, तितली आई।।कितने सुन्दर पंख तुम्हारे।आँखों को लगते हैं प्यारे।।फूलों पर खुश हो मँडलाती।अपनी धुन में हो इठलाती।।जब आती बरसात सुहानी।पुरवा चलती है मस्तानी।।तब ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
40

गाएंग गरी फाक

रोज-रोज के वही व्यंजन खाकर आप उब चुके हैं। आप अपने स्वाद को कुछ नया देना चाहते हैं तो गाएंग गरी फाक बना सकते है। इस डिश को आप किसी भी आयोजन में बनाकर लोगों से तारिफ बटोर सकते हैं।कितने लोगों ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Rajat
28

चॉकलेट शेक

चॉकलेट का जिक्र हो और मुँह में पानी न आए, ऐसा हो ही नहीं सकता। बच्चों से लेकर बड़ों तक को चॉकलेट का शौक होता है। इसका प्रयोग उपहार के तौर पर हर त्यौहारों में किया जाता है। आपने चॉकलेट से बनी हर ची...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Rajat
28

'पुरुष' होने का दंभ

बलात्कार जैसी घटनाओं के लिए पुरुषों में 'पुरुष' होने का दंभ भी एक कारण है। पुरुषों को बचपन से यह ही यह अहसास दिलाया जाता है कि वह पुरुष होने के कारण महिलाओं से 'अलग' हैं, उनका होना ज्यादा अहमियत र...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Shah Nawaz
28

‘बाल कविता’

प्रस्तुत कविता मैने अपनी बेटी के लिए लिखी है, जो क्लास २ में पढ़ती है, उसे स्कूल में हिंदी कविता पाठ के लिए कविता चाहिए थी, उसने मुझसे कहा कि कविता पाठ के लिए मैं उसे कोई अच्छी सी कविता ढूंढ कर दू...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
KAVYASUDHA (काव्य सुधा)
KAVYA SUDHA (काव्य सुधा)
51

Old song - Vecchia canzone - पुराना गाना

Bologna, Italy: I had just come out of the library with the books when I heard them. Trumpet, trombone, saxophone, drum .. and Miriam Makeba's old song "Pata, pata". Whole day couldn't stop myself from humming it. They are called Banda Rei and are the subject of today's images.बोलोनिया, इटलीः पुस्तकालय से किताबें ले कर निकला तो उनको सुना. ट्रम्पट, ट्रोमबोने, से...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
Chayachitrakar - छायाचित्रकार
65

Iskon temple , vrindavan इस्कान मंदिर , वृंदावन

अपनी ब्रज यात्रा के दौरान हमें इस्कान मंदिर को देखने का मौका मिला । ये मंदिर श्रीकृष्ण के विदेशी भक्तो में काफी लोकप्रिय है और इसमें कई भक्त तो ऐसे हैं ​जो कि अपने देश को छोड​कर यहीं पर बस गये ह...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Manu
yatra (यात्रा ) मुसाफिर हूं यारो .............
112

क्या कहता

ख़ुदा जाने मैं क्या कहता, जो कहता मैं क्या कहतासही के लिए क्या कहता, ग़लत के लिए क्या कहतारहती है दूर क्या कहता, मिलने को ही क्या कहतामिलते रहना ही क्या कहता, क्या है दिलमें क्या कहतासूरज और चंद...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
तुषार राज रस्तोगी
तमाशा-ए-जिंदगी
42

जय माँ शारदा : चर्चा मंच 1214

"जय माता दी" अरुन की ओर से आप सबको सादर प्रणाम.  आइए चलते हैं आज की चर्चा की ओरमाँ शारदा के श्री चरणों में समर्पित एक घनाक्षरी छंदडॉ आशुतोष वाजपेयी शक्ति भक्ति मुक्ति पथ की प्रदायिनी हो अम्ब ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
242

शुक्रिया तेरा

शुक्रिया तेराप्रत्येक जतन के लिएहर पल सुनने के लिएपरवाह करने के लिएप्यार करने के लिएखुद को खुद की तरहरखने के लिएहैरान रह जाता हूँ मैंकैसे रहती है तू इतनी शांतकहाँ से लाइ है इतनी सहनशीलताक्य...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
तुषार राज रस्तोगी
तमाशा-ए-जिंदगी
49

कौन गलत था कौन सही

उस दिन क्यों सोचा मैंनेशायद इश्क मैं करता हूँआह! पर क्या वह मेरेजीवन की सबसे बड़ी गलती थीकुछ उतावले, बचकाने जज़्बातों नेदिखलाये ना जाने मुझे कितने अवसादअरसा गुज़र गया तब सेपर रञ्ज आज भी...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
तुषार राज रस्तोगी
तमाशा-ए-जिंदगी
43

मैं पुरुष हूँ !

 मैं पुरुष हूँ ,मैं एक माँ का  बेटा हूँ ,बहन का भाई हूँ औरबेटी का पिता हूँ !घर से  कदम जब बाहर निकलते हैंऔर देखता हूँ किसी महिला कोउम्र के लिहाज सेमन में भाव जगते हैं !कार्यस्थल पर जाते समय...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
WORLD's WOMAN BLOGGERS ASSOCIATION
65

आइये जानते है नवरात्रि के खान -पान के बारे में

मनोज जैसवाल : सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार। चैत्र नवरात्रि की शुरुआत हो चुकी है। जाहिर है, पूरे नौ दिन मां की पूजा-अर्चना खूब धूमधाम के साथ होगी और साथ में आस्‍थावान लोग व्रत भी रखेंगे...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
manojjaiswalpbt
ultapulta
91

रिश्तों पर कलंक :पुरुष का पलड़ा यहाँ भी भारी

 रिश्तों पर कलंक :पुरुष का पलड़ा यहाँ भी भारी ''रिश्तों की ज़माने ने क्या रीत बनायी है ,   दुश्मन है मेरी जां का लेकिन मेरा भाई है .''पुरुष :हमेशा से यही तो शब्द है जो समाज में छाया है ,देश में छाय...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHALINI KAUSHIK
! कौशल !
48

मी लार्ड! हमें न्याय चाहिए

किसी की अवमानना मकसद नहीं है। अगर होती है, तो ये उसके अपने कर्म हैं, जिसका जिम्मेदार किसी और को नहीं ठहराया जा सकता। सवाल उठते हैं, तो उठाना भी जरूरी है। लगभग चार महीने पहले वर्ल्ड जस्टिस प्रोज...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
loksangharsha
लो क सं घ र्ष !
38

'जय माता दी' के जयकारे के बीच देवा की वैष्णोधाम यात्रा

-राजेश त्रिपाठीवर्षों से मां वैष्णो देवी धाम की यात्रा की उत्कट अभिलाषा थी। सहधर्मिणी भी मां की  अनन्य भक्त है, उसे भी उनके दर्शन की लालसा थी। वर्षों से जिस माता के स्टिकर गाड़ियों, दूकानों व...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Rajesh Tripathi
Kalam Ka Sipahi / a blog by Rajesh Tripathi कलम का सिपाही/ राजेश त्रिपाठी का ब्लाग
269
Voice of Silent Majority
48

No Title

अज्ञानताबाँटने थे हमेंसुख-दुःखअंतर्मन कीकोमल भावनाएंशुभकामनाएं और अनंत प्रेमपर हमबँटवारा करने में लग गएजमीन पानी आकाश हवाऔरलडते रहेउन्हीं तत्वों के लिएजो अंततःसाबित हुए मूल्यहीन.    ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
भारतीय नारी
53

"ओ बन्दर मामा" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

कहाँ चले ओ बन्दर मामा,मामी जी को साथ लिए।इतने सुन्दर वस्त्र आपको,किसने हैं उपहार किये।।हमको ये आभास हो रहा,शादी आज बनाओगे।मामी जी के साथ, कहींउपवन में मौज मनाओगे।।दो बच्चे होते हैं अच्छे,...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
48

Shimla is One of the Attractive Destinations Around India

Height of the Town: This town lies between 2,100 m and 2,300mLanguages spoken: In Shimla mostly Hindi, Punjabi and Pahari and also EnglishReligion: There are mostly Hindu and also Muslim, Christian and SikhTelecommunications: Shimla has good worldwide links by the net, telephone and fax and many others services, code: 0177Places to visit in Shimla                        &n...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Manu
Kangra Valley
196

No Title

 पत्र की महिमाएकाएक ही पुरानी डायरी मेंरखा मिल गया एक पत्रऔर ताजा हो उठी एक गुजरे जमाने की यादकितना अच्छा लगता था जब हम करते थे डॉकिये की प्रतीक्षाऔर भर उठते थे खुशी से जब डॉकिया लाता...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Sarika Mukesh
अंतर्मन की लहरें Antarman Ki Lehren
46

बेटा डोइचेवैले ! पटना, दिल्ली , नखलऊ होते तो .........ढिच्क्याउं , ढुम ढुम ढुम

पहिले तो हम आपको ई डोइचे वेले से परिचय कराते चलें , नहीं नहीं जी बिल्कुल नहीं , आजकल जिस तरह से इस डोइचेवेले को लेकर पकेले से थकेले टाइप का घमासान छिडा हुआ है उससे आपको इहे फ़ील हो रहा होगा कि जरूर ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
अजय कुमार झा
कुछ भी...कभी भी..
143

महिला सशक्तिकरण और मुख्यमंत्री जी -एक राजनैतिक लघु कथा

 महिला सशक्तिकरण और मुख्यमंत्री जी -एक राजनैतिक लघु कथा एक राज्य के मुख्य मंत्री महोदय महिला उद्यमियों के कार्यक्रम में महिला -सशक्तिकरण एवं भ्रूण हत्या  मुद्दों पर बोल रहे थे .पूरे कार्...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
WORLD's WOMAN BLOGGERS ASSOCIATION
81


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन