राधे गोपाल
राधे का संसार की पोस्ट्स

गीत "बरसात मांगती है "( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

बरसात मांगती है सावन के महीने में क्यों ये ताप बढ़ रहा हैl आकर के मेघ जाते संताप चढ़ रहा है ll मेघों को अब तो मयूरा दिन रात है बुलाते l रट&nb...  और पढ़ें
21 घंटे पूर्व
राधे का संसार
1

देश भक्ति गीत "तीन रंग का प्यारा झंडा"राधा तिवारी "राधेगोपाल "

तीन रंग का प्यारा झंडादेश हमारा भारत प्यारा हम इसकी संतान हैतीन रंग का प्यारा झंडा ही इसकी पहचान है केसरिया रंग शक्ति देता, श्वेत शांति प्रतीक हैहरियाली खेतों की ...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
राधे का संसार
1

यह सावन के मस्त नज़ारे राधा तिवारी "राधेगोपाल '

यह सावन के मस्त नज़ारेयह सावन के मस्त नज़ारे मन्द कभी तो तेज फुहारें नभ ऐसे वर्षा करता है जैसे चलते हैं फव्वारे चारों ओर बरसता झमझम है सावन ...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
राधे का संसार
2

अटल जी को श्रधांजलि राधा तिवारी "राधेगोपाल "

अटल जी को श्रद्धांजली  अटल हमारे बीच से, चले गए सुखधाम। पर धरती पर रह गए, उनके सारे काम।। कभी दिखाया क्रोध था, कभी प्यार मनुहार। दुनिया में रहत...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
राधे का संसार
2

दोहे"जीवन हो खुशहाल"( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

जीवन हो खुशहालसीमाओं पर है डटे, देखो लाखों लाल ।वो ही है पहचानते, दुश्मन की सब चाल।। दोनों हाथों में रखो, तुम पूजा का थाल। करवा लेना तिलक को, वीरों अपने ...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
राधे का संसार
3

गीत "पंचांग"(राधा तिवारी"राधेगोपाल ")

पंचांग  बड़े बुजुर्गों के जैसे, पंचांग घरों में रहते हैं। कौन अभी त्यौहार आ रहा, हमसे कहते रहते हैं।। बतलाता तारीख हमें, खुद  खूंटी पर ही रह...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
राधे का संसार
3

गीत "हमारा हिंदुस्तान" (राधा तिवारी"राधेगोपाल ")

हमारा हिंदुस्तान यह वतन हमारा मुल्क हमारा हिंदुस्तान हमारा है l भारत में हम रहने वाले भारत हमको प्यारा है ll हिम से आच्छादित है अपना पर्वतराज ...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
राधे का संसार
3

देश गीत"देश हमारा भारत प्यारा " (राधा तिवारी"राधेगोपाल ")

 देश हमारा भारत प्यारा देश हमारा भारत प्यारा हम इसकी संतान हैतीन रंग का प्यारा झंडा ही इसकी पहचान है केसरिया रंग शक्ति देता, श्वेत शांति प्रतीक हैहरियाल...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
राधे का संसार
3

कोई यूँ ही याद आ रहा है मुझे "( राधा तिवारी "राधेगोपाल " ),

कोई यूँ  ही याद आ रहा है मुझेकोई चुपके से खो  रहा है मुझेl कोई खो खो के  पा रहा है मुझे ll कोई याद कर करके भूलता जाता l कोई यूँ  ही ...  और पढ़ें
7 दिन पूर्व
राधे का संसार
5

दोहे "सुहागिनों के है लिए, तीजों का त्योहार" ( राधा तिवारी "राधेगोपाल "),

सुहागिनों के है लिए, तीजों का त्योहारसुहागिनों के है लिए, तीजों का त्योहार। करती सावन मास में ,महिलाएं श्रृंगार।। झूठ कपट निंदा नहीं, रखना अपने ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
2

रस राम नाम का,"( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

रस राम नाम कामधुशाला में बैठ बन गए देखो कितने दादा  lकादंबरी को देख पास में भूल गए मर्यादा ll सुरापान करके समझे हैं अपने को वह तगड़ा  lमारप...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
3

ग़ज़ल "जाने कैसे लोग""( राधा तिवारी "राधेगोपाल " ),

जाने कैसे लोगजाने कैसे लोग धराके पत्थर दिल हो जाते हैं l जाने कैसे वह अपनी हर मंजिल को पा जाते हैं ll ठोकर देते हैं इंसान को हंसकर उन्हें गिरा...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
3

ग़ज़ल "पायल " (राधा तिवारी"राधेगोपाल ")

पायलदुल्हन पिया को देखकर क्यों इतना शर्माती है l नाक में नथनी कान में कुंडल पहनके क्यों इतराती है ll साजनजी जब पास बुलाते हौले हौले जाती है l&...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
4

दोहे "कृमि दिवस" (राधा तिवारी"राधेगोपाल ")

कृमि दिवसकृमिदिवसपरआजतो, करेंकृमिकीबात। कीड़ेपहुंचातेसदा, इसतनकोआघात।। हाथसदाहीधोइए ,जबहोजाएकाम।साफरखोअपनासदा ,सुंदरसायहचाम।। साबुनसेहीधोइए,  हरदमअपनेहाथ। हाथोंमेंमतगं...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
3

ग़ज़ल "बिखर जाते हैं" (राधा तिवारी"राधेगोपाल ")

बिखर जाते हैं  दर्द से सबके चेहरे उतर जाते हैंl पल क्यों जल्दी ही सुख के गुजर जाते हैं llसाथ देने लगे अब पराए सभी  lअपने जाने जहां में किध...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
4

गीत "जीवन" (राधा तिवारी"राधेगोपाल ")

जीवन अपने जीवन में जब भी अकेले रहे l मेरे जीवन में हरदम झमेले रहे ll हसरते ही रही मेरे दिल में सदा l आंख में मेरी आंसू के रेले रहे ll भीड़ ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
3

"बगिया में फूलों का खिलना "(राधा तिवारी"राधेगोपाल ")

बगिया में फूलों का खिलना बाहरजानाघूमकेआनाअच्छालगताहै। लौटकेवापसघरकोआनाअच्छालगताहै।।पढ़लिखकरकेकामकरेंगेहोतीसबकीख्वाहिश।मिलजाताजबमीतपुरानाअच्छालगताहै।।नएदौरमेंकदम...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
4

ग़ज़ल "रज़ा अपने दिल की" (राधा तिवारी"राधेगोपाल ")

 रज़ा अपने दिल की रज़ा अपने दिल की हमें तो बताओ। ना हमको सताओ ना हमको सताओ ।।धड़कन दिलों की ये कहती है अक्सर। मेरे पास आओ मेरे पास आओ।। नि...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
3

ग़ज़ल "दूर तलक" (राधा तिवारी"राधेगोपाल ")

 दूर तलक तुम जाने से पहले हमसे मिलकर जाना भूल गए ।अपनी सारी याद के किस्से साथ ले जाना भूल गए।। दिन भर की सारी बातों को हम किसको बतलायेंग...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
5

ग़ज़ल "वो कैसा शूल है" (राधा तिवारी"राधेगोपाल ")

 वो कैसा शूल है जो किसी को चुभ गया वह फूल कैसा फूल है l फूल के संग जो उगे न  तो वो कैसा शूल है ll नींद को त्यागा कमाया धन वह सब स्वर्ण है&nbs...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
5

राधा तिवारी "राधेगोपाल "का काव्य पाठ (वन्दना)

राधा तिवारी "राधेगोपाल "का काव्य पाठवन्दनाज्ञान के इन चक्षुओं में छा रहा अँधियार भारी।वन्दना स्वीकार कर लो शारदे माता हमारी।।माँ हमारी लेखनी कोशब्द का उपहार दे दो।कर सकूँ आराधना मैं,मा...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
4

ग़ज़ल "सूरज निकलना चाहिए" (राधा तिवारी"राधेगोपाल ")

सूरज निकलना चाहिए अंधियार छाँटने को अब सूरज निकलना चाहिए l   हिम पर्वतों को तो अब नित ही पिघलना चाहिए ll देश की सीमा में बढ़कर देश का रखते&n...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
2

दोहे "गुरू सहाय भटनागर बदनाम को श्रद्धांजलि" (राधा तिवारी"राधेगोपाल ")

जहाँ रहो बदनाम तुम, रहो वहाँ खुशहाल।देती है श्रद्धांजलि, यह राधे गोपाल।।जो अपने उपनाम से. कहलाते बदनाम।लिखकर अपनी शायरी, हुए बहुत सरनाम।।पत्नी-पति के बीच में, बहुत अधिक था प्यार।दो हफ्तों ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
4

दोहे "झड़ी लगी बरसात की" ( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

 झड़ी लगी बरसात कीउमड़-घुमड़ कर आ रहे, नभ में बादल राज ।फसलों को जीवन मिला ,खुश हो रहा समाज।। वर्षाकेजलसेभरे ,खेतऔरतालाब। बचालीजिएनीरसे, मीलऔरअसबाब।।हरियाली होती सदा, धरती का परिध...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
4

बाल कविता "घर" ( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

घर पत्थरईटसीमेंटसेमिलकर खड़ीकरीदीवारकईसख्तबहुत होती वह लकड़ी जिससेचौकटबनीभईऔर बड़ा सा एक है आंगन जिसमेंरसोईऔरशौचालयहै चिमनीओरीऔरधरासे बनाहुआयेआलयहै अबमेरेघरकोतुमदेखो...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
4

बाल कविता "गिलहरी "( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

गिलहरी एक गिलहरी कितनी प्यारी फर जैसी है पूछ तुम्हारी जब भी तुम बैठा करती हो पूछ से प्रश्न चिन्ह धरा करती हो काला सा एक कोट पहन कर जाती हो त...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
5

दोहे "गुलाब अनेकों रंग के" ( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

गुलाब अनेकों रंग केइंसा फूलों को करें, हंसकर सदा कबूल। पर उखाड़ कर फेंकते, पथ से सारे शूल ।।कांटो में से चुन लिये, माली ने सब फूल। कांटे हक से बोलते, दुक्खों को तू भूल।। गुलाब अनेकों रंग के ,उ...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
4

"श्री नरेश तिवारी जी का काव्यपाठ" ( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

श्री नरेश तिवारी जी का काव्यपाठ...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
2

"कोशिश हरदम करते रहना" ( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

 कोशिश हरदम करते रहनाकाम सभी तू कर सकती है बस मन में अरमान रख कौन है अपना कौन पराया बस इतनी पहचान रखमन में अगर  हौसला होतो काम सभी हो जायेंगे कोशिश हरदम करते रहना इतना तो तू ध्यान ...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
4

"स्वाति तिवारी का भाष्ण" ( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

स्वाति तिवारी का भाषणसम्मानित मंच एवं यहां उपस्थित सभी अतिथियों को मेरा प्रणाम।     आज में इस पावन अवसर पर अपने हृदय के उद्गारों को प्रकट करना चाहती हूँ।आज समय बदल चुका है महिलाएं या लड...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
राधे का संसार
3
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
satpal kunar
satpal kunar
madhubani,India
Sunil Kumar
Sunil Kumar
Delhi,India
vikas kumar
vikas kumar
begusarai,India
karan meena
karan meena
sawai madhopur,India
ravi
ravi
gorakhpur,India
sachhiprerna
sachhiprerna
jaipur,India