bhonpooo.blogspot.com की पोस्ट्स

कथाओं में कथा रामकथा ( 2 ) - विमर्श

             जेहन में यह सवाल आना स्वाभाविक ही है कि आखिर रामकथा में ऐसा क्या है जो इतनी लोकप्रिय हुई। आमतौर पर देखने में यही आता है कि साधारण घटनाएं लोगों का ध्यान आकृष्ट नहीं कर पाती। ल...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
5

कथाओं में कथा राम कथा - विमर्श

        हिंदुस्तान को अगर कथा कहानियों का देश कहा जाय तो अतिशयोक्ति न होगी। पूरब से पश्चिम, उत्तर से दक्षिण देश के चप्पे चप्पे में कथा कहानियां रची बसी मिलेंगी। यह भी कम रोचक नहीं है कि एक ह...  और पढ़ें
4 दिन पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
4

मानीटर - बालगीत 106

 क्लास का अपने हूं मानीटरडरते मुझसे सारे चीटरहल्ला गुल्ला कर ना पाएंधमा चौकड़ी से कतराएंझगडां करते जिन्हें मैं पाऊंपनिशमेंट उनको दिलवाऊंक्लास में रखती हूं अनुशासननियमों का करवाती पालन...  और पढ़ें
5 दिन पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
0

नाना - बालगीत 116

बच्चों मैं टिमटिम का नानाबहुत बेसुरा गाता  गानाटिमटिम मुझको डांस सिखाएहर गल्ती पर डांट पिलाएकमर नहीं मटका पातेडांस  क्लास में क्यों आतेअब गल्ती जो किया अगरकान पकड़ कर दूं बाहरजब जब स्टे...  और पढ़ें
6 दिन पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
6

नोकझोंक - लघुकथा 84

- अरे इतना मत इतरा छोटू। घमंड तो बड़ों बड़ों का चूर हुआ है तू किस खेत की मूली है। जब तक ऊंट पहाड़ के नीचे नहीं आता वह इसी मुगालते में रहता है कि वही सबसे ऊंचा है दुनिया भर में।- हां हां इसी को कहते ह...  और पढ़ें
7 दिन पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
1

चुनौती - लघुकथा 83

                 आज जब रिचा दिल्ली से चंडीगढ़ वापस लौट रही थी तो मन बहुत हल्का था। तमाम संदेहों दुश्चिंताओं की बदली छंट चुकी थी। उसे अपने पर हंसी आ रही थी। वह अब तक एक रस्सी को सांप मान कर ...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
5

सेल सेल सेल - बालगीत 117

रंग बिरंगा पहने स्वेटरभालू खूब इतराएडाल गले में मफलर बंदर सब पर रौब जमाएकोट पहन कर हाथी दादाचलते सूंड़ उठाएजो भी देखे इनर बाघ कामन ही मन ललचाएआता है दरबार बदलकरशेर रोज ही स्वेटरजंगल में वू...  और पढ़ें
1 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
0

मीटिंग ( 2 ) - कहानी 81

  शेरू बिना रुके बोलता रहा- साथियो मुझे पक्की खबर मिली है कि हम सब आवारा कुत्तों को इस कालोनी से बाहर निकालने के लिए नगरपालिका से कुत्ता पकड़ने वाली गाड़ी बुलाई गई है। आजकल नगरपालिका वाले आवा...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
0

मीटिंग 3 - कहानी 81

  हुआ यह था कि उस दिन शाम को कुछ छोटे बच्चे पार्क में खेल रहे थे। हम तीनो भी आपस में पकड़म पकड़ाई खेल रहे थे। इसी बीच मेरा सबसे छोटा भाई एक दौड़ रहे बच्चे के पीछे दौड़ने लगा। कुत्ते को अपने पीछे ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
2

मीटिंग - कहानी 81

                      भौं भौं भौं ... भूरा ( कुत्ता ) पूरी कालोनी में मुनादी करता जा रहा था कि उत्तर वाली बाउंड्रीवाल के पास खाली प्लाट पर आज रात एक अति आवश्यक मीटिंग रक्खी गई है। इस मीटिंग ...  और पढ़ें
2 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
1

मम्मा बतलाओ ... ( बालगीत 99 )

मम्मा बतलाओ तुम करतीकितना ज्यादा मुझसे प्यारबहुत हो गया कोई बहानाचलेगा न मम्मा इस बारकैसे समझाऊं मैं तुमकोकैसे दिखलाऊं मैैं सबकोरहता है हर मां के दिल मेंअपने बच्चों से जो प्यारमम्मा बतलाओ ...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
4

लघुकथा - मी टू

उस दिन मैं पड़ोस में श्रीवास्तव अंकल के यहां गई थी। आंटी का देहांत हो गया था। गरुण पुराण का पाठ चल रहा था। पंडित जी एक एक पाप पर मिलनेवाली सजा विस्तार से सुना रहे थे। पर पुरुष से संबंध बनानेवाली...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
3

साठ साल का नन्हा बालक - बालगीत 105

मेरे अंदर साठ साल कानन्हा बालक रहता हैकभी शांत तो कभी बहुतवह ऊधमबाजी करता हैखुश हो जाता जब भी पातावह कोई नन्हा साथीकभी खेल में चूहा बनताकभी कभी बनता हाथीकभी लगाता दौड़ साथ मेंकभी गेंद संग मे...  और पढ़ें
3 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
5

भरम तोड़ने के लिए धन्यवाद रवीश जी - प्रसंगवश

                          यह कहने में मुझे संकोच नहीं है कि दूसरे तमाम लोगों की तरह मैं भी इस खुशफहमी में जी रहा था कि देश में प्राथमिक शिक्षा की हालत चाहे जितनी बदतर हो लेकिन उच्च शिक्...  और पढ़ें
4 सप्ताह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
2

सरल है बहुत ... - कविता

सरल है बहुतआंखों पर पट्टी बांधकर अनजान बननादेखते हुए सबकुछअनदेखा करनाबचना जिम्मेदारी सेकरना हत्या समय कीमोबाइल लैपटाप पर बैठकरहोता है कत्ललाखों करोड़ों घंटों का चुटकियों मेंफंस कर माया...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
5

मां तुम कैसी थीं बचपन में - बालगीत 102

मां तुम कैसी थीं बचपन मेंकरती थीं शैतानी जब तुमनानी डांट लगातीं थीं क्यारोज रात को तुम्हें सुलानेनानी लोरी गाती थीं क्याउठे सवाल ये मेरे मन मेंमां तुम कैसी थीं बचपन मेंकौन कौन से खेल खेलती थ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
7

लाई के लड्डू गुल्लइया - बालगीत 104

लाई के लड्ड़ू गुल्लइयाले लो बहना ले लो भइयाकाजू कतली भी ना देगीस्वाद जो देती है गुल्लइयागुड़ लाई से इन्हें बनातेबच्चे बूढ़े सभी हैं खातेचुरमुर चुरमुर गीत सुनाएमुह में आते ही गुल्लइयाकेक पे...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
8

बरफ का गोला - बालगीत 101

दिलवादो मां बरफ का गोलादेख जिसे मेरा मन डोलागर्मी दूर भगानेवालाठंडक दिल में लानेवालागोला बने बरफ घिस घिस करनाच उठे मन जिसको खाकरहरा लाल रंग जो भी चाहोउस रंग के गोले बनवालोगोले वाला रोज है आत...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
5

The story 'Pratigya' is a sequel to earlier written story 'Brigadier Saheb' by the author.

प्रतिज्ञा                                                                               ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
8

ओ नन्हे दीपक ... - बालगीत 112

सभी मित्रो, परिजनों, शुभचिंतकों को दीप पर्व दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं इन पंक्तियों के साथ-अंधकार से लड़नेवालेओ नन्हे दीपक मतवालेअपने धुन में मस्त रहे तूजगमग जगमग करने वालेआशा का संचार ...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
9

पाओ कदमों पे मंजिल को - बालगीत 103

बड़े काम की होती रस्सीसुनो ध्यान से जो यह कहतीबंधे नेह की रस्सी से जोखोले नहीं कभी है खुलतीबिखरों को यह साथ में लाएरेशा मिल रस्सी बन जाएहाथी जैसा ताकतवर भीमोटी रस्सी तोड़ न पाएएका की ताकत को द...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
8

जादूगर - बालगीत 100

मम्मी खेल दिखाने आयाहम लोगों को जादूगरखूब हंसाया चौंकाया सबकेमन भाया जादूगरकभी हवा में हाथ उठाचीजें मंगवाता  जादूगरकभी हिला रूमाल हवा मेंफूल गिराता जादूगरआंख में पट्टी बांध चलातामोटरस...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
8

गणपति जी बुद्धी दिहे रहेव - अवधी व्यंग रचना

गणपति जी बुद्धी दिहे रहेवकविता की बारिश किहे रहेवमन मा है जउन कुछ जनतै हौनस नस हमार पहिचनतै हौझोली मा पुरस्कार आवैं एतना जुगाड़ प्रभु किहे रहेवतुम भोग लगाओ लेड़ुअन काएतराज न एमा कुछ हमकाज...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
9

खतरनाक है सेल्फी लेना - बालगीत 98

बुरा है जैसे सेल्फिश होनाखतरनाक है सेल्फी लेनासेल्फी लेने के चक्कर मेंदुनिया भर में मौते होतीहदें पार कर जाते सारीलगी जिंदगी दांव पर होतीकोई कितना ही समझाएकहां मानते किसी का कहनाआती हुई ट्...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
9

जुनून 2 ( खजाना यादों का 8 )

वर्ल्ड सोशल फोरम के इस अनूठे महाकुंभ में राष्ट्रीय वन श्रमजीवी मंच के बैनर तले देश के विभिन्न भागों से बड़ी संख्या में सामाजिक कार्यकर्ता शामिल हुए जिसमें ग्रामीण महिलाओं की अच्छी खासी भाग...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
10

चम्पी की दूकान - बालगीत 97

चम्पू बंदर ने चम्पी कीखोली नई दुकानबडे प्यार से चम्पी करतेरखते सबका ध्यानसिर चकराए जी घबराएवह चम्पी करवाएबढ़ी भीड़ इतनी ज्यादामुश्किल से नंबर आएदौलत शोहरत ने उन पर तबअपना रंग चढ़ायाडांट ड...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
11

हंसते हंसते घर को आए ... बालगीत 95

पापा आए हैं आफिस सेथके थके से मुरझाए सेमम्मी चाय बनाकर लाईदौड़ मैं उनकी गोद समाईपापा को एक गीत सुनायाजो टीचर ने मुझे सिखायाहम दोनो तब गए पार्क मेंझूला झूले खेले संग मेंपापा ने फिर कही कहानीए...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
7

प्रेम कहां कब मरता है - गीत

प्रेम कहां कब मरता हैदिल में बसा वह रहता हैबहे नदी सा कलकल छलछलमन की बगिया सींचे पल पललुकाछिपी सा करता हैप्रेम कहां कब मरता हैकभी तोड़े दे बांध वो सारेकभी  कोई ज्यों दूर पुकारेखेल अनेकों कर...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
10

करो उदासी को अब टाटा - बालगीत 94

क्यों उदास बैठे हो ऐसेक्यों छाया इतना सन्नाटाटूट गया तुमसे कुछ गिरकरपड़ा गाल पर मां का चांटाहोमवर्क कर पाए ना जबटीचर ने स्कूल में डांटाहल्का  हो जाता है हर दुखमित्रों से यदि उसको बांटाआओ च...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
15

सपनों के गांव - बालगीत 93

चलो न मां सपनों के गांवदिखलाओ मुझको वह ठांवदिन में जहां छिपे रहते वेसारा दिन करते हैं क्या वेअक्सर रातों को क्यों आतेडरकर दिन में क्यों छिप जातेनींद लगी ज्यों सपने आएंनींद खुली गायब हो जाएंल...  और पढ़ें
2 माह पूर्व
bhonpooo.blogspot.com
11
Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन  
हो सकता है इनको आप जानते हो!  
Himanshu Goyal
Himanshu Goyal
Jaipur,India
animesh mukharjee
animesh mukharjee
farrukhabad,India
packersmovershyderabad
packersmovershyderabad
Hyderabad,India
Manish K Singh
Manish K Singh
Bahraich,India
valium buy online
valium buy online
xQfEBXybOp,