राधे गोपाल
राधे का संसार की पोस्ट्स

चले आए हो ( राधा तिवारी "राधेगोपाल ")

चले आए होचले आए हो तो बता कर तो आते। कभी हम सताते कभी तुम सताते।। दिलों की यह दूरी तो कम हो गई है ।जमाने से हम प्यार को है छुपाते।। सपनों में तुम रोज आते रहे हो। कभी मेरी नजरों में आकर दिखा...  और पढ़ें
5 मिनट पूर्व
राधे का संसार
0

विदाई समारोह (राधा तिवारी:"राधेगोपाल "

खटीमा ब्लॉक के सेवानिवृत्त प्रधानाचार्य, लेक्चरर, टीचर विदाई समारोह के शुभ अवसर पर ब्लॉक सभागार खटीमा में आज 22/05/ 2018 को।इस अवसर पर मैंने अपना एक गीत गाकर सुनायारहे साथ जो सदा हमारे,उनकी ...  और पढ़ें
22 घंटे पूर्व
राधे का संसार
3

"खटीमा में कविगोष्ठी"सुनिए मेरी आवाज (राधा तिवारी)

खटीमा-20/05/2018 को दोपहर में  वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक के निवास पर दो सत्रों में काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। पहले सत्र  में कवियों ने अपनी स्वरचित कविताओं का पाठ ...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
राधे का संसार
3

चांद सी मुनिया (राधा तिवारी "राधेगोपाल ")

 चांद सी मुनियामेरी जब चांद सी मुनिया, मेरे आंगन ठुमकती है ।तेरी अठखेलियों से ही ,मेरी गोदी दमकती है ।।कभी बिंदिया मेरी ले कर ,स्वयं को तू लगाती है ।रोशन हो तेरी सूरत ,सितारों से चमकती है ।।कभी...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
राधे का संसार
4

इंतजार(राधा तिवारी "राधेगोपाल")

 इंतजारदिल के फासलों को दूर करना ही पड़ेगा l कुछ हमें कुछ तुम्हें चलना ही पड़ेगा l l  काम कोई भी मुश्किल नहीं इस जहान में l कोशिशें करके संभलना ही पड़ेगा l l सूरज चंदा गगन में आते...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
राधे का संसार
2

ग़ज़ल "यहाँ गुलशन सजाना है" (राधा तिवारी "राधेगोपाल" )

गुलशनमुझे है आज यह चिंता, के घर कैसे बनाना है।वतन के वास्ते हमको, यहाँ सब कुछ लुटाना है।। गरीबों की हुई मुश्किल, बढ़ी महँगाई है इतनी ।गरीबों को नहीं मिलता, सही खाना खजाना है।।उठे किलकारियां घ...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
राधे का संसार
4

"दायरे" (राधा तिवारी 'राधेगोपाल')

नभ से बादल सभी आज छटने लगे।देखो जंगल से भी पेड़ कटने लगे।।  चौड़ी होती गई अब तो सँकरी सड़क।दायरे तो दिलों के सिमटने लगे।। कोकिला पड़ गई देखकर सोच में। सुर सजाएँ कहाँ पेड़ घटने लगे।। अब स...  और पढ़ें
7 दिन पूर्व
राधे का संसार
7

"मिटठू"राधा तिवारी 'राधेगोपाल '

मिट्ठूइकप्यारासातोता, देखाआजबगीचेमें।मिट्ठू-मिट्ठू बोलरहाथा, तोताखूबदलीचेमें।lउड़ातभीवहहरियलतोता, गयासहेलीलाने।औरसाथमेंहरीमिर्चभी, लायासँगमें खाने।।बैठगयेदोनोंफिरमिलकर, करत...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
3

"मयंक का गीत-मेरी आवाज" (राधा तिवारी 'राधेगोपाल')

खटीमा में यूटोपियन सोसाइटी का सीमान्त साहित्य उत्सव धानी रिजॉर्ट्स में 'मैं और मेरी आवाज 'के अंतर्गत जाने माने कवि और आठ पुस्तकों के रचयिता डॉ.रुपचन्द्र शास्त्री मयंक जी के गीत "सहते हो सन्...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
6

"सृजनहार"दोहे राधा तिवारी"राधेगोपाल "

सृजनहार  साहस से अपनी चले,नारी सीधी चाल l  सागर की लहरें सदा,लाती है भूचाल llजीवन के हर क्षेत्र ,करती रही कमाल l लेकिन दुनिया नारि पर, करती सदा सवाल llकदम जो नारी के बढे,दुनिया करे बवाल lकौश...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
7

दिव्य अलौकिक रुप ,'राधा तिवारी'"राधेगोपाल "

 दिव्य अलौकिक रुप माता बन मुझको मिला, एक नया संसार। बच्चों से बढ़ता गया, मेरा प्यार-अपार।। जब मैं नन्हीं थी कली, कहते थे सब लोग। मात-पिता के काम में, करना तुम सहयोग।। कंधे पर बैठा मुझे, प...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
5

राधे श्याम (राधा तिवारी 'राधेगोपाल ')

राधे श्यामअगरतूश्यामबनजाएतेरीराधाबनूंगीमैंअगरतूरामबनजाएतोसीतासीसजुंगीमैं तेरीपलकोंकेसाएमें मुझेरहनेदेपलपलपलतेरीबेचैनरातोंमेंहँसी  निंदिया  बनूंगीमैं मुझेअनजानसेदिख...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
5

मुझे मत छोड़ना बाबुल राधा तिवारी 'राधेगोपाल '

मुझे मत छोड़ना बाबुलकली हूँ बाग की तेरी मुझे मत तोड़ना बाबुल तेरी बगिया में महकूँगी मुझे मत छोड़ना बाबुल मेरी खुशबू से आते हैं भ्रमर तितली बगीचों में कोकिला गीत गाती हैयहां नित नए राग...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
8

"दिल में हमारे "राधा तिवारी 'राधेगोपाल '

दिल में हमारेदिल में हमारे इस कदर तूफान उठ रहे उनके भी नही हैं और हमारे भी नही हैं वो प्यार तो शतरंज का खेल है दोस्तों जीते भी नही हैं और हारे भी नही हैं वो भोजन में आज तो कोई रस नही रहा म...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
7

ग़ज़ल "कभी न छूटे साथ हमारा" (राधा तिवारी 'राधेगोपाल')

मेरा जीवन नदिया जैसा,साथ तुम्हारा लगे किनारा।आँधी-तूफां आये कितने, कभी न छूटे साथ हमारा।।बिन्दिया खूब चमकती मेरी,शोर मचाती चूड़ी-पायल।छन-छन बजते मेरे कंगन, देखो करते मूक इशारा।।तेरी सभी अद...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
6

दोहे "लेंगे हम को नोच"राधा तिवारी

- दोहे      " माली उपवन सींचता  "माली करता है सदा, उपवन का सिंगार।भँवरे करते हैं सभी, कली देख गुंजार ।।पौधे के मन की व्यथा, समझ ना पाता कोय।मा...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
6

घर दिलों में बनाओ राधा तिवारी 'राधेगोपाल '

घर दिलों में बनाओकिसी को अपना बनाओ तो अच्छा है lकिसी को हर पल पास बुलाओ तो अच्छा है  llराहें कांटे भरी तो सदा है मिली lकिसी के राह से कंटक हटाओ तो अच्छा है llतूफान नफरत के हर ओर  से उठ रहे lप्या...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
7

ग़ज़ल "मिला नहीं है ठौर ठिकाना" (राधेगोपाल)

कलम देखकर मचल जाय जब दिल दीवाना तब उठता है मन में सुन्दर एक तराना जग के झंझावातों में तो उमर ढल गयी किन्तु अभी भी मिला नहीं है ठौर ठिकानाकहने को तो सारे सम्बन्धी अपने हैंकिन्तु न आता कंगाली मे...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
5

धूप राधा तिवारी 'राधेगोपाल '

धूपदूर तक माटी की खुशबू , आ रही हैं धूप में  lकाम करते खेत में,  कैसे ये निर्बल धूप में  llबूँद है ये श्वेद की , या रंग मेहनत का भरा  lकाम करता वो ही जाने , कैसे होता धूप में  llआंधीयों ने अब उजाड़ा, ...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
4

मेरी बिटिया राधा तिवारी 'राधेगोपाल '

आज मेरी बेटी  का जन्मदिन है आप सभी का आशीर्वाद उसे मिले और वह जीवन पथ पर हंसी ख़ुशी बढती रहे lभगवान् सदा उसके साथ रहे l मेरी बिटियापाकर तुझको धन्य हो गई, ओ मेरी बिटिया प्यारी।स...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
7

ये क्या कर दिया राधा तिवारी 'राधेगोपाल '

.ये क्या कर दियातुमने ज़मीन पर जो सजदा किया ,रौनक – ए - हुस्न में तुमने  ये क्या कर दिया lहंस के देखा तो सांसें हमारी थमी ,धडकनों को हमारी ये क्या कर दिया lकुछ भी बोले नही पास से जब गए ,मौन रह कर भी तुम...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
8

(;तितलियाँ ) राधा तिवारी 'राधेगोपाल '

 (;तितलियाँ )मधुबन में इठ्लाएं तितलियाँ  l मन को खूब लुभाएं तितलियाँ  llजब जब भौरें आए चमन में   lअपने पंख हिलाएं तितलियाँ  llकलियों को  तो देख चमन में   lमन ही मन मुस्काए तितलियाँ  ll...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
7

आदमी राधा तिवारी 'राधेगोपाल '

             आदमीहर दम नहीं पास बिठाता है आदमी ।जी भर गया तो दूर भगाता है आदमी ।।गले लगाकर गिले-शिकवे तो सब करें। क्रोध में मित्र को शत्रु बनाता है आदमी ।।जीवन और मृत्यु तो है ईश्वर के ह...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
9

पृथ्वी दिवस राधा तिवारी 'राधेगोपाल '

पृथ्वी दिवस धरा दिवस के रूप में, है बाईस अप्रैल ।जीवन में इस दिवस को, बना न देना खेल ।।अपने पास पड़ोस में ,करो स्वच्छ परिवेश। अपना भी कर्तव्य है ,सरकारी आदेश ।।जल सूरज की प्रचुरता, रखता भारत दे...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
9

मेरा मन राधा तिवारी''राधेगोपाल '

मेरी साँसों के तारों को,किसने झँकृत कर डाला।मेरा मन कीट पतंगों सा,हो गया आज क्यों मतवाला।।पतवार नहीं कर में मेरे,नौका को पार करो मेरी।अब नहीं सूझती राह मुझे,नौका को लहरों ने घेरी।।मेरे मन में ...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
4

जोकर राधा तिवारी 'राधेगोपाल '

 जोकर सर्कस में जोकर ने मुखौटा जो पहना कहा उसने जग में सबसे हंसते ही रहना ना रोना कभी भी आंसू बहा कर हँसना सदा ही ठहाके लगाकर मगर जब उसने मुखौटा उतारा हंसते हुआ चेहरे से किया किनारा...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
11

दोराहे राधा तिवारी 'राधेगोपाल '

दोराहे फंस जाती हूं कभी-कभी दोराहे पर सोचती हूं इधर जाऊं तो कैसा होगा उधर जाऊं तो कैसा होगा यहां रहूं तो ऐसा होगा वहाँ रहूँ तो वैसा होगासमझ नहीं आता है दो नाव में पैर रखना बड़ा मुश्कि...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
राधे का संसार
8

"मेघ"राधा तिवारी 'राधेगोपाल'

                     मेघसर्व सुख दाता विधाता, हो मेरे मन भावना। नभ में मेघ बुलाकर करते, मौसम अतिसुहावना।। बारिशों की बूँदों से, पत्ते झूमें लहर हिलोर । तुम बसन्त में कर जाते हो, मन...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
राधे का संसार
6

सूर्य का प्रकाश

सूर्य का प्रकाश   सूर्य का प्रकाश जब भी मेरे आँगन आता हैसुर्य की  चटक किरणों से घर मेरा जगमगाता है अंधेरे को दूर भगा उजियारा वह करता है दुख दर्द की पीड़ा हर कर गीत खुशी के गाता है सूर्य ...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
राधे का संसार
9
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!