राधे गोपाल
राधे का संसार की पोस्ट्स

गीत "तुमसे जीवन चलता है" (राधा तिवारी)

जब तुमसे बातें होती है, दिल को अपनापन मिलता है। देख तुम्हारी अनुपम छवि को, मेरा उपवन खिलता है।। याद तुम्हारी मेरे मन से, कभी भुलाई नहीं है जाती।कितनी कोशिश करूँ मगर, ये बरबस आकर हमें सताती।।...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
राधे का संसार
5

दोहे ''आलू है पर्याप्त '' (राधा तिवारी)

आलू की महिमासबजी में आलू रहा , पहले से सरताज ।आलू के बिन है नहीं, बनता कोई काज।।लौकी-कद्दू बन रहे,  या बनता हो साग।चलता सबके साथ में, आलू का ही राग।।आलू–पालक साग में, हो पनीर का साथ।तड़का लहस...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
राधे का संसार
4

दीपक सदा जलाया है (राधा तिवारी)

जब अपने मन मंदिर में अंधकार को पाया है तब-तब मैंने इस मन्दिर में दीपक सदा जलाया है इस ज्योति से रोशन हो जाये मेरे मन का कोनाछल-फरेब का मन से हट जाये सारा जादू-टोना प्यार से मैंन...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
10

गीत ''जन्मदिन पर प्यार का उपहार दें हम''

परम श्रद्धेय गुरु जी डॉक्टर रूपचन्द्र शास्त्री जी को जन्मदिन की हार्दिक बधाई देते हुए ईश्वर से प्रार्थना करती हूं कि आप सदा हँसते-मुस्कुराते रहें और दीर्घायु हों। मैं राधा तिवारी'राधे ग...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
7

ग़ज़ल "चुपके चुपके"

याद आने लगे वो हमें चुपके चुपके दिल को लुभाने लगे  चुपके चुपके पल-पल की खबर रखते थे जो मेरी हमें यूं ही तडपाने लगे हैं चुपके-चुपके खता थी हमारी कि झुकते गये हमतभी वो झुकाने लगे चुपके चु...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
राधे का संसार
7

कविता "ओ मेरे प्यारे बचपन" (राधा तिवारी)

ओ मेरे प्यारे बचपनतुमको मैं भूलूंगी कैसेतुम साथ सदा मेरे रहते बसते हो मेरी धड़कन होमेरी तुतलाती बोली पर,माँ जाती थी बलिहारी मेरी वह नटखट शोख-अदाएँपापा को लगतीं प्यारीकहाँ गए वो खेल खिल...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
राधे का संसार
4

कविता "क्या खोया क्या पाया है" (राधा तिवारी)

चलो चले हम कदम बढ़ाएँ, नया साल अबआया है। पिछलेवर्षमेंसोचोहमने ,क्याखोयाक्यापायाहै।। महँगाईकीमारपड़ीहै, हुएलोगलाचारहैं। सम्बन्धोंकोभूलगएसब, रिश्तेनातेभारहैं।। शान्तिअमनका...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
राधे का संसार
6

गीत "सत्य अहिंसा को अपनाओ" (राधा तिवारी)

धर्म हमेशा यही सिखाता जीने की है कला बताता जीव जंतु से प्यार करो तुमकरुणा का आधार धरो तुम सारे जग को पाठ पढ़ाओ सत्य अहिंसा को अपनाओधर्म हमेशा यही सिखाता जीने की है कला बताता माता पिता का आदर कर...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
राधे का संसार
6

दोहे "ओ मेरे मनमीत" (राधा तिवारी)

तुमसे रूठूँ जब कभी,ओ मेरे मनमीत।प्यार और मनुहार से, मुझे सुनाओ गीत।।चार दिनों की जिन्दगी, कुछ पल का है साथ।मायूसी अच्छी नहीं,मेरे भोले नाथ।।इश्क किया है श्याम से, राधे का वो मीत।लिखती उसक...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
राधे का संसार
6

कविता "शीत की बयार है" (राधा तिवारी)

हाड़ कप-कपा रही, शीत की बयार है।मेरे बाग में भी आज आ गया निखार है।।शीत से भरी लहर, सभी को सता रही।बाल-वृद्ध को स्वयं का खौफ भी बता रही।।थोड़े दिन की बात है ठंड गुजर जाएगी।गुनगुनी सी धूप थोड़े ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
राधे का संसार
7

दोहे "रखो रेडियो पास में" (राधा तिवारी)

भूल गया है रेडियो, अब तो सारा देश।टीवी पर ही देखते, दुनिया के सन्देश।।लाये फिर से रेडियो, मेरे भाई साब।मिलता हमको है नहीं, इसका कोई जवाब।।सुनने में अच्छे लगें, भूले बिसरे गीत।युववाणी के साथ है...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
राधे का संसार
7

"स्मृति उपवन"का अभिमत (राधा तिवारी)

उत्तराखंड के जाने माने कवि डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'जीके संस्मरणों के संग्रह "स्मृति उपवन"का अभिमत लिखने का मुझे सौभाग्य प्राप्त हुआ। आज माननीय मुख्यमंत्री जी के कर कमलों द्वारा "स्मृति ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
राधे का संसार
8

कविता "तुम मेरे मम्मी-पापा हो" (राधा तिवारी)

तुम मेरे मम्मी-पापा हो, यह मैं सब सेकहती हूँ।हर पल हर क्षण मेरे पापा, आप के दिल में रहती हूं।।मेरे आने की आहट से,तुम कैसे खिल जाते हो।मेरे दुख पीड़ा के क्षण में,तुम पहले मिल जाते हो।।मेरे दुख से द...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
राधे का संसार
7

गीत "तुम्हें देखूं तुम्हें छू लूं" (राधा तिवारी)

तुम्हें देखूं तुम्हें छू लूं तुम्हें दिल में बसा लूं मैंतुम्हारे ख्वाब में आकर के तुम्हें थोड़ा हंसा दूं मैंतेरे कदमों की आहट से ये दिल बेचैन होता हैतुम्हें ना देखता है तो स्वयं का चैन खोत...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
राधे का संसार
7

दोहे "नारी बहुत अनूप" (राधा तिवारी)

साड़ी में अच्छी लगे, भारत की हर नार।नारि-जाति के साथ में, करना शुभ व्यवहार।।कोमलांगी कहते इसे, शक्ति का यह रुप।खुश रहती हर हाल में, नारी बहुत अनूप।।बालों का जूड़ा बना, करती है सिंगार।स...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
राधे का संसार
11

कविता "मां मैं तेरा बछड़ा हूँ" (राधा तिवारी)

भूखा हूं मैं मेरी मैया ,मुझको भी कुछ खिलवादो।इंसानों से कहकर मैया,मुझको भी दूद्धू पिलवादो ।।मां मैं तेरा बछड़ा हूं ,दूध पे मेरा हक है ।दूध यह सारा ले लेते हैं, मुझको इन पर शक है।।बेचा करते दूध द...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
राधे का संसार
8

कार्तिक पूर्णिमा "बढ़ जाएगा प्यार" (राधे गोपाल)

गुरूपूर्णिमा पर सभी, करलो आज नहान।संकट सारे दूर हों, कृपा करें भगवान।।पावन दिन है जाइए, सब नदिया के तीर ।ईश्वर की भक्ति करो, भर अंजुलि मैं नीर।।जितना तुम को चाहिए, उतना दे भगवान।स...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
राधे का संसार
8

ग़ज़ल "खिलता गुलाब हो" (राधा तिवारी)

प्रणय की तस्बीर तुम खिलता गुलाब होजो सबको बाँटे रौशनी वो आफताब होआता है दबे पाँव ही जो ख्वाब में सदाशीतल सी चाँदनी तुम्हीं माहताब होआँखों में रात ही कटे, बातों में दिन कटेजो आके नहीं जा सके तु...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
राधे का संसार
9

अरज माँ-बाप की भगवान से टाली नहीं जाती

अरज माँ-बाप की भगवान से टाली नहीं जाती।दुआमां बाप की जग में कभी खाली नहीं जाती।।दुआ करते हमारे वास्ते, माँ-बाप हैं हरदम।कभी उनकी तपस्चर्या जहाँ में आँकना मत कम ।।सदा ये ध्यान रखना आँख में उनकी...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
राधे का संसार
13

"छठ माँ का कर ध्यान" (राधे गोपाल)

भक्ति भाव से है भरा,कातिक का ये मास।पूजा वन्दन को करें, मन में सब ले आस।।सूरज की पूजा करो, जो जीवन का आधार। रवि-शशि के बिन है नहीं, दुनिया का कुछ सार।।जाकर नदिया तीर पर, छठ माँ का कर ध्यान। संत...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
राधे का संसार
14

"वीर हिंदुस्तान के" (राधेगोपाल)

बिछ गए हैं जो धरा पर वीर हिंदुस्तान के ।गुनगुनाते हैं सभीअब हम गीत उनकी शान के ।।अपनी मां का लाडला वहउसका अभिमान था ।जी रही थी देखकर के देश का वरदान था।।संकटमोचन बहना का उसको बहुत दुलारा थ...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
राधे का संसार
6
 
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
sakhi
sakhi
greater noida,India
jayprakash
jayprakash
mohammad ganj,India
Nitesh Nayak
Nitesh Nayak
Bhilai,India
Mithilesh kumar
Mithilesh kumar
begusarai,India
Rajesh Rathod
Rajesh Rathod
kothamba,India
Anas Ansari
Anas Ansari
New Delhi,India