Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध ) की पोस्ट्स

स्वाद!

उनकी टपकती खुशी मेंछल की बारिश ज़्यादा है,आँखों में रौशनी से ज्यादा है नमी,धानी चूनरों में बंधे पड़े हैं कई प्रेम,ऊब की काई पर तैरती है ज़िंदगी की फसलगुमनाम इश्क़ की रवायत में,जल रही हैं उंगलियां,ज...  और पढ़ें
3 दिन पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
4

एक सज़ायाफ्ता प्रेमी

प्रेम करते हुएअचानक ही वो मूँद लेता है अपनी आँखेंऔर सिसकता है बेआवाज़,हमारे प्रगाढ़ आलिंगन से दूर होता हुआनज़रें चुराता है,बोलने की कोशिश में,साथ नहीं देते होंठ,बस लरज़ जाती है थोड़ी सी गर्दन,मेरे ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
13

कविताओं की खेती

आँगन भर भर संजोती हूँ कवितायेँ,उनके शब्दों में खेल लेती हूँ ताल-तलैया,कभी कभी चाय के कप में उड़ेल कवितायेँचुस्कियां लेती हूँ उनके भावों की,कवितायेँ भी... पीछा ही नहीं छोड़ती,धमक पड़ती हैं कभी भीमा...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
4

सूखे मेघ

3 सप्ताह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
6

कबीर

4 सप्ताह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
4

उम्र का नृत्य

उम्र चेहरे पर दिखाती है करतब,उठ -उठ जाता है झुर्रियों का घूंघट,बेहिसाब सपनों की लाश अब तैरती है आँखों की सतह पर,कुछ झूठी उम्मीदें अब भी बैठी हैं,आंखों के नीचे फूले हुए गुब्बारों पर,याद आते हैं ...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
3

आँचल में सीप

तुम्हारी सीप सी आंखेंऔर ये अश्क के मोती,बाख़बर हैं इश्क़ की रवायत से...तलब थी एक अनछुए पल कीजानमाज बिछी;ख़ुदा से वास्ता बनातुम्हारी पलकों ने करवट लीदुआ में हाँथ उठा बीज ने कुछ माँग लियामेघ बरसे,&n...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
4

मौत का सौदा

हाशिये पर खड़े लोग, प्रतीक्षारत हैं अपनी बारी की,उनकी आवाज़ में दम है,सही मंतव्य के साथ मांगते हैं अपना हक़,कर्ज के नाम पर बंट रही मौत को लगाते हैं गले,अपनी ही ज़मीन पर रौंद दिये जाते हैं;कर्ज लेक...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
12

आदमी होने का मतलब

मैं एक आदमी हूँ मौत से भागता हुआ भरमाता हुआ ख़ुद को कि मौत कुछ नहीं बिगाड़ पायेगी मेरा....मैं एक कसाई हूँ,मौत का रोज़गार करता हुआ ज़िंदा हूँ अपनी संवेदनाओं समेतकटे हुए जानवरों की अस्थियों मे...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
12

देख कर भी जो नहीं देखा !

एक कविता.... कुछ अदेखा सा जो यूं ही गुज़र जाता है व्यस्त लम्हों के गुजरने के साथ और हम देखकर भी नहीं देख पाते , न उसका सौंदर्य , न उसकी पीड़ा, न ख़ामोशी , और न ही संवेग सब कुछ किसी मशीन से निकलते उत्पाद क...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
8

कहो कालिदास , सुनें मेरी आवाज़ में

विद्वता के बोझ तले दबे हर पुरुष को समर्पित यह कविता मेरी आवाज़ में सुनें...यह कविता आप इससे पूर्व वाली पोस्ट में पढ़ भी सकते हैं......  और पढ़ें
1 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
9

दहलीज़ पर कालिदास

कहो कालिदास,आज दिन भर क्या किया,धूप में खड़े खड़े पीले तो नहीं पड़े,गंगा यमुना बहती रही स्वेद कीऔर तुम.... उफ़ भी  नहीं करते ,कहो कालिदास,कैसा लगा मालविका की नज़रों से विलग होकर,तुम लौट-लौट कर आते रहे उ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
6

एक चिड़िया का घर

एक चिड़िया उड़ती हैबादलों के उस पार..उसकी चूं-चूं सुन,जागता है सूरज,उसके पंखों से छन कर, आती है ठंढी हवा, गुनगुनाती है जब चिड़िया,आसमान तारों से भर जाता है,धरती से उठने वाली; साजिशों की हुंकार स...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
8

ये सरकारी कार्यालय है!

अजी ये भी कोई वक़्त है,दिन के बारह ही तो बजे हैं,अभी-अभी तो कार्यालय सजे हैं,साहब घर से निकल गए है,कार्यालय नहीं आये तो कंहा गए हैं,ज़रा चाय-पानी लाओ,गले को तर करवाओ,सरकारी कार्यालय है,भीड़ लगना आम है,...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
5

नया इतिहास

मेरी जेबों में तुम्हारा इतिहास पड़ा है कितना बेतरतीब था; तुम्हारा भूत..... वक्त की नब्ज़ पर हाँथ रख,पकड़ न पाया समाज का मर्ज़,मुगालते में ही रहा; कि... वक्त मेरी मुट्ठी में है,कानों में तेल डाल, सुनता र...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
6

माँ बनना.... न बनना

लेबर रूम के बेड पर तड़पती हुई स्त्री जब देती है जन्म एक और जीव को तब वह मरकर एक बार फिर जन्म लेती हैअपने ही तन में,अपने ही मन में,उसके अंतस में अचानक बहती है एक कोमल नदीजिसे वह समझती है धीरे धीर...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
8

मैंने देखा है.... कई बार देखा है

मैंने देखा है,कई बार देखा है,उम्र को छला जाते हुए,बुझते हुए चराग में रौशनी बढ़ते हुए,बूढ़ी आँखों में बचपन को उगते हुएमैंने देखा है...कई बार देखा है,मैंने देखा है बूँद को बादल बनते हुए,गाते हुए लोर...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
6

घूँट--घूँट प्यास

( नोट- कविता में बेवा के घर को सिर्फ एक प्रतीक के तौर पर) पढ़ें।...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
15

इंतज़ार एक किताब का!

उसने मुझे बड़ी हसरत से उठाया था,सहलाया था मेरा अक्स,स्नेह से देखा था ऊपर से नीचे तक, आगे से पीछे तक,होंठों के पास ले जाकरहौले से चूम लिया था मुझे और.... बेसाख्ता नज़रें घुमाई थीं चारों ओरकि...... किस...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
6

हिंदी कविता - दुनिया का सच

मेरी कविता 'दुनिया का सच'सुनें मेरी आवाज़ में जो की सामाजिक बाज़ार में स्त्री की व्यथा से आपको रूबरू करवाती है।आपकी प्रतिक्रियाएं मेरे लिए अमूल्य हैं कृपया अपनी प्रतिक्रियाएं अवश्य दें ताकि...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
8

दूर हूँ....कि पास हूँ

मैं बार-बार मुस्कुरा उठता हूँ तुम्हारे होंठो के बीच,बेवज़ह निकल जाता हूँ तुम्हारी आह में,जब भी उठाती हो कलमलिख जाता हूँ तुम्हारे हर हर्फ़ में,कहती हो दूर रहो मुझसे....फ़िर क्यों आसमान में उकेरती ...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
8

झूठे बाज़ार में औरत

एक पूरा युगअपने भीतर जी रही है स्त्री,कहती है ख़ुद को नासमझ,उगाह नहीं पायी अब तकअपनी अस्मिता का मूल्य,मीडिया की बनाई छवि मेंघुट-घुट कर होंठ सी लेती है स्त्री,सड़कों पर कैंडल मार्च करती भीड़ मेंअस...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
6

एक कवि से उम्मीद!

लिखो प्रेम कवितायेँकि..... प्रेम ही बचा सकेगातिल-तिल मरती मानवता को,प्रेम की अंगड़ाई जब घुट रही हो सरेआम,मौत के घाट उतार दिए जा रहे हों प्रेमी युगल,कल्पना करोप्रेम के राग में सड़ांध भरती सिक्कों क...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
10

डरती हूँ मैं!

जब भी, फ़िर से, काम पर जाने की इच्छा, उठाती है सिर,ज़मीदोज़ कर देती हूँ उसे,आख़िर एक नन्ही सी बच्ची की माँ जो हूँ......घर में, मंदिर में, अस्पताल में, स्कूल में, सड़क पर,बस में,ट्रेन में.... सब जग...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
13

विदा का नृत्य

मैं तुममें उतना ही देखता हूँ,जितना बची हो तुम मुझमें,किंवाड़ से लगकर भीतर झांकती तुम्हारी आँखें,निकाल ले जाती हैं मुझेपूरा का पूरा,जीवन भर,पुआल के ढेर पर सोता मैं,सुस्ताता हूँ थोड़ी देर,डनलप के ...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
10

विदा का नृत्य

मैं तुममें उतना ही देखता हूँ,जितना बची हो तुम मुझमें,किंवाड़ से लगकर भीतर झांकती तुम्हारी आँखें,निकाल ले जाती हैं मुझेपूरा का पूरा,जीवन भर,पुआल के ढेर पर सोता मैं,सुस्ताता हूँ थोड़ी देर,डनलप के ...  और पढ़ें
3 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
9

समय की उड़ान

ढिबरी की रौशनी में पढ़ती हुई लड़कीभरती है हौंसलों की उड़ान,अंतरिक्ष का चक्कर लगाती हैचाँद तारों को समेट लाती है अपनी मुट्ठी में,जब जब आंसुओं के मोती देखती हैमाँ की आँखों में,खिलखिलाकर एक सूरज उग...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
14

पूर्ण विराम कंहा है!

एक नृशंस कालखंड दर्ज हो रहा है इतिहास में            भीड़ की तानाशाही और रक्तिम व्यवहारताकत का अमानवीय प्रदर्शनक़ानून की धज्जियाँ उड़ाता शाशन-प्रशासन....हिंसा हथियार है और अविवेक मार्गदर्...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
11

अंत हुआ तो ख़ाली दामन

फूल यूं मुस्कुराये कि गिर गएशाख़ को गमज़दा छोड़कर, तितलियां आजकलनहीं आतीझर रहीं पत्तियां बेसबब यूं ही।रात तूफ़ां ने यूं क़यामत कीझुग्गियां उजड़ी, मर गयी साँसे,गिर गए ईमान संग दरख़्त कितनेकब्र खो...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
16

धार्मिक तन्हाई का दंश

धर्म का लाउडस्पीकरजब उड़ेलता है उन्माद का गंदा नशाहाँथ पैर हो जाते हैं अंधे,नौजवान खून उबाल मारता है,मासूम हाँथ रंग जाते हैं अपनों के खून से,ज़ालिम दिमाग़ कोनों में मुस्कुराते हैं,राजनीति की रो...  और पढ़ें
4 माह पूर्व
Bol Skhee Re ( साहित्यिक सरोकारों से प्रतिबद्ध )
15
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
amit
amit
Sitapur,India
vinayak vandan pathak
vinayak vandan pathak
lucknow ,India
Eshu
Eshu
,India
edithallard
edithallard
Delhi,France
soma buy online
soma buy online
MYjnTRyrwgOXp,
pradeep
pradeep
delhi,India
नई हलचल
babaji babaji
babaji babaji
F,A,M,O,U,S-A,S,T,R,O,L,O,G,E,R In UK USA CANADA Love Problem Solution Specialist BABA JI +91-9726702624 Study Problem Solution Specialist BABA JI +91-9726702624 Children Problem Solution Specialist +91-9726702624 Business Problem Solution Specialist +91-9726702624 Ex Love Back Problem Solution Specialist +91-9726702624 Money Problem Solution Specialist +91-9726702624 Family Problem Solution Specialist +91-9726702624 Divorce Problem Solution Specialist +91-9726702624 Marriage Problem Solution Specialist +91-9726702624 Career Problem Solution Specialist BABA JI +91-9726702624 Husband And Wife Problem Solution +91-9726702624 Voodoo Love Spell Specialist +91-9726702624 All Problem Solution BABA JI +91-9726702624 Any Type Problem Solution BABA JI +91-9726702624 Relationship Problem Solution BABA JI +91-9726702624 Like jadu-tona Specialist MOLVI BABA JI +91-9726702624 Business related problems Specialist BABA JI +91-9726702624 Be free from enemy / 2nd wife BABA JI +91-9726702624 Settle in foreign Specialist BABA JI +91-9726702624 Desired love Specialist BABA JI +91-9726702624 Disputes between husband / wife Specialist +91-9726702624 Problems in study Specialist BABA JI +91-9726702624 Childless Women Specialist BABA JI +91-9726702624 Intoxication Specialist BABA JI +91-9726702624 Physical problems Specialist BABA JI +91-9726702624 Domestic controversy Specialist BABA JI +91-9726702624 Problems in family relations Specialist BABA JI +91-9726702624 Promotions or willful marriage Specialist BABA JI +91-9726702624 Love vashikaran black magic specialist molvi ji +91-9726702624 Love vashikaran black magic specialist molvi ji +91-9726702624 Online black magic specialist astrologer +91-9726702624 Black magic spells Specialist molvi Ji +91-9726702624 Tantra mantra black magic Specialist molviBaba Ji +91-9726702624 Black magic for love Specialist molviBaba Ji +91-9726702624 Kala jadu specialist Specialist fateh khan Ji +91-9726702624 Online black magic vashikaran specialist molvi ji +91-9726702624 Black magic spells specialist molvi ji +91-9726702624 Online Girl Control Vashikaran Specialist +91-9726702624 Tantra mantra black magic specialist molvi ji +91-9726702624 Black magic for love specialist molvi ji +91-9726702624 Black magic to get love back specialist molvi ji +91-9726702624 Love vashikaran specialist baba ji +91-9726702624 Love vashikaran specialist aghori baba ji +91-9726702624 Love vashikaran specialist molvi ji +91-9726702624 Vashikaran mantra in hindi +91-972670262 4 Love marriage problem Vashikaran specialist +91-9726702624 Black magic solution specialist molvi ji +91-9726702624 Graha klesh specialist molvi ji +91-9726702624 Karobar specialist baba ji +91-9726702624 Online love problem solution molvi baba ji +91-9726702624 Intercast love marriage problem solution molvi ji +91-9726702624 Vashikaran specialist molvi ji +91-9726702624 Love marriage problem solution molvi ji +91-9726702624 Love marriage problem solution astrology +91-9726702624 Caste problem in love marriage +91-9726702624 Love problem solution in hindi molvi ji +91-9726702624 Intercast love marriage problem solution +91-9726702624 Vashikaran mantra for love marriage +91-9726702624 Vashikaran mantra for love molvi ji +91-9726702624 Career problem solution Vashikaran astrology molvi ji +91-9726702624 Vashikaran mantra specialist molvi ji ji +91-9726702624 Business problem solution molvi ji +91-9726702624 Santan samasya specialist molvi ji +91-9726702624 (childless problem solution specialist molvi ji +91-9726702624 Lal kitab upay, indian vashikaran, molvi ji +91-9726702624 Black magic specialist Bengali molvi ji +91-9726702624 Spell of black magic specialist molvi ji +91-9726702624 all