अल्प विराम की पोस्ट्स

माँ की व्यथा

6 दिन पूर्व
अल्प विराम
0

मैं और तुम

2 सप्ताह पूर्व
अल्प विराम
0

मौन प्रतीक्षा

3 सप्ताह पूर्व
अल्प विराम
4

अश्रुनीर

1 माह पूर्व
अल्प विराम
4

माँ

1 माह पूर्व
अल्प विराम
15
अल्प विराम
10
अल्प विराम
5

तेरी याद

2 माह पूर्व
अल्प विराम
6

मिथ्या

2 माह पूर्व
अल्प विराम
8

चाहत

2 माह पूर्व
अल्प विराम
5

अमिट संदेश

2 माह पूर्व
अल्प विराम
4

अतृप्ति

2 माह पूर्व
अल्प विराम
4

नम आँखें

2 माह पूर्व
अल्प विराम
4

तजुर्बा

2 माह पूर्व
अल्प विराम
4

इल्म

2 माह पूर्व
अल्प विराम
4

अम्बर- निशा संवाद

अम्बर निशा सेकर रहासंवादहे प्रिये !तुम रोज रातआती करनेमुझसे मुलाकाततारों कीटोली  संगकरने अभिसार।गिन घड़ी-घड़ीपहर -पहरकरता मैं भीनित तुम्हाराइन्तज़ारदूर  से हीजान लेतातुम्हारी चंचलपदच...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
अल्प विराम
7

ये मेरा जीवन दीप

आस की बातीनेह की  लौ    जलाए हृदय मेंजल रहाजो प्रतिपल ।ये मेरा जीवन दीपकभी चंचलकभी अविचलडोले कभीहोकर विकल।ये मेरा जीवन दीपपल पलकरता  आलोकित -प्रिय पथलिए  नयनों मेंआलौकिक  प्रित।य...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
अल्प विराम
4

प्रिय ! तुम तक कैसे मैं आती

प्रिय !  तुम तक कैसे मैं आतीसांसो के अक्षयबंधन मेंबोझिल  सांसेंआती जातीपग -पग चलती राह न पातीअनजाने पथ  मेंखो जाती ।प्रिय !  तुम तक कैसे मैं आतीसिसक -सिसक करमेरी पीड़ाजब -जब अपनीकरुणा ग...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
अल्प विराम
4

वो लघु पल ना अबआएगा

वो लघु पल ना अबआएगाबिता हर  पल ,इतिहास नया रचाएगा ,पर लौट कर -वो लघु पल ना अबआएगानिजता से तुमनेइन प्राणों  को अनमोलबनाया थाबन पारसजीवन-पाषाणसजाया थाकहो प्रिये!दूर होकरतुमसे-इनका मोलअब कौ...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
अल्प विराम
4

क्या तुम ....

क्या तुम ....अविरल बहते दृग मोती में, मेरी करुणा का भारक्या तुम सह पाओगे ,जब आओगे, कभी इस पार ।असीम सुख-वैभव  किया उर-वेदना  के नामतुम भी कर पाओगे क्या कभी  ऐसा बलिदान ।अपनी हर पीड़ा को समझा मैं...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
अल्प विराम
4

है आज विकल लघु प्राण मेरे

                                                               है आज विकल लघु प्राण मेरे...पल पल में  बसेयुगों के फेरेविरह तम ने लगाएक्यू्ं  उर पर पहरेहै आज विकल लघु प...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
अल्प विराम
4

कामना

नहीं चाहती करो तुम मुझ पर कोई उपकार देना चाहो तो दे देना सच्चे नेहका उपहार।       सपनों केअनंत पथ में थम जाऊँ जब जब होकर हताश रच देना तब तबआकर तुम आशा का नया आकाश।व्...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
अल्प विराम
4
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
karan
karan
dsaua,India
Vipeenchandra Pal
Vipeenchandra Pal
Ballia,India
Hindi
Hindi
,India
phentermine buy
phentermine buy
uriYdpYiQaPOaOnOiVY,
veerpratap
veerpratap
kurukshetra,India