अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
हमारे विषय
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

जाने क्यों करते हैं भगवान की परिक्रमा

शास्त्रों में भगवान को प्रसन्न करने के लिए कई मार्ग बताए गए हैं। यह अलग-अलग विधियां भगवान की प्रसन्नता दिलाती है जिससे हमारी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। ईश्वर को प्रसन्न करने के लिए लो...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Journalist
मेरा संघर्ष
55

गति के नियम : महर्षि कणाद | Laws of Motion by Maharishi Kanada : 600BC

जी हाँ दोस्तों ,शीर्षक बिलकुल सही है इस संसार को गति के नियम महर्षि कणाद ने दिए है ना की कोई न्यूटन फ्यूटन ने ।वैशेषिक दर्शन (Vaisheshika Sutra) के रचनाकार महर्षि कणाद लगभग २ या ६ ईसा पूर्व प्रभास क्षेत...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
हंसराज 'सुज्ञ'
॥ भारत-भारती वैभवं ॥
358

कई प्रवक्ता बहुवचन, थोथा शब्द प्रहार-

कार्टून कुछ बोलता है- दहशतगर्द भोजन !पी.सी.गोदियाल "परचेत" अंधड़ ! गुरुवर मिड डे मील पर, पाले नव फरमान |कुत्तों को पकड़ा रहे, पा जोखिम में जान |पा जोखिम में जान, प्यार से उसे जिमायें |खा के पहला ग्...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रविकर
"लिंक-लिक्खाड़"
46

"प्यार का हो व्याकरण" (दिलीप कुमार तिवारी "घायल")

 अमल नवल है सुमनरूप का प्रबलचमनहो जहाँ सबल सृजन  अमनका हो आवरणक्यों न फिर पड़े वहाँदेवताओं के चरणवाद हो विवाद होदुःख का विषाद होकिन्तु बात-बात मेंप्यार का हो व्याकरण शान्ति का वातावरणप्र...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
155

नमिता राकेश,मनोज अबोध,रामा द्विवेदी और चंडी दत्त को परिकल्पना काव्य सम्मान

विगत 22 जुलाई 2013 को उद्घोषित "परिकल्पना ब्लॉग गौरव युवा सम्मान" से आगे बढ़ते हुये : अब बारी है परिकल्पना काव्य सम्मान की : परिकल्पना काव्य  सम्मान के अंतर्गत स्मृति चिन्ह, सम्मान पत्र, ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Ravindra Prabhat
परिकल्पना
43

मायावी गिनतियाँ : भाग 18

'अब आगे जाने की ज़रूरत ही क्या है। इसी जंगल में बाकी जिंदगी गुज़ार देता हूं। आखिर पुराने ज़माने में सन्यास लेने के बाद साधू सन्यासी यही तो करते थे।' उसके ज़हन में आया और वह वहीं एक डाल पर पसर ग...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Dr. Zeashan Zaidi
Hindi Science Fiction हिंदी साइंस फिक्शन
63

ग़ज़ल (ये कैसा परिवार)

मेरे जिस टुकड़े को  दो पल की दूरी बहुत सताती थीजीवन के चौथेपन में अब ,बह सात समन्दर पार हुआ   रिश्तें नातें -प्यार की बातें , इनकी परबाह कौन करें सब कुछ पैसा ले डूबा ,अब जाने क्या व्यवहार हुआ  ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Madan mohan saxena
मदन मोहन सक्सेना की ग़ज़लें
84

दोष किसका??

दोषकिसका?? हेल्लोकौनबोलरहीहो? मैंसीमाबोलरहीहूँआपकौन ? तेरीदुश्मनतूदोस्तीकेनामपरकलंकहैतूदोस्तनहींआजसे  मेरीपक्कीदुश्मनहैतूनेमेराघरबर्बादकरवायामेरेबेटेकीजिंदगीखराबकरदीवोज...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHIKHA KAUSHIK
WORLD's WOMAN BLOGGERS ASSOCIATION
50

क्या है प्यार ?

क्या है प्यार ?आज की २१ सदी में प्यार होना लडके और लड़की के बीच में आम बात  है लेकिन ये आम बात कभी कभी दो ज़िन्दगियो और कई परिवारों और पीदियो की दुश्मनी औ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Ashish
कानपुर पत्रिका
121

एक शाम संगम पर {नीति कथा -डॉ अजय }

मैं लगातार मिलने वाली असफलता से टूट चूका था ,पढाई से कोसो दूर....... हर परीक्षा में फेल .....,समझ में नही आता था की मेरा लक्ष्य क्या हैं ?मैं खुद कों पैरेंट्स और धरती के लिए बोझ से ज्यादा कुछ भी नही समझता...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
ajay kumar
"मन की बातें"
151

क्यूँ खामखाह में ख़ाला,खारिश किये पड़ी हो ,

क्यूँ खामखाह में ख़ाला,खारिश किये पड़ी हो ,खादिम है तेरा खाविंद ,क्यूँ सिर चढ़े पड़ी हो . …………………………ख़ातून की खातिर जो ,खामोश हर घड़ी में ,खब्ती हो इस तरह से ,ये लट्ठ लिए पड़ी हो .............................................  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SHALINI KAUSHIK
! कौशल !
42

फिर भी शेष गरीब, बड़े काहिल नालायक-

लोरी कैलोरी बिना, बाल वृद्ध संघर्ष |किन्तु गरीबी घट गई, जय हे भारतवर्ष |जय हे भारत वर्ष, जयतु जन गन अधिनायक |फिर भी शेष गरीब, बड़े काहिल नालायक |कमा सकें नहिं तीस, खाय अनुदान अघोरी |या नेता चालाक, लूट...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रविकर
रविकर-पुंज
55

जाकिर नाइक की जाहिलाना बातें

"आपने कितना भी बड़ा गुनाह किया हो … चोरी की, डाका डाला, बलात्कार किया है और आप खुदा पर ईमान ले आते हैं और इस्लाम कबूल करते हैं तो आपके सारे गुनाह माफ़ ! ज़न्नत सिर्फ एक कलमा पढ़कर जाया जा सकत...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
prakash govind
114

RUMI

Let us fall in love againand scatter gold dust all over the world.Let us become a new spring...and feel the breeze drift in the heavens' scent.Let us dress the earth in green,& like the sap of a young treelet the grace within sustain us ...~Rumi~...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
HRUDAYAM :: ह्रदयम
68

प्यारे सवाल!

मुसाफ़िरअपने सफ़र पे निकल जाते हैं, काहेपुराना नाम- सामानलिये जाते हैं।।रास्तेजिंदगी के कभी खत्म नहींहोते,जोप्यार करते हैं उऩ्हें जख्मनहीं होते!!सबअपने रस्ते हैं मर्ज़ी के मोड़गये, आपखा...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Adhurapan
अनकही
72
THE MUSIC OF MY LIFE : मेरे जीवन का संगीत
76

Dreams !!!

My Dear souls ;Namaskaar .Follow your dreams.  Chase your dreams. They are so important for you. They make you ticking all the time and give your life a meaning.  It’s only your dreams which takes you, where you really want to go. After-all life is all about dreaming something and acquiring it by hard and honest efforts. Believe me - Dreams in your eyes will make your world brighten. Much Love, Light, Hugs, Blessings !!! Swami Prem Vijay ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
HRUDAYAM :: ह्रदयम
58

गलतियां

मेरे प्रिय आत्मन ; नमस्कार , जैसे की अमिताभ बच्चन ने एक बार कहा था कि दुसरो की गलतियों से सीखे. क्योंकि हम इतने दिन नहीं जिंदा रह सकते है की उतनी गलतियां कर सके. आज की देशना यही है कि दोस्तों; हम ये ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
THE INNER JOURNEY ::: अंतर्यात्रा
82

ZEN STORY : Purpose of life

ZEN STORY : Purpose of life A frustrated young man went to see the wise man in his village.“I don’t know what to do with my life. How do I find my purpose?” the young man asked.“Follow me,” said the old man.Silently, they trudged together to a far away river where they found dozens of prospectors panning for gold.“There are three types of prospectors here,” the sage said.“What do you mean?” the young man inquired.“There are those who strike gold straight away. Excited, they t...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
HRUDAYAM :: ह्रदयम
82

मौत का पता पहले चल जाए तो क्या होगा

जीवन बीतता है बूंद-बूंद। रिक्त होता है रोज। हाथ से जैसे रेत सरकती जाए वैसे ही पैर के नीचे की भूमि सरकती जाती है। दिखाई नहीं पड़ता क्योंकि देखने के लिए बड़ी सजगता चाहिए। और इतने धीमे-धीमे बीतता ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
darshan jangra
प्रेम के फूल
88

I FORGIVE YOU ...!!!

Life Management tools : 10 Reasons to Forgive the Person You Hate the Most…!My Dear Souls ; And one fine night an angel said to me , “Forgive the person you hate the most.”This was difficult: I mean it was not easy but in that moment, I surrendered and my ego crumbled.  Everything I learned since childhood came pouring through me.  I had no more excuses about why not to forgive this person.  Instead, I embraced several reasons to do just that.  I focused passionately on...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
vijay kumar sappatti
HRUDAYAM :: ह्रदयम
62

मारवाङी शब्द तरकश रा तीर....श्री नरपतसिंह राजपुरोहित

"मारवाङी शब्द तरकश रा तीर "वाह रे म्हारा भारत अटै काँई काँई होवे खटका ,धोली टोपी रे धणियोँ री अटै चाले मरजी ,पाँच बरस री कुरसी खातर वोट पङावै फरजी ,बात बितया समझ मेँ आवैतो जनता रे मगज मेँ लागे झटक...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
  Sawai Singh Rajpurohit
RAJPUROHIT SAMAJ
166

विहान के जन्मदिन पर

                विहान के जन्म दिन पर नाना और नानी का                            ढेरों प्यार और आशीर्वाद नव दिन का प्रारम्भ सदालाली विहान की आने से.होता प्रकाश का अभ्युदयप्र...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Kailash Sharma
बच्चों का कोना
207

मौसम के मिजाज को पढ़ने गगन में पहुंचा इनसेट-3D

भारत के आधुनिक मौसमी उपग्रह इनसेट-3डी का फ्रेंच गुयाना के कोउरू स्थित स्पेसपोर्ट से आज एक यूरोपीय रॉकेट के जरिए सफल प्रक्षेपण किया गया। इससे मौसम की भविष्यवाणी करने और आपदा की चेतावनी देने व...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
ललित चाहार
Tech Education HUB
66

तरक्की / लड़कपन / माहौल (क्षणिकाएं)

तरक्की *******बाबा रखते थे कदमड्योढ़ी के भीतर खांसकरचाचियाँ बाहर निकलतींसर पे पल्लू ढांपकरदेखिये इस बार पीढ़ीक्या तरक्की कर गईअब चुने जाते हैं शौहरकुछ दिनों तक जांचकर !================================लड़कपन********...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
prakash govind
58

खुशबुओं की बस्ती

खुशबुओं  की   बस्ती में  रहता  प्यार  मेरा  हैआज प्यारे प्यारे सपनो ने आकर के मुझको घेरा हैउनकी सूरत का आँखों में हर पल हुआ यूँ बसेरा हैअब काली काली रातो में ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
Madan mohan saxena
मदन मोहन सक्सेना की रचनाएँ
64

Rajasthani colours - Colori del Rajasthan - राजस्थानी रंग

Bologna, Italy: If someone asks me which are the colours of Rajasthan, I would say red and yellow. If you travel in Rajasthan, often you see these two colours in the dresses of the women and the turbans of the men. The flowers of today's images also have these two colours.बोलोनिया, इटलीः कोई मुझसे पूछे कि राजस्थान के कौन से रंग हैं तो मैं कहूँगा लाल और पीला. र...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
SUNIL DEEPAK
Chayachitrakar - छायाचित्रकार
44

ले आतंकी पक्ष, अगर लादेन का कर्जी-

दर्जी दिग्गी चीर के, सिले सिलसिलेवार |कह फर्जी मुठभेड़ को, पोटे किसे लबार |पोटे किसे लबार, शुद्ध दिखती खुदगर्जी |जाय भाड़ में देश, करे अपनी मनमर्जी |ले आतंकी पक्ष, अगर लादेन का कर्जी |पर भड़का उन्माद, ...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रविकर
"कुछ कहना है"
46

झापड़ पाँच रसीद कर, कर मसूद को माफ़ -

कुण्डलिया छंद : अरुण कुमार निगम निर्मम  दुनियाँ  से  सदा , चाहा  था   वैराग्यपत्थर सहराने लगा ,  हँसकर अपना भाग्यहँस कर  अपना  भाग्य , समुंदर की गहराईनीरव बिल्कुल शांत, अहा कितनी सु...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
रविकर
"लिंक-लिक्खाड़"
148

"कार्टून-कुनबागिरि नहीं..अपने बूते पर हैं" (कार्टूनिस्ट-मयंक)

खबरदार..!वंशवाद मत कहना..!हम अपने बूते पर ज़िन्दा हैं...!कार्टूनिस्ट-मयंक...  और पढ़ें
5 वर्ष पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
कार्टूनिस्ट-मयंक खटीमा (CARTOONIST-MAYANK)
120


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन