bhonpooo.blogspot.com की पोस्ट्स

कर्ज मुक्ति - सामयिक दोहे

यह सच है कि कर्ज माफी किसानों की समस्याओं का कारगर हल नहीं है। हां, इससे फौरी राहत मिल सकती है जो कभी कभी जरूरी भी होती है। लेकिन कर्ज माफी का ढ़िढ़ोरा अब तक सरकारें इस तरह से पीटती रही हैं मानो व...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
4

मीडिया लिटरेसी बिन न होगा गुज़ारा - (भावना की मीडिया क्लास)

आज जिस कदर मीडिया ने हमारी ज़िन्दगी में अपनी जगह बना ली है और वह रोटी, कपडा, मकान और अच्छी शिक्षा की तरह हमारी मूलभूत आवश्यकता बन गया है उसे देखते हुए हम मीडिया को नकार नहीं सकते। ख़बरों, मनोरंजन, व...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
5

झिलमिल झिलमिल करते तारे - बालगीत

झिलमिल झिलमिल करते तारेलगते कितने प्यारे प्यारेउलट दिया हो थाल किसी नेबिखर गये हों मोती सारेआंख मिचौनी खेल रहे होंआसमान में चांद सितारेटिम टिम टिम वे करें इशारेमुझे बुलाते आ रे आ रेअंतरिक्...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
5

होमवर्क - बालगीत

होमवर्क से कोई बचाओइसको हमसे दूर हटाओहम बच्चों का दुश्मन भारीखुशियां छीने रोज हमारीपढ़ लिख जब स्कूल से आतेनहीं खेलने जी भर पातेमम्मी पकड़ मुझे ले जातींहोमवर्क सारा करवातींथक जाता हूं लिखत...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
4

चोर - दादी नानी की कहानियां

आजकल के इंटरनेट युग में छोटे छोेटे बच्चे बड़े बड़ों के कान काटते हैं। पहले ऐसा न था। बच्चे तो बच्चे बड़े भी सीधे- साधे सरल हृदय वाले होते थे। यह कहानी उसी जमाने की है। एक गांव में भोलानाथ नाम का ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
6

मन करता भौंरा बन जाऊं - कविता

मन करता भौंरा बन जाऊंगुन गुन गुन गुन गाऊंफूलों ने जो गीत सिखाएसबको उन्हें सुनाऊंकलियों ने क्या जादू डालाझूमे मन मतवालासुध बुध खोकर फिरे बावरापिये प्रेम की हालामादक हवा सभी को बांटेखुशियों ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
4

दिन ढल गया... ( कविता )

दिन ढल गया लौटते पंछीअपने अपने नीड़ कोपंख थकेहै मन भी व्याकुलबच्चों से मिलने को आतुरकैसे होंगे क्या खाया हैखतरा तो कुछ ना आया हैचीं चीं चीं चीं बोलें बच्चे लगते हैं वे कितने अच्छेदाना पाने ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
4

श्राप - लघुकथा

छप्पन के सामने गाड़ी से उतर कर माधुरी कुछ ही कदम आगे बढ़ी थी कि किसी ने पीछे से उसकी आंखें अपनी दोनो हथेलियों से बंद कर लीं। कुछ देर वह हथेलियों को छूकर अनुमान लगाती रही फिर अचानक बोल पड़ी- सल्ल...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
3

आंदोलन हड़ताल से ... ( सामयिक दोहे )

कहते हैं मुसीबतें आती हैं तो चारो तरफ से आती हैं। लोगबाग बैंकों के सामने लंबी कतार में घंटों लाइन में लगकर खड़े होने के गम को धीरे धीरे भूलने की कोशिश कर ही रहे थे कि किसान आंदोलन ने आकर पीठ पर ए...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
5

पंख कहीं जो मेरे होते - बालगीत

पंख कहीं जो मेरे  होतेचिड़ियों के संग उड़ते उड़तेदूर दूर तक जाताहरे भरे खेतों बागों की सैरमुफ्त कर आताबड़े ठाठ तब अपने होतेपंख कहीं जो मेरे होतेऊंचे पेड़ों की फुनगी छूकरमैं खुश हो जातातोत...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
5

बज्र सी छाती को भी ... ( मुक्तक )

बज्र सी छाती को भी हमने दरकते देखाकर्ज के जाल में दम तोड़ते कृषक देखामंच से जय जवान जय किसान के नारेलगाते नेता जी को आए दिन हमने देखा2.कभी तो बाढ़ बहा ले गई खुशियां सारीकभी आ सूखे ने उनकी उजाड़ी ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
5

गलतफहमियां - हास्यव्यंग

आज प्रेमी जी पूरे मूड में थे। नाम तो प्यारे मोहन है पर मित्रमंडली ने प्रेमी जी नाम दे रक्खा है। पूरी मित्र मंडली आज सांस रोके उनके एक एक शब्द को इस उम्मीद के साथ सुन रही थी कि कुछ जायकेदार रहस्य...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
7

काले काले बादल छाए - बालगीत

काले काले बादल छाएघना अंधेरा संग ले आएसूरज दादा कहां जा छिपेआसमान में नजर न आएबिजली लपक लपक छिप जातीबादल की गर्जना डरातीपानी लगा बरसने जमकरआंधी अपना जोर दिखातीपेड़ झकोरे खाते ऐसेखेल रहे हो...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
3

बुरी खबर - लघुकथा

-  कौन, शुभांगी बोल रही है। इतने दिनों बाद दीदी की याद आई। मैने तो कई बार तुझे फोन लगाया। कभी स्विच आफ बता रहा था तो कभी कवरेज क्षेत्र के बाहर।-  क्या कहा, मोबाइल का सिम टूट गया था। चल हट झूठी कही...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
4

किसान आन्दोलन जारी है - प्रसंगवश

जी हां, किसान आंदोलन जारी है। राजनीतिक गिद्धों की छीना झपटी जारी है। इधर दूध सब्जी आदि की किल्लत जारी है। तो इन चीजों के मनमाने दाम वसूल कर कालाबाजारियों की लूट जारी है। सरकार की तरफ से वही  घ...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
3

... दो अतियों के बीच समाज झूलता रहा - ( धर्मःएक दृष्टि - विमर्श 3)

अधिकांश दो अतियों के बीच समाज झूलता रहा। एक, इंद्रिय सुखों के पीछे आंख में पट्टी बांधकर बेलगाम उपभोग के रास्ते पर दौड़ लगाना। दूसरा, इस संसार को मिथ्या और बंधनकारी मान, इंद्रियों पर कठोर नियंं...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
5

मां की लोरी - बालगीत

मां जब लोरी मुझे सुनातीदौड़ नींद आंखों में आतीकानो में अमृत रस घोलेमां गाए जब हौले हौलेथपकी मुझको देती जातीजो भी आता वह सब गातीकानो में पड़ती स्वर लहरीनींद मुझे आती तब गहरीजाने कैसा जादू होत...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
3

निंदियारानी - बालगीत

निंदियारानी निंदियारानीक्यों रूठी हो  ओ महरानीआती नींद तो सपने आतेपरीलोक की सैर करातेपरीलोक की बात निरालीचारो ओर वहां खुशहालीना बीमार न बूढ़े मिलतेसबके सब बच्चे ही दिखतेदेर हो रही निंदि...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
3

इंतजार - कहानी

पापा, मैने कितनी बार कहा है कि मुझे सफाईकर्मी की नौकरी नहीं करनी है तो आप मेरे पीछे इस तरह से हाथ धोकर क्यों पड़े हैं। सफाईकर्मी की नौकरी आप को ही मुबारक हो - राजेश के सब्र का बांध टूट गया जब आज उस...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
5

बारिश ने आ उसको डांटा - बालगीत

गर्मी मार रही थी चांटाबारिश ने आ उसको डाटाबादल ने भी कर दी छांवमुस्काए तब शहर और गांवराहत की ली सांस सभी नेजिनके बहते रहे पसीनेलापरवाह अभी मत होनामाथा पकड़ पड़ेगा रोनापलट के गर्मी करे प्रहार...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
5

टोको मत - कविता

बीते दिनो दिल्ली में एक ई- रिक्शा चालक को दस- पंद्रह युवकों ने इस लिए पीट पीट कर मार डाला क्योंकी उसने उनमें से एक को सार्वजनिक जगह पर पेशाब करते से मना किया था। इसी संदर्भ में हैं ये पंक्तियां -ट...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
3

धीरे धीरे लुटइयो सजना ... ( लोकगीत )

यह गीत उस जमाने का लगता है जब बच्चे भगवान की देन मान जाते थे और एक एक परिवार में12 - 15 बच्चों की लाइन लग जाया करती थी। दूधों नहाओ पूतों फलो का आशिर्वाद मिलता था नवविवाहिता को। धीरे धीरे जमाना बदला।...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
3

नानी नानी कहो कहानी - बालगीत

नानी नानी कहो कहानीतुम्हें हैंं कितनी याद जुबानीकहां से सीखा तुमने यह सबकौन कौन सी किससे कब कबक्या सपनो में परियां आतींरोज कहानी तुम्हें सुनातींबंदर भालू शेर सब आतेअपने किस्से तुम्हे सुना...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
4

अगले जनम मोहे ... ( लघुकथा )

- जार्डन, चल भाग यहां से। अभी मुझे जमकर सोना है आज। मुझो तेरे साथ नहीं खेलना है।- अबे, बाल क्या दिखाता है मुझे। चल फूट। अरे, किसी और के साथ जाकर खेल न। कहा ना जी भर कर आज सो लेने दे। इसके बाद तो सूली प...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
6

मेढ़क - बालगीत

टर्र टर्र टर्राने वालेना नेता ना गुस्सेवालेहैं मेढ़क हम जल में रहतेउछल कूद थल में भी करतेताल तलैय्या खूब सुहातानदी कुआं भी हमको भाताजब बादल पानी ले आतेखुश हो टर्र टर्र हम गातेकीट पतंगों को ह...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
9

जुंए - लघुकथा

मम्मी, ठीक से जुंए निकाल ना। बाल में तेल डालकर चोटी भी कर। कोई मेरे साथ नहीं खेलता। इससे दूर रहो, दूर रहो इसके जुंए हमारे चढ़ जाएंगे ऐसा सब बोलते हैं-  चार घरों का झाड़ू- पोछा, चौका बर्तन निबटा क...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
9

पानीपूरी - बालगीत

कहलाती मैं पानीपूरीरखना मत मुझसे तुम दूरीमैं हूं चाटों की महरानीनाम लो मुंह में आए पानीफूली फूली बहुत ही हल्कीकई मुझे कहते हैं फुल्कीगांव शहर या महानगर होचौराहा या गली डगर होसभी जगह मुझको प...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
4

गूगल बाबा ... ( बालगीत )

गूगल बाबा तुम्हें प्रणामआते सदा हमारे कामजो भी शरण आपकी आताझट प्रश्नों के उत्तर पातादुनिया गाए है गुण तेरेसंकटमोचन हो प्रभु मेरेहोमवर्क पूरा करवातेअच्छे ग्रेड हमें दिलवातेजिन प्रश्नों स...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
6

गर्मी आई गर्मी आई - बालगीत

गर्मी आई गर्मी आईसंग में लंबी छुट्टी लाईपहले से प्लानिंग कर लेनाछुट्टी यों मत जाने देनागर्मी में पहाड़ सुखदाईरहती जहां बर्फ है छाईसागर भी तो हमें बुलातालहरों से नित खेल रचातानए हुनर भी आप स...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
7

biodiversity - सामयिक दोहे

विविधता प्रकृति का स्वभाव है। न जाने कितने प्रकार के पेड़पौधे, पशुुपक्षी, जीवजन्तु इस धरताी पर पाए जाते हैं। मनुष्य भी उन्हीं में से एक है। किन्तु जब से मनुष्य ने प्रकृति पर विजय पाने की हठ ठा...  और पढ़ें
1 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
5
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
NANEET PATEL
NANEET PATEL
Surat Gujarat,India
Poonam bala
Poonam bala
Chandigarh,India
Vikas
Vikas
,India
Chandan Kumar Gupta
Chandan Kumar Gupta
New Delhi,India
Praveen
Praveen
,India
Vivek Vaishnav
Vivek Vaishnav
raipur,India