अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

Listening to Online Radio on Mobile costed me more!

This is a real incident which happened during the last fall of 2010. Those days, I was a mixture of Bollywood Song lover and an Internet enthusiast. I was using Nokia E52 symbian 60 handset and the only medium to listen to latest hit songs on mobile, that I used excessively was an application for streaming Online Radio.                   Being a spoiled brat, I used to recharge my mobile with high denominat...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Janak Kumar Yadav
2

अंदाज ए मेरा: ‘यार, ये एलेक्स तो बड़ा मतलबी निकला...!’

अंदाज ए मेरा: ‘यार, ये एलेक्स तो बड़ा मतलबी निकला...!’:  ‘फक्र है हमें कि हमने अपने कर्तव्यों की पूर्ति के लिए अपनी जान दे दी। हम एक पल भी नहीं डिगे और हमने वो काम अपनी आखिरी सांस तक करने की......  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
हम हिंदी चिट्ठाकार हैं
96

लघु कथा- ''माँ मैं इसलिए बच गया ''

लघु कथा- ''माँ मैं इसलिए बच गया ''गूगल से  साभार सब्जी मंडी में अचानक रूपाली का चार वर्षीय  बेटा अर्णव ज्यों ही उससे हाथ छुड़ाकर भागा  तो  रूपाली का सारा ध्यान अर्णव की  ओर  च...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
मेरी कहानियां
55

PMC

5 वर्ष पूर्व
Rajiv Mani
MANIfeature
47

झा जी रिपोर्टिंग बैक सर जी

पिछले दिनों अनियमित रहने के बाद अब फ़िर से गाडी को पटरी पर लाने की फ़ुल्लम फ़ुल्ल तैयारी चल रही है । इन दिनों जो कुछ पढते देखते रहे , और उस पढ देख कर जो भी ये मन बेसाख्ता सा कुछ कह गया .,..लीजीए आपके सा...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
अजय कुमार झा
झा जी कहिन
49

कोल्ड-बोल्ड ब्लॉगिंग और फ़ास्ट फ़्युरियस फ़ेसबुक

 हिंदी अंतर्जाल का चेहरा , अपने पैदा होने से अब तक लगातार इतना तेज़ी से बदलता रहा है कि , कभी तो उसको साहित्य अपने निशाने पर लेता है ,ये कह कर कि इस पर जो कुछ भी उपलब्ध कराया जाता है वो स्तरहीन है , ज...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
अजय कुमार झा
कुछ भी...कभी भी..
44

अंदाज ए मेरा: क्या समझौता? कैसी शांति? कैसी रिहाई?

अंदाज ए मेरा: क्या समझौता? कैसी शांति? कैसी रिहाई?: सरकार ढोल पीट रही है कि उसने सुकमा के कलेक्टर एलेक्स पाल मेनन की रिहाई का रास्ता आखिर तय कर लिया। सब कुछ ठीक रहा तो गुरूवार को मेनन सुरक......  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
हम हिंदी चिट्ठाकार हैं
93

No Title

फिल्मी चर्चाचुम्बन स्टार बने ‘राजा जी’रुट्स एण्ड इट्स फिल्म के बैनर तले बनी पहली भोजपुरी फिल्म ‘राजा जी’ का निर्माण किया गया। यह पारिवारिक फिल्म पूरी तरह एक्शन एवं इमोशन से भरपूर है। फिल्म ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Rajiv Mani
MANIfeature
280

कांटे से ही कांटे को निकाला मैंने ….

जिस्म को बेइंतिहाँ उछाला मैंनेबिखरकर खुद को संभाला मैंने.बेदर्द का दिया दर्द सह नहीं पायापत्थर का एक ‘वजूद’ ढाला मैंने.किरदार छुपा लेते हैं एहसासों कोखुद को बना डाला रंगशाला मैंने.एहसास उन...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
M Verma
जज़्बात
70

तो तुम नाराज़ तो नही होंगी न ?

   image courtesy : google images अचानक एक मोड़ पर , अगर हम मिले तो ,क्या मैं , तुमसे ; तुम्हारा हाल पूछ सकता हूँ ;तुम नाराज़ तो नही होंगी न ?अगर मैं तुम्हारे आँखों के ठहरे हुए पानी सेमेरा नाम पूछूँ ; तो तुम नाराज़ तो ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
कविताओं के मन से....!!!!
49

इंसान ओढ़े है नकाब

आज चारों ओरदेखने को मिलते हैंनकाब ओढ़े इंसान |अक्सर फाईलों के ढेर में अपने सर को छुपाए दिखाई देते हैं जो निर्बल असहाय से काम के बोझ तले दबे |पर स्वत: ही बदल जाता है उनका स्वरूप ज्यूँ ही मेज के न...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
सु-मन (Suman Kapoor)
बावरा मन
39

जो अपनी संस्कृति की बात करे, क्या वो पोंगापंथी है?

कैसे कहें कि हम आज़ाद हैं !- लेखक : जीवराज सिंघी जी हम भारत के लोगों में आजादी का बोध ज़रा भी विकसित नहीं हो पाया. इसके विपरीत गुलामी के संस्कार लगातार मज़बूत होते गये. इस बात की पुष्टि के लिये किसी ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
हंसराज 'सुज्ञ'
॥ भारत-भारती वैभवं ॥
54

बलोचिस्तान: आज़ाद देश का सपना दूर नहीं

 बलोचिस्तान पाकिस्तान का एक सूबा है. पाकिस्तान के ४४ % क्षेत्रफल में फैला बलोचिस्तान प्राकृतिक सम्पदायों का धनि है, लेकिन पिछले ६० सालों में इसे तथा बलूच लोगों को मिला है तो सिर्फ तिरस्कार, आ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Akbar Khan
TheNetPress.Com
168

रात के अन्धेरे में.......

रात के अन्धेरे मेंमैअपने दर्द कोहौले-हौले थपथपा के सहला केसुलाने का प्रयास करता रहाऔर तेरी यादेंकिसी नटखट बच्चे की तरहआ-आकरन उसे सोने देती,न मुझे सुलाने देतीमै चिडचिडाता हूँ,बिगडता हूँपर स...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Vikram singh
vikram7
75

सीने की बुझी राख में अंगारों की दमक बाकी है

सीने की बुझी राख में अंगारों की दमक बाकी है हौसले पस्त क्यों हों, जोशीली खनक बाकी है नादां ना कर गुमां, कि बूढ़ा हो चला है शेर वोह बाजुओं का ज़ोर और दांतों की चमक बाकी है मुझको इस सफ़र का थका हुआ र...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Shah Nawaz
24

नंगई बड़ी पावरफूल होत हैं ।

आज चौबे जी की चौपाल लगी है राम भरोसे की मडई में । चटकी हुई है चौपाल । चुहुल भी खुबई है । खुले बरामदे में पालथी मार के बैठे हैं चौबे जी महाराज । यूट्यूब से लेकर ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Ravindra Prabhat
चौबे जी की चौपाल
101

हिंदी ब्लॉगिंग को समाज की बुराईयों से बचाने की जरूरत

 रविवार, 29 अप्रैल, 2012  इस मौके पर हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग के प्रभाव के सबने एकमत से स्‍वीकारा। भारत की राजधानी के दिल कनॉट प्‍लेस के द एम्‍बेसी रेस्‍तरां में एक हिंदी ब्‍लॉगर संगोष्‍ठी लखनऊ स...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Ravindra Prabhat
27

ओ कृष्ण!

बताना कृष्णकौन है तुम्हें प्रियराधा या मीरा?रास रचातेअब भी मथुरा मेंक्या तुम कृष्ण?        निधि-वन मेंसुना है आज तकरास रचाते                सारथी बनतुमने अर्जुन काचलाया रथ       &...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Sarika Mukesh
अंतर्मन की लहरें Antarman Ki Lehren
61

वह खुश हो लेता है!

छोटू की कोई अपनी बपौती नहीं, वह हक़ से कूड़े के ढ़ेर पर भी अपना अधिकार नहीं जता पाता. जब कभी उसने ऐसी हिमाकत करने की कोशिश की तो मोहल्ले भर के भुक्कड़ कुत्तों ने उसे खदेड़ने की एकजुट होकर पुरजोर ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Kavita Rawat
KAVITA RAWAT
145
TheNetPress.Com
72
दिल्ली ब्लागर्स एसोशिएशन DELHI BLOGGERS ASSOCIATION
90

निर्मल बाबा और चैनलों की बंद आँख

निर्मल बाबा और चैनलों की बंद आँखनिर्मल बाबा जॆसे लोग ऒर मिडिया, लोगों को किस तरह बेवकूफ बनाकार चांदी काट रहे हॆं? ’हस्तक्षेप’ में प्रकाशित पढिये यह खबर...............  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
विनोद पाराशर Vinod Parashar
दिल्ली ब्लागर्स एसोशिएशन DELHI BLOGGERS ASSOCIATION
80

Waiting for you

Oh my love !waiting  for you a long way               am being reachedto the stage of life from wherethe journey of life once started comes to an end  with the breakage of last breathe...but again right from here        the second journey starts which will finally be overin the doomsday...such a journey of your love I have to pass through in the life from one place to far off  distanceseven life a...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Firdaus Khan
The Paradise
91

"मॉर्फिंग" का एक शानदार नमूना...

वर्षों पहले एक अँग्रेजी अखबार में एक विज्ञापन देखा था, जिसमें एक बड़ा-सा चित्र भी छपा था. पहली बार चित्र को देखकर मैं चौंक गया था. बाद में समझा- यह एक खूबसूरत मजाक है... आप भी इस चित्र का आनन्द लीज...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
जयदीप शेखर
कभी-कभार
53

आवाज ही पहचान है | गर याद रहे ......

अक्सर हम बहुत सी आवाज़ों से खुद को घिरा हुआ पाते हैं | जन्म से लेकर शमशान तक ये आवाज़े हमारा पीछा नहीं छोड़ती | मशीनों की आवाजे . गाड़ियों की आवाज़े लोगों की आवाज़े ...अनगिनत आवाज़े | जानी - अनजानी आ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
mamta vyas
मनवा
66

"सबका मन बहलाते हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

कभी झगड़ते हैं आपस में,कभी दोस्त बन जाते हैं।मन में मैल नहीं रखते जो,वो बच्चे कहलाते हैं।।तन से चंचल, भोले-भाले,नित्य दिखाते खेल निराले,किस्से-कथा-कहानी में जो, जिज्ञासा दिखलाते हैं।मन म...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
44

‘राजधानी में एक उज़बेक लड़की’ पुस्तक का लोकार्पण

डा. मोहय्या अब्दुरहमान (ताशकंद), अरविन्द श्रीवास्तव , डा. असगर अली इंजीनियर, सतीश कालसेकर (मराठी साहित्यकार) व डा. चैथी राम यादव (पूर्व आचार्य बीएचयू)गत दिनों ( 13 अप्रैल 2012 ) दिल्ली विश्वविधालय के न...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
- अरविन्द श्रीवास्तव
72

माननीय साथियो..........

 माननीय साथियोतीन साल के अपने ब्लॉग लेखन में मुझे एक से एक अच्छी व उच्च स्तरीय  रचनाये पढने को मिली,व आज भी उम्दा लेखको का प्रवेश ब्लॉग जगत में हो रहा है,मै अपनी पिछली  पोस्ट,  वब्लॉग बुले...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Vikram singh
vikram7
72

सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिय ने शुक्रवार को संत खेतेश्वर महाराज की 28वीं पुण्यतिथि श्रद्धा से मनाई

सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिय ने शुक्रवार को संत खेतेश्वर महाराज की 28वीं पुण्यतिथि श्रद्धा से मनाई! सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया के सरंक्षक ठा.श्री सुजन सिंह ,ठा.श्री भवर सिंह, श्री विरम सिंह राजपु...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
34


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन