अपना ब्लॉग जोड़ें

अपने ब्लॉग को  जोड़ने के लिये नीचे दिए हुए टेक्स्ट बॉक्स में अपने ब्लॉग का पता भरें!
आप नए उपयोगकर्ता हैं?
अब सदस्य बनें
सदस्य बनें
क्या आप नया ब्लॉग बनाना चाहते हैं?
नवीनतम सदस्य

नई हलचल

पाकिस्तान की सेना इमरान खान को प्रधानमंत्री बनाना चाहती थी, मकसद पूरा होने के बाद नवाज़ शरीफ और फैमिली को रिहा कर दिया

पाकिस्तान की सेना सुधर जाए, तो फिर क्षेत्र में शांति न आ जाएहरेश कुमारजो लोग वहां की सुप्रीम कोर्ट की वाहवाही कर रहे थे उनके लिए यह खबर है कि नवाज शरीफ की सज़ा मुल्तवी कर दी गई है। फिर सजा क्यों ...  और पढ़ें
3 घंटे पूर्व
Haresh
Information2media
1

तृष्णा का उपचार क्या हैं...?

कौन सी पिपासा है कौन धुन सवार है,मनुष्य को ये किसकी तलाश हैंधन की धुरी पर चलता जीवन,मृत तृष्णा  सा छलता जीवनलक्ष्य कोई नही बस एक दौड़ जारी हैंसब सिर एक बोझ भारी हैंपरस्पर संबंधो की किसको चिंता...  और पढ़ें
6 घंटे पूर्व
jafar
the missed beat
1

दोहे "बुड्ढों के अनुबन्ध" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

लटक रहे हैं कबर में, जिनके दोनों पाँव।साठ साल के बाद वो, चले इश्क के दाँव।।कल तक जो शागिर्द थी, रूपवती जसलीन।पत्नी बनी अनूप की, होकर अब लवलीन।।नहीं युवतियों से निभें, बुड्ढों के सम्बन्ध।मतलब स...  और पढ़ें
6 घंटे पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
2

कहकशाँ

तुम हो, अस्तिव है कहीं न कहीं तुम्हारा....बादलों के पीछे, उस चाँद के सरीखे,लुकती छिपती, तू ही तू है दिखे,मन को न इक पल भी गंवारा,कि अस्तिव, कहीं भी नही है तुम्हारा....तुम हो, अस्तिव है कहीं न कहीं तुम्ह...  और पढ़ें
7 घंटे पूर्व
पुरूषोत्तम कुमार सिन्हा
1

पीडीएफ फाइल्स कम्बाइन करें इन आसान तरीकों से

नमस्कार दोस्तों, आपका स्वागत अपना अंतर्जाल पे। दोस्तों आजकल पीडीएफ फ़ाइल का इस्तेमाल कुछ ज्यादा ही होता है जैसे किसी कम्पनी को डिजिटल रिज्यूमे भेजना हो या कोई ऑफिसियल डाक्यूमेंट्स भेजने हो ...  और पढ़ें
9 घंटे पूर्व
दिनेश प्रजापति
अपना - अंतर्जाल
1

चर्चा - 3100

12 घंटे पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
2

1161...बताए कोई मेरी मंजिल कहाँ है...

सादर अभिवादन। भारत में सरकारी कामकाज का ढंग कुछ ऐसा है कि सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं का दम निकल जाता हैहमारी कार्य संस्कृति का अक्सर जुलूस निकल जाता है। आइये अब आपको  पसंदीद...  और पढ़ें
13 घंटे पूर्व
Yashoda Agrawal
पाँच लिंकों का आनन्द
0

तृष्णा से मर जाएगा....मधु गुप्ता

बिन पानी के जीवन तेरा तृष्णा से मर जाएगा बोलो मानव फिर तुझको ईश्वर कौन बचेगा ?शुष्क धरा और सूखा अंबर बूंद न टपकाइएगा जल जल के जीवन तेरा त्राहि त्राहि मचाएगा गोधूलि की भोर बेला सू...  और पढ़ें
13 घंटे पूर्व
Yashoda Agrawal
मेरी धरोहर
0

ग़ज़ल "दिलों में पुल बनाओ भी"( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

दिलों में पुल बनाओ भीकभी मेरी सुनो दिलबर कभी अपनी सुनाओ भी। जो कहती दिल की हर धड़कन मुझे इतना बताओ भी ।।उजाला कर रहा दिनकर हमेशा ही जमाने ...  और पढ़ें
14 घंटे पूर्व
राधे गोपाल
राधे का संसार
1

दीक्षांत समरोह के नाम पर खादी कुर्ता, पायजामा व साड़ी घोटाला

दीक्षांत समरोह के नाम पर खादी कुर्ता,पायजामा व साड़ी घोटाला15 अक्‍टूबर, 2018 को महात्‍मा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हिंदी विश्‍वविद्यालय,वर्धा में होने वाले तृतीय दीक्षांत समारोह में उपाधि प्राप्‍...  और पढ़ें
14 घंटे पूर्व
GAJENDRA PRATAP SINGH
सरोकार की मीडिया
0

सारा सिस्टम लूल है, यही तो ट्रैफिक रूल है...

सारा सिस्टम लूल है, यही तो ट्रैफिक रूल हैमेरे घर से निकलते हीदस कदम दूरी पररिंग रोड मेंएक चौराहा पड़ता हैवहां अक्सर ड्यूटी बजाने वालेकिसी ट्रैफिक पुलिस सेमेरी जान पहचान हैवह निहायत ईमानदार ह...  और पढ़ें
16 घंटे पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
5

डॉक्टर ने कर दिया अधूरा ही डिस्चार्ज...

सवा आने सच है नहीं जरा भी झूठशिक्षा जगत में पालकों से रोज-रोज की लूटमेरी बूढ़ी मां का पूरा हुआ नहीं इलाजडॉक्टर ने कर दिया अधूरा ही डिस्चार्जरिपोर्ट भी लिखते नहीं अब तो थानेदारहम भी अप्रैल फूल ...  और पढ़ें
17 घंटे पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
1

मना है...

न  दौड़ना मना है, न  उड़ना मना हैन गिरना मना है , न चलना मना है! जो बादल घनेरे, करें शक्ति प्रदर्शन तो भयभीत होना, सहमना मना है! पत्थर मिलेंगे, और कंकड़ भी होंगे.राहों में कंटक, सहस्त्रों चुभेंगे!...  और पढ़ें
18 घंटे पूर्व
Sudha
Meri Jubani
0

आहार

      मेरे देश सिंगापुर में प्रचलित एक भोजन, अंडा और रोटी परांठा मुझे बहुत पसन्द है। इसलिए मुझे यह पढ़कर विसमय हुआ कि एक 57 किलो वज़न के व्यक्ति को 5 मील प्रति घंटा की रफ्तार से 30 मिनिट तक दौड़त...  और पढ़ें
20 घंटे पूर्व
Roz Ki Roti
रोज़ की रोटी - Daily Bread
4

क्यों मेरा मंदिर है, क्यों तेरा मस्जिद है...

अलग क्यों दिवाली है, अलग क्यों ईद हैक्यों मेरा मंदिर है, क्यों तेरा मस्जिद हैगीता-कुरान की लड़ाई काकई खंडहर चश्मदीद हैकुल मिलाकर देखो तो इंसान ही मर रहेलड़ने की जिद छोडो तो शांति की उम्मीद हैको...  और पढ़ें
20 घंटे पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
3

मुझे अपने गांव से बहुत प्यार है, महानगर में रहने के बावजूद गांव को मैं भूल नहीं पाता

हरेश कुमारहम तो भले बीस साल पटना में रहे,लेकिन आज भी सबको शिवहर (पूर्व में सीतामढ़ी) गांव बेलवा घाट बताते हैं। मुझे अपने गांव को लेकर कोई हीनभावना नहीं। 1990के दशक तक हमारे गांव की मिट्टी सोना उपजत...  और पढ़ें
23 घंटे पूर्व
Haresh
Information2media
1

लोकतंत्र में विरोध करना हम सभी का संवैधानिक हक है,लेकिन अंधविरोध या अंधसमर्थन करना सही नहीं

हरेश कुमारजब आप किसी के बारे में सिर्फ़ नकारात्मक सोचने लगते हो तो आपकी सोच भी उससे प्रभावित होती है। नरेंद्र मोदी की सरकार आने के बाद से तथाकथित प्रगतिशील बौद्धिकों की स्थिति देखते ही बनती ह...  और पढ़ें
23 घंटे पूर्व
Haresh
Information2media
1

तुझे जिंदगी बसाने का शौक है शहर में...

तुझे जिंदगी बसाने का शौक है शहर मेंतो जीने से पहले ही मर लेकल की नींद के लिए आजसमझौता करना पड़े तो कर लेभागना बुरा नहीं हैइस भागम भाग शहर मेंतू भी तेज भागने काजतन कोई कर लेमगर कब तक भागेगा भाई...!स...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
kanchan jwala kundan
कुंदन के कांटे
1

72 पर टिका रुपया

डॉलरने एक दफा फिर से रुपए को टंगड़ी मार गिरा दिया है। रुपया 71 के स्तर पर चारों खाने चित्त पड़ा है। बड़ी उम्मीद से वो सरकार और रिजर्व बैंक की तरफ देख रहा है; कोई तो आकर उसे उठाए। उससे सांत्वना के दो बो...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
Anshu Mali Rastogi
चिकोटी
1

बेहतर ब्राउजिंग के लिए यूनिक एंड्राइड ब्राउज़र

नमस्कार मित्रों, स्वागत है आपका अपना अंतर्जाल पे। आजकल लगभग सभी के पास एंड्राइड स्मार्टफोन तो है ही, और आपके स्मार्टफोन का ब्राउज़र एक ऐसा एप है जो अधिकतर इस्तेमाल होता है।लेकिन  क्या आपने क...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
दिनेश प्रजापति
अपना - अंतर्जाल
1

गीत "हुआ निर्मल गगन" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

खिल उठे फिर से वही सुन्दर सुमन।छँट गये बादल हुआ निर्मल गगन।।उष्ण मौसम का गिरा कुछ आज पारा,हो गयी सामान्य अब नदियों की धारा,नीर से, आओ करें हम आचमन।रात लम्बी हो गयी अब हो गये छोटे दिवस,सूर्य की ग...  और पढ़ें
1 दिन पूर्व
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
1

FACE OF COMMON MAN - 8

#corner-to-corner { height:100%; border:5px SOLID Green ; padding:30px; background: BurlyWood ; -© राकेश कुमार श्रीवास्तव "राही"...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
राकेश श्रीवास्तव
0

1160..मुख़्तसर कहो इकरार क्या है?

।।भादवी सुप्रभात।।हम ऐसी सब किताबें क़ाबिले ज़ब्ती समझते है,कि जिनको पढ के बच्चे बाप को ख़ब्ती समझते हैं।अकबर इलाहाबादीकुछ इस तरह की साफगोई सोच के साथ लिंकों की ओर नज़र डालते हैं...✍💠दिल से द...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
Yashoda Agrawal
पाँच लिंकों का आनन्द
0

तुम …-मंजू मिश्रा

अक्सर सोचती हूँ... तुम्हे शब्दों में समेट लूँ या फिरबाँध दूँ ग़ज़ल में न हो तो ढाल दूँ गीत के स्वरों में ही मगर कहाँ हो पाता है तुम तो समय की तरह फिसल जाते हो मुट्ठी से...- मं...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
Yashoda Agrawal
मेरी धरोहर
0

ग़ज़ल"मचलता रहा है वो"( राधा तिवारी "राधेगोपाल " ),

मचलता रहा है वोमुझे याद करके रात दिन सिसकता रहा है वो। घनघोर घटा बनकर बरसता रहा है वो।। वह अदाओं से लुभाता है मुझको। आंखों में बन के नूर ...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
राधे गोपाल
राधे का संसार
1
1

ऐसी बरबरता लोकतंत्र में तो नहीं सही जा सकती

बिलासपुर में प्रदर्शन के दौरान कांग्रेसियों के साथ बरबरता करती बिलापुर पुलिस। फोटो राजेंद्र ठाकुर, फोटो पत्रकार, पत्रिका बिलासपुर।तुरंत-फुरंतः बरुण सखाजीप्रदर्शन, विरोध अथवा सहमति इन्ही...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
Barun Sakhajee
आम आदमी सरकारी चंगुल में......
2

ईवीएम में धांधली के खिलाफ एनएसयूआई ने निकाला विरोध मार्च

रांची। झारखण्ड  NSUI के तत्वावधान में  झारखण्ड NSUI के द्वारा  रांची विवि से मोराबादी  ग़ांधी प्रतिमा तक विरोध मार्च निकाला। मुद्दा था दिल्ली छात्र संघ चुनाव में हुई धांधली एवं बीजेपी और उसक...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
BHAVNESH KUMAR DULARIA
खबरगंगा
1

कर्बला हमें सच्चाई की राह पर चलने की प्रेरणा देती है: तहजिबुल हसन

रांची। मस्जिद जाफरिया में मजलिस जिक्र हुसैन को सम्बोधित करते हुवे हाजी मौलाना सैयद तहजिबुल हसन रिज़वी ने कहा कि मैंने कई देशों का भर्मण किया है लेकिन जैसा हज़रत इमाम हुसैन(अ.स.)का ग़म हमारे मुल्क...  और पढ़ें
2 दिन पूर्व
BHAVNESH KUMAR DULARIA
खबरगंगा
1
पिछला123456789...25542555अगला


Postcard
फेसबुक द्वारा लॉगिन